73 Kg वजन घटाकर मंसूर ने पूरा क‍िया बड़ा चैलेंज, बने फैट से फ‍िट

Weight Loss Transformation: मंसूर के 73 Kg वजन घटा लेने के बाद, कई लोग उन्‍हें पहचानने से भी इंकार करते हैं। जान‍िए मंसूर की वेट लॉस स्‍टोरी।  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Jan 09, 2023 14:33 IST
73 Kg वजन घटाकर मंसूर ने पूरा क‍िया बड़ा चैलेंज, बने फैट से फ‍िट

मुंबई के रहने वाले मंसूर मोहम्‍मद अली की कहानी उन सभी लोगों के ल‍िए बेहद प्रेरणादायक है जो वजन कम करना चाहते हैं। ज‍िन लोगों को अब भी लगता है क‍ि वजन कम करना मुश्‍क‍िल है और ये केवल सुनने में आसान लगता है, तो एक बार मंसूर की कहानी पढ़ें। एक समय था जब मंसूर का वजन 163 क‍िलो था। लेक‍िन दृढ़ न‍िश्‍चय के साथ मंसूर ने 73 क‍िलो वजन घटाया है। मंसूर बताते हैं क‍ि वो लोगों को जब बताते हैं क‍ि उनका वजन कम हो गया है, तो लोग उन्‍हें पहचानने से मना कर देते हैं।ओनलीमायहेल्‍थ की खास सीर‍ीज 'फैट टू फ‍िट' में आज हम जानेंगे मंसूर की वेट लॉस कहानी उन्‍हीं की जुबानी। 

weight loss story

वेट मशीन की ल‍िम‍िट से ज्‍यादा न‍िकला वजन 

मंसूर ने बताया, 'स्‍कूल में एक्‍ट‍िव था। गेम्‍स खेलता था। लेक‍िन स्‍कूल के बाद लोग फ‍िट होते गए और मेरी फ‍िटनेस खो गई। कारण था अनहेल्‍दी लाइफस्‍टाइल। मैं मीठा खाने का शौकीन था। मुझे चीज खाना भी पसंद था। इसके कारण 24 साल की उम्र में मेरा वजन 164 हो गया था। मेरा शरीर भारी था। इसके कारण मेरा आत्‍मव‍िश्‍वास कम हो गया था। मुझे लोगों से म‍िलना पसंद नहीं था। मेरी जींस का साइज टेप के ज‍ितना था। 5 और 6 साइज की शर्ट पहनता था। एक द‍िन मैं ज‍िम गया, तो वजन नापने वाली मशीन पर एरर का मैसेज आया। मैंने रेलवे स्‍टेशन पर मशीन नापने वाली मशीन पर खड़े होकर वेट चेक क‍िया, तो मेरा वजन 164 था।'   

इसे भी पढ़ें- प्रत‍िमा ने 52 Kgs घटाकर खुद को बनाया फैट से फ‍िट, जानें उनकी वेट लॉस जर्नी

बढ़ते वजन के कारण पैरों की नसें ब्‍लॉक हो गई थीं 

मंसूर ने बताया, 'साल 2014 में मेरे पैर की नसें ब्‍लॉक हो गई थीं। नसें काली भी पड़ गई थीं। एक द‍िन पैरों में गंभीर दर्द की श‍िकायत लेकर मैं डॉक्‍टर के पास गया। डॉक्‍टर ने मुझे बताया क‍ि वेर‍िकोज वेन्‍स की गंभीर समस्‍या के कारण मेरे पैरों की नसें ब्‍लॉक थी। डॉक्‍टर ने मुझे डांटा की अगर मैंने वजन कम नहीं क‍िया, तो मेरा पैर काटना पड़ेगा। उस द‍िन मैं बहुत घबरा गया। मेरे पर‍िवार के लोग भी मेरी स्‍वास्‍थ्‍य के प्रत‍ि च‍िंत‍ित थे।'

कसरत करने की शुरुआत कैसे हुई?

मंसूर ने बताया, 'मेरे दोस्‍त मेरे शरीर के बारे में मजाक बनाते थे। मैन बूब्‍स के ल‍िए भी लोगों ने मेरा मजाक बनाया है। उस द‍िन घर आकर मैंने पापा से कहा मुझे ज‍िम जाना है। अगले द‍िन मैं ज‍िम गया। शायद वो द‍िन मेरी ज‍िंदगी बदलने वाला द‍िन था। उस द‍िन मेरी मुलाकात मेरे ट्रेनर से हुई ज‍िनका नाम नीमो युवराज है। उनसे अब तक जुड़ा हूं, और उनकी गाइडेंस फाॅलो करके फ‍िट बना हूं। ज‍िम के पहले द‍िन डंबल मुंह पर ग‍िर गया था। शुरुआत में मैंने कॉर्ड‍ियो और स्‍ट्रेंथ ट्रेन‍िंग पर जोर द‍िया। कॉर्ड‍ियो 60 म‍िनट क‍िया और फ‍िर 30 म‍िनट इंटेंस वर्कआउट करता था। एक महीने में 25 क‍िलो वजन कम क‍िया। मेरा वजन 138 पर आकर रुक गया था। स्‍ट्रेंथ बढ़ने लगी थी। इससे मुझे ह‍िम्‍मत म‍िली और वजन घटाकर मैं 90 क‍िलो पर पहुंच सका।'

वजन कम करने में 1 साल लगा 

मंसूर ने बताया, 'मैंने वर्कआउट करना जारी रखा। वजन कम करने में मुझे 12 महीनों का समय लगा। वजन कम करना उतना मुश्‍क‍िल नहीं है। अगर आप सही न्‍यूट्र‍िशन ले रहे हैं और रोजाना कसरत करते हैं, तो आसानी से वजन कम कर सकते हैं। वजन कम करने के साथ लूस स्‍क‍िन की समस्‍या होती है, लेक‍िन उससे परेशान न हों। त्‍वचा को कसरत से कुछ हद तक टोन्‍ड क‍िया जा सकता है। लेक‍िन लूस स्‍क‍िन आपके साथ रहेगी, इसल‍िए उसकी च‍िंता न करें।' 

प्रोटीन डाइट ली  

मंसूर ने बताया, 'ब्रेकफास्‍ट में अंडा और दूध या कॉफी लेता हूं। लंच में च‍िकन और सब्‍ज‍ियों का सेवन करता हूं। शाम को फ‍िर से अंडे खाता हूं। रात को च‍िकन और राइस खाता हूं। इसके अलावा प्रोटीन सप्‍लीमेंट का सेवन करता हूं। लोग मुझे देखकर यकीन नहीं करते क‍ि मैं वही हूं। लोग कहते हैं क‍ि मैं पहले जैसा ब‍िल्‍कुल नहीं द‍िखता।'

अपनी डाइट को स‍िंपल रखें। नंबर्स पर ध्‍यान न दें। लो-कैलोरी खाना खाएं। भले ही समय ज्‍यादा लगे लेक‍िन आप हमेशा के ल‍िए अपने शरीर में मौजूद फैट से छुटकारा पा सकेंगे।  

Disclaimer