बच्चों को अपने दादा दादी से जरूर सीखनी चाहिए ये 5 बातें

हर साल 12 सितंबर को ग्रैंड पेरेंट्स डे मनाया जाता है ताकि हम अपने ग्रैंड पेरेंट्स को महत्व दें और उनसे कुछ सीखें। जानते हैं दादी दादी से क्या सीखें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Sep 08, 2021 10:48 IST
बच्चों को अपने दादा दादी से जरूर सीखनी चाहिए ये 5 बातें

आज के समय में जब हम एक न्यूक्लियर फैमिली में रह रहें हैं तो, हमारे पास ऐसा कोई नहीं है जिससे हम जिंदगी के कुछ जरूरी सीख लें। दादी-दादी या नाना-नानी हमारी जिंदगी में इसी कमी को दूर कर सकते हैं। जी हां, हमारे दादा-दादी ने एक लंबी जिंदगी जी होती है इसलिए उनके पास जीवन के हर पहलू का अनुभव होता है। उनके ये अनुभव हमें स्मार्ट बनाते हैं और मुश्किलों से लड़ना सीखाते हैं। पर मुश्किल ये है कि हम अपने ग्रैंड पेरेंट्स को उतना महत्व ही नहीं देते कि हम उनसे कुछ सीख सकें। पर आज हम आपको ऐसी ही बातों से अवगत करवाएंगे जो कि आप अपने दादी-दादी या नाना-नानी (learning from grandparents) से ही सीख सकते हैं। साथ ही ये चीजें आपको जीवन भर काम आएंगी और आपको पढ़ाई-लिखाई सहित शारीरिक और मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में भी मदद करेंगी। 

Inside3learningfromgrandparents

image credit:Today's Parent

दादा-दादी से सीखने वाली बातें-Qualities to learn from grandparents

1. दादा-दादी से सीखें अनुशासन

आज कल के बच्चों से सबसे ज्यादा अनुशासन की कमी होती है। बच्चों को समय का महत्व नहीं पता होता। वे कभी भी उठते हैं और कभी भी सोते हैं। किसी भी काम को कभी भी करने की चाह रखते हैं। जो कि गलत है। सही वक्त में किया गया काम आपको ज्यादा परिणाम दे सकता है, जबकि गलत समय में किया गया सही काम उतना फायदेमंद नहीं होता। इसलिए आपको सबसे पहले अपने दादा-दादी से आपको अनुशासन में रहना सीखना चाहिए। इससे आप जहां भी जाएं, जीवन में जो भी करें सफल जरूर होंगे। 

2.  खीखें भाषाओं का ज्ञान 

आपको जितनी भाषाएं आएंगी आप उतने खास व्यक्तित्व के रूप में तैयार होंगे। भाषाओं के साथ एक खास बात ये है कि ये समय के साथ बदलती रहती हैं और पुराने समय के लोगों के पास सही और सटिक ज्ञान होता है। इसलिए आप उनसे अपनी पारंपरिक भाषा के अलावा अन्य कई भाषाएं सीख सकते हैं। ये आपको कॉन्फिडेंस देगी और आपको बेहतर व्यक्तित्व के रूप में तैयार करेगी। इसके अलावा ये भाषाएं आपको पढ़ाई-लिखाई में भी मदद करती हैं। 

इसे भी पढ़ें : विज्ञान भी मानता है बच्चे के बेहतर विकास के लिए जरूरी हैं दादा-दादी, जानें 5 कारण

3. मूल्य और नैतिकता

एक ऐसी दुनिया में जहां माता-पिता दोनों का काम करने का चले जाते हैं, वहां दादा-दादी ही अपने पोते-पोतियों पर चौकस और सतर्क नजर रखते हैं। वे उनके व्यवहार का निरीक्षण करते हैं और गलत होने पर उन्हें सुधारते हैं और अच्छे व्यवहार की प्रशंसा करते हैं। इस प्रकार वे उनमें जीवन के कुछ खास मूल्य और नैतिकता सिखाते हैं। आप अपने दादा-दादी से सही और गलत की सही पहचान करना सीख सकते हैं। उनसे मेहनत करना और चीजों को खुद से करने की भावना सीख सकते हैं।

Inside1learningfromgrandparents

image credit: Bristol Live 

4. घर का खाना खाने की आदत

घर का खाना आपको हमेशा हेल्दी रखने में मदद करता है। साथ ही जब आप घर का खाना खाते हैं तो पारंपरिक पकवानों और मौसमी सब्जियों को भी खाते हैं, जो कि नेचुरल होने के साथ आपके शरीर के लिए हर तरह से हेल्दी होते हैं। तो, अगर आपके घर में आपके दादा-दादी हैं तो, आपको उनसे घर का खाना खाने की आदत सीखनी चाहिए। घर का खाना-खासे से शरीर को नेचुरल न्यूट्रिएंट्स और विटामिन मिलते हैं जो कि आपको मोटापा, डायबिटीज, क्रेविंग और मानसिक रोगों से बचाव में भी मदद करते हैं।

इसे भी पढ़ें : बच्चे करते हैं रोने का झूठा नाटक तो, इन 4 तरीकों से करें उन्हें शांत, बंद हो जाएगा रोना

5. फैमिली और दोस्तों के साथ रहना

फैमिली और दोस्तों के साथ रहना कभी भी आपको अकेला महसूस नहीं करवाता। ये आपको सामाजिक व्यक्तित्व बनाने में मदद करता है। साथ ही आज के समय में जब हम मानसिक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं तो, फैमिली और दोस्तों के साथ रहने की आदत आपको हमेशा खुश रख सकता है। आपको कभी भी डिप्रेशन के लक्षण महसूस नहीं होंगे। आप कभी भी ऐसा महसूस नहीं करेंगे कि आपके अंदर लाइफ को लेकर निगेटिविटी है। तो, अपने दादा-दादी और नान-नानी से  फैमिली और दोस्तों के साथ समय बिताना और खुश रहना सीखें। 

आपके दादा-दादी या नाना-नानी ने जीवन में अच्छा और बुरा सब देखा होता है। उन्हें संघर्ष करना आता है और हर हाल में खुश रहना आता है। ये वो गुण हैं जो कि आपको नौकरी और प्रोफेशनल लाइफ में भी मदद कर सकता है। तो, अपने दादी-दादी और नाना-नानी से प्यार करें और ये सभी अच्छी बातें उनसे सीखें। 

Main image credit: Verywell Family

Read more articles on Tips for Parents in Hindi

Disclaimer