प्रेगनेंसी में नमक कितना खाना चाहिए? जानें नमक खाने के फायदे और नुकसान

प्रेग्नेंसी के दौरान नमक का सेवन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। लेकिन अधिक मात्रा में नमका के सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेय भी हो सकता है। 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Apr 08, 2022Updated at: Apr 08, 2022
प्रेगनेंसी में नमक कितना खाना चाहिए? जानें नमक खाने के फायदे और नुकसान

खाने में नमक का स्वाद न हो, तो वह हमें काफी फीका लगता है। नमक स्वाद के साथ-साथ सेहत के लिए भी काफी जरूरी होता है। क्योंकि यह सोडियम से भरपूर होता है। सोडियम हमारे शरीर में पीएच और फ्लूइड लेवल को बैलेंस करता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान नमक का सेवन बहुत ही जरूरी है। क्योंकि नमक यानि सोडियम भ्रूण के विकास के लिए बहुत ही जरूरी होता है। हालांकि, अधिक मात्रा में नमक का सेवन भी प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए नमक का सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए। आज हम इस लेख में प्रेग्नेंसी में नमक का सेवन कितना सेवन करना चाहिए (How much salt is safe in pregnancy?) के बारे में विस्तार से जानेंगे। 

प्रेग्नेंसी में नमक कितना खाना चाहिए? (How much salt is safe in pregnancy?)

प्रेग्नेंसी के दौरान नमक खाना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। इसके सेवन से शरीर की कई परेशानी दूर होती है। साथ ही यह भ्रूण के विकास के लिए भी काफी जरूरी होता है। लेकिन ध्यान रखें कि प्रेग्नेंसी के दौरान सीमित मात्रा में नमक का सेवन करना चाहिए। प्रेग्नेंसी में हर महिला को प्रतिदिन 3.8 ग्राम नमक का सेवन करना चाहिए। ध्यान रखें कि 1 दिन में 5.8 ग्राम से अधिक नमक का सेवन न करें। इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है।

इसे भी पढ़ें - इन 5 समस्याओं से राहत पाने के लिए अचूक उपाय है सेंधा नमक, जानें किस समस्या में कैसे करें इस्तेमाल

प्रेग्नेंसी में नमक खाने के फायदे (Salt During Pregnancy benefits)

नमक के बिना खाने का स्वाद काफी फीका रह जाता है। यह हमारे आहार का अहम हिस्सा है। शरीर में सोडियम की कमी से कई तरह के नुकसान होने की संभावना होती है। इसलिए अगर आप और अपने गर्भ में पल रहे शिशु को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो प्रेग्नेंसी में नियमित रूप से नमक का सेवन करेें। आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी के दौरान नमक खाने के क्या फायदे होते हैं?

  • प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में नमक की कमी होने पर हमारे शरीर का कई अंग जैसे- नसें और मांसपेशियों सही से कार्य नहीं करती हैं। दरअसल, नमक की कमी के कारण शरीर में काफी ज्यादा कमजोरी और थकान महसूस होने लगती है, जिसकी वजह से प्रेग्नेंसी के दौरान इस तरह की परेशानी हो सकती है। 
  • सोडियम हमारे शरीर में  फ्लूइड बढ़ाने में मदद करती है। दरअसल, प्रेग्नेंसी के दौरान बढ़ते भ्रूण को सपोर्ट दने के लिए फ्लूइड की आवश्यकता होती है। ऐसे में अगर शरीर में सोडियम की कमी हो जाए, तो फ्लूइड की कमी हो सकती है। 
  • नमक में मौजूद सोडियम और आयोडीन शिशु के विकास के लिए जरूरी होता है। आयोडीन से नर्वस सिस्टम और मस्तिष्क का विकास बेहतर तरीके से हो सकता है। 

प्रेग्नेंसी में नमक खाने के नुकसान (Salt During Pregnancy Side Effects)

प्रेग्नेंसी के दौरान सीमित मात्रा में नमक का सेवन स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी हो सकता है। लेकिन अगर आप अधिक मात्रा में नमक का सेवन करते हैं, तो यह आपके और गर्भ में पल रहे शिशु के लिए नुकसानदेह हो सकता है। आइए जानते हैं अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने से होने वाले नुकसान के बारे में-

  • अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने से वाटर रिटेंशन की समस्या हो सकती है। इसकी वजह से प्रेग्नेंसी के दौरान हाथ-पांव, चेहरे, पैरों, टखनों इत्यादि में सूजन की शिकायत हो सकती है। 
  • अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने से हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी हो सकती है। 
  • नमक का अधिक मात्रा में सेवन करने से बार-बार पेशाब आने की परेशानी हो सकती है, जिसमें शरीर का काफी कैल्शियम बाहर का सकता है। इस वजह से प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को कैल्शियम की कमी हो सकती है। 

प्रेग्नेंसी के दौरान नमक का सेवन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। लेकिन अगर आप अधिक मात्रा में नमक का सेवन करते हैं, तो यह नुकसानदेह हो सकता है। 

Disclaimer