DRDO की बनाई एंटी-कोविड दवा '2 DG' आज से होगी उपलब्ध, जानें कैसे करेगी काम

कोरोना की इस दवा  2 DG को आपको ग्लूकोज की तरह पीना है। उसके बाद ये दवा आपके शरीर में वायरस को फैलने से रोकेगी। आइए जानते हैं कैसे है ये प्रभावी। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: May 17, 2021
DRDO की बनाई एंटी-कोविड दवा '2 DG' आज से होगी उपलब्ध, जानें कैसे करेगी काम

भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। अगले 24 घंटों की स्थिति की बात करें, तो  लगभग 25 दिन बाद कोरोना वायरस के मामले सबसे कम आए हैं पर मौतों का आंकड़ा बढ़ा है। इन आंकड़ों पर नजर डालें, तो पिछले 24 घंटे में  3,11,170 नए मामले सामने आए हैं, वहीं इस दौरान 4,077 लोगों की मौत हो गई। कुल मिला कर अब तक 2,70,284 लोगों की जान चली गई है। इस बीच राहत की बात ये है कि कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के  बाद अब भारत में खुद की बनाई कोरोना की दवाई भी आ गई है। दरअसल, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने कोरोना के मरीजों के लिए  एंटी-कोविड मेडिसन (anti covid medicine by drdo) तैयार की है, जिसका नाम '2 DG'है। ये दवाई कोरोना के खिलाफ काफी असरदार मानी जा रही है और आज  देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्द्धन सुबह 10.30 बजे इस दवाई के पहले बैच को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रिलीज करेंगे। तो, आइए विस्तार से जानते हैं कैसे काम करती है '2 DG'और फिर जानेंगे देश में कोरोना से जुड़े सभी छोटे-बड़े अपडेट्स (Covid-19 live updates)

Inside1drdo

कैसे काम करती है 2 DG -How 2dg medicine works?

2 DG एक रिपरपस्ड  ड्रग है  क्योंकि 2-डीजी मोलिक्युल ट्यूमर, कैंसर कोशिकाओं के इलाज के लिए होता है। यह एक ग्लूकोज एनालॉग है, जो ग्लूकोज जैसा दिखता है लेकिन ग्लूकोज नहीं है। दरअसल, शरीर में तेजी से बढ़ रहे एक वायरस को ऊर्जा के लिए ग्लूकोज की जरूरत होती है। इस प्रकार, वायरस इस ग्लूकोज एनालॉग को ले लेगा और गिरफ्तार हो जाएगा। दवा तब कोरोना वायरस को मल्टीप्लाई करने से रोक देगा और शरीर में इसे बढ़ने नहीं देगा। 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज (2-deoxy-D-glucose) या 2-डीजी नामक दवा, हैदराबाद स्थित फार्मा कंपनी, डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज के सहयोग से DRDO लैब द्वारा विकसित की गई थी और इके देश के शीर्ष ड्रग रेगुलेटर ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने आपातकालीन उपयोग के लिए दवा को मंजूरी भी दे दी है। 

इसे भी पढ़ें : रूसी वैक्सीन Sputnik-V अगले हफ्ते से बाजार में होगी उपलब्ध, जल्द मिल सकती है कई अन्य विदेशी टीकों को मंजूरी

शरीर में नहीं होने देगी ऑक्सीजन की कमी

कोरोना की ये दवाई (Covid medicine) कितना कारगर है या नहीं इसे लेकर पिछले साल मई और अक्टूबर के बीच कई टेस्ट किए है। जिसमें कि दूसरे चरण के परीक्षणों में यह दवा COVID-19 रोगियों के लिए सुरक्षित पाई गई थी। यह कोविड रोगियों के अस्पताल में रहने की अवधि को कम करने और ऑक्सीजन निर्भरता को कम करने में प्रभावी पाया गया। साथ ही  इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड एलाइड साइंसेज के निदेशक, डॉ अनिल मिश्रा ने ऑल इंडिया रेडियो को दिए एक साक्षात्कार में बताया है कि कैसे ये दवा शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने से रोक सकता है। डॉ. मिश्रा बताते हैं शरीर में जब कोरोना वायरस तेजी से बढ़ता है, तो ऑक्सीजन की मांग बढ़ जाती है। पर ये दवा वायरस को बढ़ने नहीं देगा जिससे ऑक्सीजन संकट से दूर हो सकता है।

कैसे लेनी होगी ये दवा?

2 DG को आपको एक ग्लूकोज की तरह लेना है यानी कि आपको इसे पानी में मिला कर पीना है।  दरअसल, ये दवा पाउडर के रूप में आती है और इसे पानी के साथ लिया जा सकता है। इसके बाद ये शरीर में ग्लूकोज की तरह जाएगा और कोरोना को ये ऐसा ही लगेगा पर ये होगा नहीं और वायरस एक तरह से फंस जाएगा। 2-डीजी दुनिया भर में उन कुछ दवाओं में से एक है जिन्हें विशेष रूप से COVID-19 के इलाज के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसका अभी तक कोई इलाज नहीं है। घातक संक्रमण के इलाज के लिए डॉक्टर कई प्रायोगिक दवाओं और प्रक्रियाओं का उपयोग करते हैं, जिनमें रेमडेविसिर, इवरमेक्टिन, प्लाज्मा थेरेपी और कुछ स्टेरॉयड शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें : कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को 6 महीने बाद लगे वैक्सीन, कोविशील्ड की 2nd डोज 3 महीने बाद: सरकारी पैनल का सुझाव

देश में कोरोना से जुड़े अन्य अपडेट्स (Covid-19 Updates)की बात करें, तो दिल्ली में कोरोना के पॉजिटिविटी दर 10.40 फीसदी की गिरावट आ गई है। पर पिछले 24 घंटों में 262 लोगों की कोरोना के कारण जान जा चुकी है। दिल्ली में अब एक्टिव कोरोना केस 62783 हैं। साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए एक हफ्ते का लॉकडाउन और बढ़ा दिया है। उधर कर्नाटक  7 से 13 मई के बीच सबसे ज्यादा लोगों की कोरोना से मौत हुई है। यहां इस बीच 3500 मौतें हुई हैं। इसी तरह देश के अन्य हिस्सों में भी कोरोना का कहर जारी है।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer