बच्चों को पेट में कीड़े की दवा कब देनी चाहिए? जानें क्यों जरूरी है डीवॉर्मिंग करना

बड़े लोगों की तुलना में बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या का खतरा ज्यादा रहता है, जानें बच्चों को पेट में कीड़े की दवा कब देनी चाहिए?

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Mar 16, 2022Updated at: Mar 16, 2022
बच्चों को पेट में कीड़े की दवा कब देनी चाहिए? जानें क्यों जरूरी है डीवॉर्मिंग करना

आप सब पेट में कृमि इन्फेक्शन यानी पेट के कीड़े के बारे में जरूर जानते होंगे। पेट में कीड़े की समस्या खानपान और स्वास्थ्य से जुड़ी स्थितियों के कारण हो सकती है। बच्चों क पेट में कीड़े की समस्या बड़ों की तुलना में ज्यादा होती है। बच्चों के पेट में कीड़ों को दूर करने के लिए समय-समय पर डीवॉर्मिंग करना जरूरी होता है। लेकिन इसके बारे में सही जानकारी होने पर आप आसानी से बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या से बचाव कर सकते हैं। डीवॉर्मिंग से बच्चों के पेट से कीड़ों की समस्या को खत्म करने में फायदा मिलता है। बच्चों में समय-समय पर इस समस्या को दूर करने के लिए डीवॉर्मिंग करना चाहिए। लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये होता है की बच्चों को पेट में कीड़े की दवा कब देनी चाहिए? इसके बारे में आइए जानते हैं मदरहुड हॉस्पिटल के डॉ प्रशांत मोरालवार से।

बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या होने के लक्षण (Deworming Symptoms in Children)

Tips-To-De-Worm-Your-Child

बच्चों में पेट के कीड़ों की समस्या दूर करने के लिए सबसे पहले आपको इसके बारे में जानकारी जरूर होना चाहिए। अगर आप समय रहते बच्चों के पेट में कीड़ों की समस्या के लक्षण समझ लेते हैं तो बच्चों को गंभीर परेशानियों से बचा सकते हैं। बच्चों के पेट में कीड़ों की समस्या होने पर ये लक्षण दिखाई देते हैं।

  • बच्चों के पेट में कीड़े होने पर उनके पेट में गंभीर दर्द होता है।
  • बच्चों को बार-बार उल्टी की समस्या होती है।
  • बच्चे का वजन अचानक तेजी से घटना लगता है।
  • बार-बार दस्त की समस्या हो सकती है।
  • इसके अलावा बच्चों के पाचन में दिक्कत।

बच्चों को पेट में कीड़े की दवा कब देनी चाहिए? (How Often Should You Deworm Your Child?)

बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या बड़ों की तुलना में ज्यादा होती है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्‍नोलोजी इंफॉरमेशन यानि एनसीबीआई के द्वारा जारी एक आंकड़े के मुताबिक हर साल लगभग 800 से 900 मिलियन बच्चों को पेट में कीड़े की समस्या होती है। पेट में कीड़े होने पर ये आंत से जरूरी पोषक तत्वों को खा जाते हैं। इसकी वजह से बच्चों में एनीमिया की समस्या, अत्यधिक थकान और पाचन से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या होने पर उनके काम करने की क्षमता और चीजों को सीखने की क्षमता भी प्रभावित होती है। डॉक्टर के मुताबिक बच्चों के पेट में कीड़े के लक्षण दिखने पर उन्हें डीवॉर्म जरूर करना चाहिए। बच्चों की डीवॉर्मिंग के लिए आपको किसी एक्सपर्ट डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। 

बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या से बचाव (Tips To Deworm Child Naturally)

बच्चों के खानपान और उनके जीवनशैली का ध्यान रखने से आप उन्हें पेट में कीड़े की समस्या का शिकार होने से बचा सकते हैं। हर माता-पिता को बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या में दिखने वाले लक्षणों के बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए। इसके अलावा बच्चों की साफ-सफाई यानि हाइजीन का ध्यान रखने से भी उन्हें पेट के कीड़ों की समस्या का शिकार होने से बचा सकते हैं। इसके लिए आपको इन बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।

  • बच्चों की हाइजीन का ध्यान जरूर रखें। 
  • खाने से पहले बच्चों का साबुन की सहायता से हाथ जरूर साफ करें।
  • बच्चों को बड़े होने पर पर्सनल हाइजीन के बारे में सिखाएं।
  • बच्चे को हमेशा साफ पानी या उबला हुआ पानी पिलाना चाहिए।
  • बच्चों की पानी की बोतल किसी के साथ साझा नहीं करनी चाहिए।
  • बच्चे को हमेशा अच्छी तरह से पका हुआ खाना ही खिलाना चाहिए।

जिन बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है उन्हें पेट में कीड़े की समस्या का खतरा ज्यादा रहता है। ऐसे बच्चों में कुपोषण की समस्या, आंत से जुड़ी समस्याओं का खतरा, एनीमिया और वजन कम होने की समस्या हो सकती है। बच्चों के पेट में कीड़े के लक्षण दिखने पर आपको डॉक्टर की सलाह के बाद बच्चे की डीवॉर्मिंग जरूर करनी चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer