पीरियड्स के दौरान वर्कआउट छोड़ना जरूरी नहीं, बस ध्यान रखें ये जरूरी सावधानियां

कभी-कभी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान वर्कआउट करना उन्हें सहज नहीं लगता। कई बार पीरियड्स के दौरान वर्कआउट करने के लिए माना भी किया जाता है।

Naina Chauhan
Written by: Naina ChauhanUpdated at: Nov 19, 2020 15:26 IST
पीरियड्स के दौरान वर्कआउट छोड़ना जरूरी नहीं, बस ध्यान रखें ये जरूरी सावधानियां

व्यायाम करने से शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है और शरीर में अतिरिक्त चर्बी नहीं रहती। लेकिन कभी-कभी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान वर्कआउट करना सहज नहीं लगता। कई बार पीरियड्स के दौरान वर्कआउट करने के लिए मना भी किया जाता है। लेकिन कुछ वर्कआउट या व्यायाम ऐसे होते हैं जिन्हें पीरियड्स के दौरान करना सुरक्षित होता है। लेकिन इसके लिए आपको किसी गाइड की आवश्यकता होती है। अगर आपके पास गाइड नहीं भी है तो आप नीचे दिए गए वर्कआउट करें ये फूलप्रूफ गाइड की तरह ही कार्य करेंगे। 

 insideeriods

कुछ महिलाएँ पीरियड्स के दौरान भी बहुत अधिक वर्कआउट करती हैं और भारी सामान भी उठाती हैं जिससे पीरियड्स के दौरान तकलीफ ज्यादा होती है। इसलिए मासिक धर्म के समय आसान से व्यायाम करें और एक्सपर्ट की सलाह जरुर लें।

इसे भी पढ़ें : क्या प्रेग्नेंसी में सौंफ खाने से भ्रूण को हो सकता है नुकसान? जानिए क्या हैं इसके फायदे और नुकसान

पीरियड्स के दौरान किये जाने वाले वर्कआउट:

1. वाकिंग

वॉक करना सेहत के लिए सबसे अच्छा वर्कआउट माना गया है। पीरियड्स के दौरान महिलाएँ वॉक कर सकती हैं इसे करने में उन्हें तकलीफ नहीं होगी। कम से कम 5000 कदम या एक घंटे की वॉक जरुर करें। वॉक से पीरियड्स में होने वाली समस्याओं से भी आराम मिलता है जैसे पेट दर्द, कमर दर्द और अनियमित पीरियड्स।

2. कार्डियो

पीरियड्स के दौरान कार्डियो करना सुरक्षित होता है इसमें आप स्टेपिंग, रनिंग, जम्पिंग इत्यादि कर सकते हैं। इससे आपकी दिनचर्या भी सही रहेगी और आपको इन वर्कआउट को करने में परेशानी का सामना भी नहीं करना पड़ेगा। एक्सपर्ट भी इन वर्कआउट को पीरियड्स के दौरान करने की सलाह देते हैं।

insideexerice

3. डांस

डांस एक ऐसा वर्कआउट है जिसे करने से पूरे शरीर का व्यायाम होता है। डांस करने के बाद एक अद्भुत ख़ुशी मिलती है। पीरियड्स के दौरान डांस करना बिल्कुल सुरक्षित होता है इसलिए मासिक धर्म के दौरान आप डांस कर सकती हैं। 

4. स्ट्रेचिंग

स्ट्रेचिंग को पूर्ण रूप से वर्कआउट तो नहीं कहा जा सकता लेकिन अगर आप कार्डियो या अन्य कोई वर्कआउट पीरियड्स के दौरान कर रहे हैं तो उसके साथ स्ट्रेचिंग जरुर करें। स्ट्रेचिंग से मांसपेशियाँ भी स्ट्रेच हो जाती हैं जिससे दर्द में सुकून मिलता है। 

 

5. योग

योग एक ऐसा वर्कआउट या व्यायाम है जिसे कभी भी किया जा सकता है। लेकिन पीरियड्स के दौरान योग का प्राणायाम वाला भाग ही करना चाहिए जिससे शरीर और मन शांत रहते हैं। पीरियड्स के दौरान हल्के आसन ही करें जिससे पेट पर दवाब न पड़ें। अनुलोम-विलोम, शवासन, शीर्षासन इत्यादि पीरियड्स के दौरान किये जा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें : पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग की है समस्या तो ये हो सकता है मेनोरेजिया के लक्षण, जानें कारण और उपचार

पीरियड्स के दौरान किये जाने वाले ये सभी वर्कआउट बहुत आसानी से किये जा सकते हैं और पीरियड्स में इन्हें करने से किसी प्रकार की तकलीफ नहीं होती। जो महिलाएं जिम में या व्यायाम में घंटों समय बिताती हैं इनके लिए अपनी डाइट पर ध्यान देना भी जरूरी होता है, जिससे उनके शरीर को सही तरीके से ऊर्जा मिलती रहे। इसलिए वर्कआउट के बाद कुछ समय लेकर जरूर कुछ खाएं, कार्बेहाइड्रेड, प्रोटीन की सही मात्रा लें। आप इसके लिए अपने गाइड या एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकते हैं। प्रतिदिन 45 मिनट की वॉक तो करना ही चाहिए क्योंकि वॉक से बहुत सी बिमारियों पर नियंत्रण किया जा सकता है जैसे गैस,अपच, मोटापा, मधुमेह इत्यादि।

Read More Article On Women Health In Hindi

Disclaimer