अगर है हाई यूरिक एसिड लेवल की परेशानी तो रेड मीट से बनाएं दूरी, जानिए क्यों है नुकसानदायक

रेड मीट के अधिक सेवन से हाई यूरिक एसिड की समस्‍या को बढ़ावा मिल सकता है। रेड मीट हार्ट हेल्‍थ के खतरे को भी दोगुना बढ़ा सकता है। 

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Oct 29, 2022 09:00 IST
अगर है हाई यूरिक एसिड लेवल की परेशानी तो रेड मीट से बनाएं दूरी, जानिए क्यों है नुकसानदायक

आज के समय में वेजिटेरियन की अपेक्षा नॉनवेजिटेरियन लोगों की संख्‍या काफी बढ़ गई है। पार्टी या फेस्टिवल मेन्‍यू में भी नॉनवेज डिशेज ज्‍यादा पसंद की जाने लगी हैं। वहीं कुछ हेल्‍थ प्रेमी लोग भी हाई प्रोटीन के लिए नॉनवेज का सेवन अधिक करते हैं। जरूरत से ज्‍यादा नॉनवेज का सेवन शरीर को फायदा पहुंचाने की अपेक्षा नुकसान पहुंचा सकता है। खासकर रेडमीट का अधि‍क सेवन, कई बीमारियों को न्‍यौता दे सकता है। रेडमीट का सेवन करने से हाई यूरिक एसिड की समस्‍या हो सकती है। रेडमीट में मौजूद यूरिक एसिड से किडनी फेलियर तक होने की संभावना भी कई गुना बढ़ जाती है। मार्केट में रेट मीट कई वैरायटी में उपलब्‍ध हैं। कुछ रेडमीट किडनी के लिए खतरनाक हो सकते हैं। चलिए जानते हैं कौन से रेड मीट हेल्‍थ पर नकारात्‍मक प्रभाव डाल सकते हैं।

कौन से रेड मीट का सेवन नहीं करना चाहिए 

मैमल्‍स के मांस को रेड मीट कहा जाता है। ये देखने में लाल होता है और प्रोटीन से भरपूर होता है। रेड मीट में गाय, भैंस, भेड़ और सुअर के मांस को शामिल किया जाता है। हालांकि रेड मीट में कई तरह के पोषक तत्‍व होते हैं जो हेल्‍थ के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। लेकिन इसका अधिक सेवन जोड़ों के दर्द, सूजन, कोलेस्‍ट्रॉल, फैटी लिवर और यूनिक एसिड की समस्‍या को बढ़ा सकता है। यूरिक एसिड की समस्‍या से बचने के लिए ऑर्गन मीट, कीमा मीट और सी फूड के सेवन से बचना चाहिए। 

red meat to avoid in high uric acid

इसे भी पढ़ें: यूरिक एसिड क्या है? जानें शरीर में Uric Acid बढ़ने के लक्षण, कारण और इलाज

रेड मीट से होने वाली हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स

हार्ट हेल्‍थ के लिए नुकसानदायक

रेड मीट में एल-कार्निटाइन नामक कै‍मिकल पाया जाता है जो कार्डियोवैस्‍कुलर समस्‍याओं को बढ़ावा देने में मदद करता है। रेड मीट का जरूरत से ज्‍यादा सेवन करने से हार्ट हेल्‍थ पर प्रभाव पड़ता है। ये कोलेस्‍ट्रॉल को बढ़ा सकता है जो हार्ट के लिए हानिकारक हो सकता है।

डायबिटीज को बढ़ाता है

रेड मीट के अधिक सेवन से टाइप-2 डायबिटीज का खतरा अधिक बढ़ जाता है। एक दिन में लगभग 100 ग्राम से ज्‍यादा प्रोसेस्‍ड रेड मीट खाने वालों में डायबिटीज का खतरा 20 प्रतिशत अधिक बढ़ सकता है। रेड मीट में फैट की मात्रा अधिक होती है जो वेट बढ़ा सकती है। 

रेड मीट से कम हो सकती है उम्र

कई अध्‍ययनों में ये बात सामने आई है कि रेडमीट खाने से उम्र कम हो सकती है। हाई प्रोटीन के लिए अन्‍य प्रोटीन सोर्स का उपयोग करना अधिक फायदेमंद हो सकता है। 

बढ़ता है हाई यूरिक एसिड

रेड मीट का अधिक सेवन करने से यूरिक एसिड बढ़ सकता है। इसके अलावा लिवर और किडनी की समस्‍या होने पर भी यूरिक एसिड बढ़ जाता है। यूरिक एसिड की समस्‍या होने पर रेड मीट, ऑर्गन मीट, कीमा मीट और सी फूड का सेवन नहीं करना चाहिए।

खाए जाने वाले प्रमुख रेड मीट

  • बीफ
  • पोर्क
  • लैंब 
  • मटन
  • वील
  • वेनिसन
  • सरलॉयन
  • ब्रिसकैट
  • ऑर्गन मीट
  • कीमा मीट
  • सी फूड 
  • पोलोनी रेडमीट

कोशिश करें कि हाई यूरिक एसिड लेवल में रेड मीट खाने से बचें बाकी आप जो भी डाइट लें, डॉक्टर की सलाह एक बार जरूर लें।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer