हार्मोनल गर्भनिरोधक उपाय कितने सुरक्षित होते हैं? जानें इस तरह के कॉन्ट्रासेप्शन से होने वाले 10 नुकसान

हॉर्माेनल कॉन्ट्रासेप्शन के बारे में महिलाओं काे पता हाेना बहुत जरूरी है। क्याेंकि इसके फायदाें की जगह ही कुछ साइड इफेक्ट्स भी नजर आते हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jul 05, 2021Updated at: Jul 05, 2021
हार्मोनल गर्भनिरोधक उपाय कितने सुरक्षित होते हैं? जानें इस तरह के कॉन्ट्रासेप्शन से होने वाले 10 नुकसान

क्या आप हॉर्माेनल कॉन्ट्रासेप्शन या हार्मोनल गर्भनिरोधक (Hormonal Contraceptives) के बारे में जानती हैं? हॉर्माेनल कॉन्ट्रासेप्शन प्रेग्‍नेंसी काे राेकने का एक काफी अच्छा तरीका है। इसमें बर्थ कंट्राेल पिल्स, कॉन्ट्रासेप्शन स्किन पैच, हार्माेन रिलीज कॉन्ट्रासेप्शन कॉयल और वेजाइनल रिंग आदि शामिल हैं। महिलाएं इसके इस्तेमाल से अपनी  प्रेग्‍नेंसी काे राेक सकती हैं। लेकिन इनसे महिलाओं के हार्माेन प्रभावित हाे सकते हैं। इसलिए इसे हमेशा डॉक्टर की सलाह पर ही आपकाे करवाना चाहिए। स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर शिल्पा से जानें हार्मोनल गर्भनिरोधक के साइड इफेक्ट्स-

pills

हार्मोनल गर्भनिरोधक के नुकसान या साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Hormonal Contraceptives)

1. ब्रेस्‍ट में दर्द (Breast Pain)

हॉर्माेनल कॉन्ट्रासेप्शन या हार्मोनल गर्भनिरोधक लेने से ब्रेस्‍ट में दर्द हाेना जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं।  यह इसके सबसे सामान्य साइड इफेक्ट्स में से एक है। ब्रेस्‍ट साइज के बढ़ने, ब्रेस्‍ट के काेमल या टाइट हाेने और ब्रेस्‍ट में दर्द जैसे नुकसान हाे सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - गर्भावस्था की पहचान हैं शरीर में होने वाले ये 3 बदलाव, जानें प्रेग्नेंट होने के अन्य लक्षण

2. ब्लड क्लाेटिंग (Blood Clotting)

हार्मोनल गर्भनिरोधक ब्लड क्लाेटिंग की समस्या काे पैदा कर सकता है। यह ब्लड क्लाेटिंग के रिस्क काे बढ़ाता है। जाे महिलाएं स्माेकिंग करती हैं और हार्मोनल गर्भनिरोधक लेती हैं, उन्हें ब्लड क्लाेटिंग का अधिक रिस्क रहता है। साथ ही हृदय राेगी महिलाओं में भी ब्लड क्लाेटिंग जैसी समस्या देखने काे मिल सकती है।

headache

3. सिरदर्द या माइग्रेन (Headache or Migraine)

हार्मोनल गर्भनिरोधक माइग्रेन या सिरदर्द की समस्या भी पैदा कर सकता है। इस दौरान माइग्रेन एक गंभीर समस्या बन सकती है। यह लंबी अवधि तक चल सकती है। एस्ट्राेजन लेवल के बढ़ने-घटने पर सिरदर्द की समस्या हाेने लगती है।

4. वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन (Vaginal Yeast Infection)

हार्मोनल गर्भनिरोधक वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन का भी कारण बन सकता है। इसे लेने यह महिलाओं में वेजाइना से जुड़ी यह समस्या हाे सकती है। वेजाइनल रिंग्स से वेजाइनल इरिटेशन या इंफेक्शन हाे सकता है।

5. मूड स्विंग (Mood Swings)

हार्मोनल गर्भनिरोधक  महिलाओं के मूड पर भी असर कर सकता है। इसमें महिलाओं के शरीर में एस्ट्राेजन और प्रोजेस्टेरॉन हार्माेन के बिगड़ने से मूड स्विंग हाेने लगता है। इस दौरान कई महिलाएं एंग्जायटी, अवसाद, तनाव और चिंता की शिकार हाे सकती है। ताे कुछ महिलाओं की यह समस्या ठीक भी हाे सकती है। 

hairfall

6. हेयर फॉल (Hair Fall) 

इस दौरान कुछ महिलाएं हेयर फॉल महसूस कर सकती है। कुछ महिलाओं में इस दौरान बाल झड़ते हैं, ताे कुछ महिलाओं में अनचाहे बाल आने लगते हैं। हेयर फॉल की समस्या से छुटकाटा पाया जा सकता है।

7. जी मिचलाना (Nausea)

इस दौरान महिलाओं काे जी मिचलाने की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है। हार्मोनल गर्भनिरोधक के शुरुआत में ही महिलाओं काे यह साइड इफेक्ट नजर आ सकता है।

इसे भी पढ़ें - समय से पहले या देर से पीरियड्स होने के 7 कारण, जानें क्यों अनियमित हो जाती है माहवारी

8. वजन में बदलाव (Changes in Weight)

हार्मोनल गर्भनिरोधक लेने से महिलाओं के वजन में बदलाव देखने काे मिल सकता है। इस दौरान कुछ महिलाओं का वजन बढ़ने लगता है। इसमें महिलाओं काे बहुत तेजी से वजन बढ़ सकता है।

9. हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) 

हार्मोनल गर्भनिरोधक लेने से महिलाओं काे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए आपकाे अपने ब्लड प्रेशर  की नियमित रूप से जांच करती रहनी चाहिए।

10. कामेच्छा की कमी (Lack of Libido)

हार्मोनल गर्भनिरोधक लेने से महिलाओं के शरीर में टेस्टाेस्टेरॉन हॉर्माेन का लेवल कम हाेने लगता है। साथ ही वेजाइना में ड्रायनेस भी हाेने लगती है, जिससे शारीरिक संबंध बनाने में रूचि  कम हाेने लगती है।

अगर आप भी हार्मोनल गर्भनिरोधक लेना चाहती हैं ताे इसे डॉक्टर की सलाह पर ही लें। क्याेंकि गलत तरीके से करने पर आपकाे इन साइड इफेक्ट्स से जूझना पड़ सकता है।

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer