बॉडी मास इंडेक्स क्‍या होता है, जानिए इससे जुडे खतरे और मोटापे से बचाव के उपाय

यदि आप ने कभी अपने डॉक्‍टर के चार्ट पर नज़र दौड़ाई होगी तो सबसे पहले आपकी नजर बॉडी मास इंडेक्स पर गई होगी। बॉडी मास इंडेक्स आपकी हाइट व वजन को नापने क

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jul 21, 2020Updated at: Jul 22, 2020
बॉडी मास इंडेक्स क्‍या होता है, जानिए इससे जुडे खतरे और मोटापे से बचाव के उपाय

आपके मन में भी सवाल उठ रहा होगा कि आखिर यह बॉडी मास इंडेक्स यानी कि बीएमआई क्या है? दरअसल इससे आपको पता चलता है कि आप ओवर वेट हैं या अंडर वेट। बीएमआई आपके शरीर के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण है। मुख्य रूप से बीएमआई की 4 कैटेगरी होती हैं: 18.5 से कम वाले अंडर वेट के श्रेणी में आते हैं। 18.5 से 24.9 वाले नॉर्मल की श्रेणी में आते हैं और 24.9 से 29.9 वाले ओवर वेट की श्रेणी में आते हैं। जबकि इससे अधिक मोटापा कहलाता है।  

कई जगह बीएमआई ज्यादा लाभदायक नहीं होती है क्योंकि कई बार हो सकता है आपकी बीएमआई नॉर्मल हो पर आप में बहुत सारा फैट जमा हो और आप की मसल्स भी बहुत कमजोर हों। जो कि आपके स्वास्थ्य के लिए हेल्दी नहीं है। 

healthy diet

फिर ऐसा भी हो सकता है कि आपकी बहुत मजबूत मसल्स हो और आपका बीएमआई आपको ओवर वेट शो करे। परंतु बीएमआई आपके मोटापे को नापने के लिए ठीक होती है। 70 प्रतिशत से अधिक युवा ओवर वेट या मोटापे की श्रेणी में आते हैं। आंकड़ों के अनुसार हर 6 में से 1 बच्चे को मोटापे की समस्या होती है। 

हाई बीएमआई आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक है? (A High BMI Can Pose Risks to Your Health)

  • आपको यह जानना जरूरी है कि आप बीएमआई की कौन सी श्रेणी में आते हैं। यदि आप ओवर वेट या मोटापे वाली श्रेणी में आते हैं तो आपको हृदय रोग व टाइप 2 डायबिटीज जैसी कई खतरनाक बीमारियों का खतरा हो सकता है। 
  • हाल ही में की गई रिसर्च के अनुसार इस कैटेगरी में आपको कैंसर का भी खतरा हो सकता है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के अनुसार जिन लोगो में बॉडी फैट ज्यादा होता है उन को कैंसर का खतरा भी अधिक होता है। 
  • आपको यह भी सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि क्या आपके बॉडी फैट से आपके दिमाग को भी कोई खतरा है? 2019 में हुए एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग ओवर वेट होते हैं उनके दिमाग की वॉल्यूम अन्य लोगो से कम होती है। उनका दिमाग थोड़ा बहुत सिकुड़ने लगता है। इसलिए अपने वजन को नियंत्रित  रखें। 

फैक्टर्स जो आपको हाई बीएमआई से रिस्क में डालते हैं ( Factors May Put You at Risk for a High BMI)

आपके जीन्स (Your Genes)

हर कोई एक अलग शरीर के साथ पैदा होता है। तो हो सकता है कुछ लोगों का मेटाबॉलिज्म जन्म से ही ज्यादा हो। यदि आपके माता पिता ओवर वेट श्रेणी में आते हैं तो आप भी ओवर वेट में ही आएंगे। ऐसा आपके माता पिता के कुछ लाइफस्टाइल कारकों की वजह से भी हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: बीएमआई को समझें और इस पर नज़र रखें

आप कितना खाते हैं (How You Eat and Move)

आपके खाने की मात्रा भी आपके वजन को नियंत्रित करने में एक अहम भूमिका निभाती है। यदि आप खाते ज्यादा हैं और गतिविधियां कम करते हैं तो आप निश्चित ही ओवर वेट की श्रेणी में आएंगे। लेकिन यदि आप व्यायाम आदि कर लेते हैं तो हो सकता है आपका बीएमआई सामान्य ही आए। 

आपका वातावरण (Your Environment)

यदि आप एक स्वस्थ व शांत वातावरण में रहते हैं तो आपका बीएमआई भी नॉर्मल ही होगा। लेकिन यदि आप किसी ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जिसमें बहुत अधिक प्रदूषण रहता है,  तो हो सकता है आपको प्रदूषण व खराब वातावरण की वजह से कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़े। हमारा लाइफस्टाइल भी हमारे बीएमआई को बढ़ाने वाला एक महत्त्वपूर्ण कारक है। 

इसे भी पढ़ें: भूख भी मिटानी है और वजन भी घटाना है तो जरूर खाएं ये 5 फल, फाइबर से भरे लो-कैलोरी वाले ये फल हैं फायदेमंद

दवाइयां  (Medication)

कुछ ब्लड प्रेशर या नींद आदि की दवाइयां भी आपके बीएमआई को बढ़ा सकती हैं। क्योंकि इन  दवाइयों को खाने के बाद आपको अधिक नींद आती है और आप सुस्त रहते हैं।  जिससे आप व्यायाम या कोई मेहनत वाला काम नहीं करते हैं। इसके अलावा आपको भूख भी अधिक लगती है।

चिकित्सा शर्ते (Medical conditions)

हाइपोथायरायडिज्म, पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पीसीओएस),  और कुशिंग सिंड्रोम चिकित्सा समस्याओं के कुछ उदाहरण हैं जो वजन बढ़ाने का कारण बनते हैं। इनकी वजह से वजन कम करना अधिक कठिन हो जाता है। यह भी बीएमआई को बढ़ाने वाला एक महत्‍वपूर्ण कारक है। 

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer