सेक्शुअल बीमारियों की जांच के लिए किए जाते हैं STD Test, जानें क्यों और किसके लिए जरूरी हैं ये टेस्ट

सेक्शुअल बीमारियों की जांच के लिए के लिए एसटीडी (STD) टेस्ट करवाना बेहद जरूरी हाेता है। जानें इसके बारे में विस्तार से-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Jul 30, 2021 01:04 IST
सेक्शुअल बीमारियों की जांच के लिए किए जाते हैं STD Test, जानें क्यों और किसके लिए जरूरी हैं ये टेस्ट

एसटीआई क्या है (What is STI )? एसटीआई यानी सेक्सुअली ट्रॉंसमिटेड इंफेक्शन (STI)। यह इंफेक्शन आमतौर पर शारीरिक संबंध बनाने या यौन क्रिया के माध्यम से फैलता है। यौन क्रिया करने वाली सभी महिलाओं काे इसका समय-समय पर परीक्षण जरूर करवाना चाहिए। महिलाओं में एचआईवी, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, एचपीवी, क्लैमाइडिया और हर्पीज सबसे सामान्य एसटीआई है। यानी इन सभी  बीमारियाें में एसटीआई का वायरस यौन क्रिया के माध्यम से फैल सकता है। एसटीआई का इंफेक्शन बैक्टीरिया या वायरस के कारण फैलता है। यह याेनि, वीर्य के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। आकाश हेल्थकेयर , द्वारका की स्त्री राेग विशेषज्ञ डॉक्टर मधुलिका सिंहा से जानें इसके बारे में-

STI Test

एसटीआई के सामान्य लक्षण (STI Common Symptoms)

वैसे ताे अधिकतर लाेगाें में इसके काेई लक्षण नजर नहीं आता है। इसमें मरीज एसिमटाेमैटिक हाेते हैं, जिससे इसका पता लगाना मुश्किल हाे जाता है। इसका पता लगाने से लिए एसटीआई परीक्षण करवाने की जरूरत पड़ती है। एसिमटाेमैटिक व्यक्ति इन बीमारियाें काे दूसराें तक आसानी से फैला सकता है। इसलिए अगर आप यौन क्रिया में सक्रिय है, ताे समय-समय पर एसटीआई टेस्ट करवाते रहें।

  • असामान्य याेनि स्त्राव
  • याेनि से अलग रंग का स्त्राव
  • कमर में सूजन
  • लिम्फ नाेड्स जननांगाें में खुजली
  • याेनि से असामान्य रक्त स्त्राव
  • जननांग के आस-पास घाव
  • पेशाब करते हुए जलन 
  • पेशाब करते हुए दर्द हाेना

दरअसल, खुजली, जलन और इरिटेशन भी एसटीआई के लक्षण हाे सकते हैं। एसटीआई के ये लक्षण बैक्टीरियल इंफेक्शन की तरह ही हाेते हैं। ऐसे में इन लक्षणाें काे सामान्य समझकर नजरअंदाज बिल्कुल न करें। आप डॉक्टर की सलाह पर एसटीडी (STD Test) टेस्ट करवा सकती हैं। 

इसे भी पढ़ें - बिना प्रेगनेंसी के ब्रेस्ट से दूध (सफेद पानी) निकलना हो सकता है कई रोगों का संकेत, जानें इनके बारे में

एसटीडी टेस्ट क्याें है जरूरी 

एसटीडी का टेस्ट समय-समय पर करवाना बेहद जरूरी हाेता है। महिलाएं एसटीआई की शिकार हाेती हैं। अगर आपकाे यह समस्या है, लेकिन लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं ताे यह दूसरे लाेगाें में भी फैल सकता है। इसलिए आपकाे इसका परीक्षण करवाते रहना चाहिए। जानें महिलाओं के लिए क्याें है एसटीआई टेस्ट करवाना-

STI Test

1. प्रेगनेंसी में करवाएं एसटीडी टेस्ट

प्रेगनेंसी में एसटीडी टेस्ट करवाना जरूरी हाेता है। दरअसल, ज्यादातर लाेगाें में इसके लक्षण नजर नहीं आते हैं लेकिन वे इसे अन्य लाेगाें तक फैला सकते हैं। ऐसे में  प्रेगनेंसी में इसे जरूर करवाना चाहिए। क्याेंकि अगर मां एसटीआई पॉजिटिव हाेती हैं, ताे वे अपने बच्चे काे भी इसे दे सकती हैं। इससे बच्चे काे एचआईवी समेत अन्य राेग हाे सकते हैं। इतना ही नहीं इससे बच्चे का विकास नहीं हाेगा और कुछ मामलाें में बच्चा मृत भी पैदा हाेता है।  

2. सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए 

सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में हाेने वाला सबसे आम कैंसर है। मानव पेपिलाेमा वायरस यानी एचपीवी (HPV) महिलाओं में हाेने वाला सबसे सामान्य यौन संचारित संक्रमण है। यह कई अन्य बीमारियाें का भी कारण बन सकता है। एचपीवी महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर का कारण बन सकता है। सर्वाइकल कैंसर के शुरुआत में महिलाएं कई संकेत महसूस कर सकती हैं। साथ ही गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर की वजह भी बन सकती है। इसलिए आपकाे एसटीडी टेस्ट करवाते रहना चाहिए, ताकि अगर आप इससे संक्रमित भी हैं ताे समय पर इलाज करवा के अन्य गंभीर बीमारियाें से बचा जा सके।

इसे भी पढ़ें - वजाइना (योनि) में गीलापन महसूस होने के हो सकते हैं कई कारण, डॉक्टर से समझें पूरी बात

3. पेल्विक एरिया में सूजन से बचाव के लिए

एसटीआई का संक्रमण अधिकतर मामलाें में बिना लक्षणाें के हाेता है। ऐसे में हमें पता नहीं चल पाता है कि हम इस वायरस से पीड़ित है। जिससे हम समय रहते अपना इलाज नहीं करवा पाते हैं। जबकि एसटीआई के उपचार में देरी हाेने की वजह से कई अन्य गंभीर राेगाें के शिकार हाे जाते हैं। अगर काेई महिला क्लैमाइडिया, गाेनाेरिया जैसे एसटीआई से पीड़ित है, ताे समय पर इलाज बहुत जरूरी हाेता है। अन्यथा श्राेणि सूजन यानी पेल्विक एरिया में सूजन की बीमारी हाे जाती है। पेल्विक एरिया में सूजन हाेने पर शारीरिक संबंध बनाने में दर्द, बांझपन जैसी कई  समस्याएं पैदा हाेने लगती है।

अगर आप यौन क्रिया में सक्रिय हैं, ताे आप डॉक्टर की सलाह पर समय-समय पर एसटीआई टेस्ट या परीक्षण जरूर करवाना चाहिए। 

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer