ऑफिस में काम के दबाव से बढ़ता है गुस्‍सा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 21, 2013
Quick Bites

ऑफिस में मेहनत आप करें और उसका फल कोई और उड़ा ले जाए, तो आपको कैसा लगेगा। जाहिर सी बात है कि आप बेहद गुस्‍सा हो जाएंगे।

  • कंप्‍यूटर हैंग होने, प्रिंटर ठप पड़ जाने और लंच के लिए समय नहीं मिलने के कारण गुस्‍सा आता हैं।
  • 51 फीसदी कर्मचारी खुद पर काबू नहीं रख पाते और बहस कर बैठते हैं। 
  • 42 फीसदी लोगों को दो दिन की छुट्टी के बाद सोमवार को ऑफिस लौटने पर गुस्‍सा आता हैं। 
  • 20 फीसदी कर्मचारियों का मूड अपने बॉस के कारण खराब रहता है।

ऑफिस में परेशान आदमी ऑफिस में काम के दौरान कई कर्मचारी अपना आपा खो बैठते हैं। आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा जब आप किसी बात को लेकर गुस्‍से में आ गए होंगे। आमतौर पर ऐसा उस समय होता है जब कोई सहकर्मी आपके काम पर बॉस की वाहवाही लूट ले लेता है। कंप्‍यूटर का हैंग होना,‍ प्रिंटर का ठप हो जाना और खाना खाने के लिए समय नहीं मिलना भी कई बार गुस्‍से के कारण बन जाते हैं।

 

ब्रिटेन में हुए एक सर्वे के दौरान 51 फीसदी लोगों ने ऑफिस में काम के दौरान स‍‍हकर्मियों से हर दिन किसी न किसी बात को लेकर नाराजगी की बात स्‍वीकारी। इनमें से 42 फीसदी लोगों ने कहा कि दो दिन की छुट्टी के बाद सोमवार को ऑफिस लौटने पर उनका मिजाज सबसे गर्म होता है।

 

वहीं 80 फीसदी कर्मचारियों ने मान‍ा कि काम के अधिक दबाव के चलते वे अक्‍सर ऐसी चीजों पर भी भड़क उठते हैं, जिन्‍हें नजरअंदाज किया जा सकता था। इन बातों में कंप्‍यूटर का हैंग होना,‍ प्रिंटर में कागज फंसना, एसी का ठीक से न चलना और किसी सहकर्मी का डेस्‍क से गायब रहना शामिल है।

 

सर्वे में शामिल हुए 33 फीसदी कर्मचारियों ने काम से जी चुराने और दूसरों की मेहनत पर तारीफ बटोरने वाले सहकर्मियों को ऑफिस में गुस्‍से की सबसे बड़ी वजह बताया। इधर-उधर की बातें करने और दिन भर फेसबुक- ट्विटर से चिपके रहने वाले सहकर्मी भी उन्‍हें रास नहीं आते। दिन भर बॉस के आगे-पीछे घूमने और कर्मचारियों की चुगली और बुराई करने वाले सहकर्मी तो उन्‍हें फूटी आंख भी नहीं सुहाते हैं। वहीं 20 फीसदी कर्मचारियों का मूड अपने बॉस के कारण खराब रहता है।


 

Read More Health News In Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES1157 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK