Doctor Verified

शरीर और वातावरण दोनों के लिए खतरनाक है स्मोकिंग, जानें इसकी वजह से सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव

तंबाकू का सेवन करने से और स्मोकिंग करने से न सिर्फ आपकी सेहत पर गंभीर असर पड़ता है बल्कि इसकी वजह से पर्यावरण को भी नुकसान होता है, जानें।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 31, 2022Updated at: May 31, 2022
शरीर और वातावरण दोनों के लिए खतरनाक है स्मोकिंग, जानें इसकी वजह से सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव

एक आंकड़े के मुताबिक पूरी दुनिया में लगभग 80 लाख से ज्यादा लोगों की असमय मौत तंबाकू के सेवन की वजह से होती है। तंबाकू का सेवन करने या तंबाकू से बने उत्पादों का इस्तेमाल करने के कारण कैंसर की बीमारी भी लोगों में तेजी से फैल रही है। दुनिया के देशों में भारत दूसरा सबसे बड़ा तंबाकू का उत्पादक देश है और इसकी खपत के मामले में भी भारत दूसरे स्थान पर है। तंबाकू का सेवन और स्मोकिंग न सिर्फ आपके शरीर को गंभीर नुकसान पहुंचाते हैं बल्कि इसकी वजह से पर्यावरण को भी गंभीर नुकसान होते हैं। तंबाकू की वजह से पर्यावरण को होने वाले नुकसान का असर हमारी सेहत पर भी पड़ता है। पूरी दुनिया में तंबाकू का सेवन करने से खतरों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day 2022) मनाया जाता है। इसके तहत दुनियाभर में लोगों को तंबाकू के सेवन से होने वाले नुकसान और खतरों के प्रति जागरूक किया जाता है। इस साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस के तहत लोगों को इसके खतरे और तंबाकू उत्पादों का इस्तेमाल करने से सेहत के साथ-साथ पर्यावरण पर पड़ने वाले इसके प्रभाव के प्रति जागरूक करने का उद्देश्य है। आइये विस्तार से जानते हैं स्मोकिंग और तंबाकू का सेवन किस तरह से सेहत के साथ-साथ पर्यावरण को भी गंभीर नुकसान पहुंचा रहा है। 

तंबाकू और स्मोकिंग से पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव (Smoking Effects on Environment in Hindi)

Smoking Effects on Smoking Effects on Environment in Hindi

तंबाकू का सेवन करने से और तंबाकू उत्पादों का इस्तेमाल करने से न सिर्फ आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है बल्कि इसकी वजह से पर्यावरण पर भी गंभीर असर होता है। एक शोध के मुताबिक स्मोकिंग करने से धुंए में 7 हजार से ज्यादा केमिकल्स निकलते हैं जो पर्यावरण को गंभीर नुकसान पहुंचाते हैं। सिगरेट के धुंए से निकलने वाले कार्सिनोजेन हवा में मौजूद रहते हैं और सांस के माध्यम से ऐसे लोगों के शरीर में भी प्रवेश करते हैं जो स्मोकिंग नहीं करते। ऐसे लोगों पर इसका सबसे ज्यादा असर देखने को मिलता है। स्मोकिंग करने से इंसान के फेफड़ों की क्षमता कमजोर होती है और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है लेकिन ऐसे लोग जो सिगरेट नहीं पीते हैं उन स्मोकिंग की वजह से पर्यावरण पर पड़ने वाले असर की वजह से गंभीर प्रभाव पड़ता है। एससीपीएम अस्पताल के क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग के डॉ हिमांशु के मुताबिक सिगरेट और तंबाकू का इस्तेमाल करने से पर्यावरण पर पड़ने वाले गंभीर प्रभाव इस तरह से हैं।

इसे भी पढ़ें : आंखों को भयंकर नुकसान पहुंचाती है स्मोकिंग, रेटिना होती है बुरी तरह प्रभावित

  • तंबाकू का सेवन करने और स्मोकिंग करने वाले लोगों के आसपास रहने से कैंसर का जोखिम बढ़ता है।
  • पैसिव स्मोकिंग की वजह से बच्चों की सेहत पर बुरा असर।
  • तंबाकू और स्मोकिंग की वजह से पानी और मिट्टी में भी बुरा असर।
  • सिगरेट के धुंए में मौजूद कण हवा को प्रदूषित करते हैं।

स्मोकिंग करने से सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव (Smoking Side Effects on Health in Hindi)

तंबाकू और सिगरेट आदि का इस्तेमाल करने वाले लोगों की सेहत पर इसका गंभीर असर होता है। स्मोकिंग करने वाले लोगों की सेहत पर इसका असर तो पड़ता ही है बल्कि ऐसे लोगों के आसपास रहने वाले लोगों पर भी इसका असर देखने को मिलता है। तंबाकू का सेवन और स्मोकिंग करने से आपकी सेहत पर ये प्रभाव पड़ते हैं।

  • स्मोकिंग करने से फेफड़ों और सांस से जुड़ी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।
  • स्मोकिंग करने से हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर और हार्ट से जुड़ी अन्य बीमारियों का खतरा।
  • धूम्रपान या सिगरेट पीने वाले लोगों को अस्थमा की बीमारी जल्दी होती है।
  • मस्तिष्क में जहरीला पदार्थ निकोटिन जाने की वजह से मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर।
  • फेफड़ों और मुंह के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
  • स्मोकिंग की वजह से डायबिटीज और ब्लड प्रेशर की बीमारी।
  • तंबाकू के सेवन से लकवा या पैरालिसिस।
  • धूम्रपान करने से डिमेंशिया या अल्जाइमर जैसे रोग का खतरा।

लंबे समय तक स्मोकिंग करने वाले लोगों की सेहत पर इसका गंभीर असर देखने को मिलता है। लेकिन स्मोकिंग करने से और तंबाकू का सेवन करने से आपकी सेहत ही नहीं बल्कि आपके आसपास रहने वाले लोगों की सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है। इसकी वजह से स्मोकिंग न करने वाले लोग भी सांस की बीमारी का शिकार हो रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक दुनियाभर में हर साल 80 लाख से ज्यादा लोग तंबाकू का सेवन करने से कम उम्र में मौत का शिकार हो जाते हैं। तंबाकू का सेवन और सिगरेट दोनों ही सेहत के लिए एक बड़ा खतरा है। 

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer