समय से पहले या देर से पीरियड्स होने के 7 कारण, जानें क्यों अनियमित हो जाती है माहवारी

पीरियड्स के जल्दी या देर से होने के (अनियमित पीरियड्स) कई कारण हो सकते हैं। आमतौर पर 28 दिन से जल्दी और 32 दिन के बाद पीरियड्स असामान्य माने जाते हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jan 29, 2014
समय से पहले या देर से पीरियड्स होने के 7 कारण, जानें क्यों अनियमित हो जाती है माहवारी

महिलाओ में पीरियड्स एक सामान्य मासिक प्रक्रिया है, जिसका चक्र आमतौर पर 28-30 दिन का होता है। लेकिन कई बार कुछ प्राकृतिक-अप्राकृतिक वजहों से ये चक्र घटता बढ़ता रहता है, यानी कई बार पीरियड्स अपने सामान्य समय से पहले ही आ जाते हैं, तो कई बार डेट के कई दिनों या सप्ताह बाद तक नहीं आते हैं, जिससे कई बार लड़कियां घबरा जाती हैं। कुछ घरों में अभी भी लड़कियां पीरियड्स पर खुलकर बात नहीं कर पाती हैं इसलिए ऐसी समस्या होने पर अक्सर उन्हें घबराहट, बेचैनी होती है। लेकिन सच यही है कि पीरियड्स की अवधि घटती-बढ़ती रहती है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक पीरियड्स 23 से 35 दिनों के भीतर कभी भी हो सकता है। इन्हें ही अनियमित पीरियड्स (Irregular Periods) की समस्या कहा जाता है। हालांकि कई बार ये समस्या हार्मोन्स में बदलाव के कारण भी हो सकती है। मगर ज्यादातर मामलों में कुछ छोटी-छोटी आदतें और बातें पीरियड्स में गड़बड़ी का कारण बनती हैं। आइए आपको बताते हैं क्या हैं वे।

1. तनाव

कई बार महिलाओं को तनाव व चिंता के कारण स्‍ट्रेस हार्मोन पर सीधा असर पड़ता है। जिसके कारण एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन (दो सेक्‍स हार्मोन) की शरीर में उत्‍पत्‍ति पर असर होता है। अगर खून की धारा में स्‍ट्रेस हार्मोन बढ़ जाता है जिससे आपकी पीरियड की डेट पर असर पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें:- अक्षय कुमार ने बताया, पीरियड्स में क्यों जरूरी है साफ-सफाई का ध्यान रखना

2. कैफीन

कैफीन का ज्यादा सेवन कुछ महिलाओं में जल्दी पीरियड होने का कारण हो सकता है। कॉफी, सोडा, चाय और चॉकलेट का ज्यादा सेवन से महिलाओं में हार्मोन पर असर होता है। कैफीन के ज्यादा सेवन से इस्ट्रोजेन नामक हार्मोन बढ़ जाते हैं जो कि जल्द पीरियड होने की वजह है।

3. अस्वस्थ खान-पान

कई बार अस्वस्थ खान-पान के कारण शरीर को जरूरी पोषण नहीं मिलते हैं नतीजा वजन बढ़ना, शरीर पर चर्बी जमा होना। अत्यधिक वजन बढ़ने और घटने के कारण भी महिलाओं में यह समस्या देखने को मिलती है।

4. एल्कोहल

ज्‍यादा शराब पीने वाली महिलाओं के हार्मोन पर असर पड़ता है। हमारा लीवर एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन को संतुलित करता है। ज्‍यादा शराब पीने से लीवर डैमेज हो सकता है और इससे दोनों हार्मोन के बीच संतुलन बिगड़ सकता है। जिसकी वजह से जल्द पीरियड होने की संभावना बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़ें:- गर्भपात की दवा लेने से पहले कौन सी सावधानियां हैं जरूरी? कितने दिनों के भीतर ले सकते हैं दवा?

5. अत्‍यधिक व्‍यायाम

माहावारी के लिये हमारे शरीर को शक्‍ति चाहिये और अगर इसी शक्‍ति को आप जिम में जा कर बर्न कर देती हैं, तो शरीर के पास म‍हीने के इन दिनों में कुछ भी यूज करने के लिये नहीं रहेगा। अचानक वजन कम होना या बढ़ना हार्मोन में परिवर्तन कर देता है।

6. ओवरी में समस्या  

ओवरी में सिस्‍ट और किसी अन्य प्रकार की समस्या के कारण पीरियड जल्दी होने लगता है। हार्मोन में जरा सा भी बदलाव मासिक धर्म चक्र पर तुरंत असर डालता है। मासिक धर्म में अनियमितता के कारण चेहरे पर बाल उग आना, मुंहासे होना, पिगमेंटेशन, यौन इच्छा में अचानक कमी आ जाना, गर्भधारण में मुश्किल होना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

7. दवाइयां

अगर आप हाल ही में किसी बीमारी से ग्रस्त हो चुकी हैं और इसकी वजह से आपको दवाइयां लेनी पड़ी थीं। तो हो सकता है कि इसका असर आपके पीरियड भी पड़ें। इससे आपके पीरियड्स कुछ दिनों पहले या बाद में हो सकते हैं। ऐसा इसलिये क्‍योंकि कुछ दवाइयां एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के लेवर पर असर डालती हैं।

Read More Articles On Women's Health in Hindi

Disclaimer