होली के सिंथेटिक रंगों से जा सकती है आंखों की रौशनी, बरतें ये सावधानियां

होली के दौरान आंखों का खयाल न रखने से सूजन, जलन और एलर्जी जैसी शिकायतें हो सकती हैं। कई बार यह समस्‍या गंभीर रूप ले लेती है और व्‍यक्ति की नजर भी जा सकती है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Mar 13, 2019 17:15 IST
होली के सिंथेटिक रंगों से जा सकती है आंखों की रौशनी, बरतें ये सावधानियां

होली आपसी प्रेम और सद्भावना का त्यौहार है। इस दिन रंगों से खेलने की परंपरा इसे विश्व के कुछ सबसे अनूठे त्यौहारों में जगह दिलाती है मगर इस दौरान आपको बहुत सावधान रहने की जरूरत पड़ती है। आजकल लोग सिंथेटिक रंगों का इस्‍तेमाल करते हैं। इन रंगों से हमारी त्‍वचा, सेहत और आंखों को बहुत नुकसान होता है। हालांकि कुछ लोग अभी भी सूखे गुलाल की होली खेलना पसंद करते हैं मगर ज्‍यादातर लोग अब भी सिंथेटिक और खतरनाक रंगों से ही होली खेलते हैं। होली के बाद अकसर लोगों की आंखों में जलन और सूजन की शिकायत होती है। और ऐसे में बहुत जरूरी हो जाता है कि त्‍योहार के इस मौसम में आप अपनी आंखों का पूरा खयाल रखें। आइए जानें कैसे आप होली के मौसम में अपनी आंखों की सेहत को सही रखें।

रंग खेलते समय बरतें सावधानी

यदि होली के दौरान अपनी आंखों का खयाल न रखें तो सूजन, जलन और एलर्जी जैसी शिकायतें हो सकती हैं। कई बार यह समस्‍या गंभीर रूप ले लेती है और व्‍यक्ति को अपनी आंखें तक खोनी पड़ती हैं। कुछ रंगों से कैंसर भी हो सकता है। जानते हैं होली के दौरान आप अपनी आंखों की रक्षा कैसे कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- प्राकृतिक रंगों के साथ होली

  • जब भी आपकी आंखों में रंग आने का खतरा हो अपनी आंखों को ढंक लें। बेहतर रहेगा कि अगर आप होली खेलते समय सनग्‍लास पहन लें।
  • लोगों को चेहरे पर रंग लगाने से मना कीजिये। यदि आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं, तो रंग लगते समय आंखें और मुंह बंद कर लें।
  • लोगों से आंखों के आसपास रंग लगाने से मना करें।
  • आप सिर पर टोपी पहन सकते हैं, इससे भी रंग के आंखों में जाने की आशंका कम हो जाती है।
  • यदि आप कार से सफर कर रहे हैं, तो गाड़ी के शीशे बंद रखिये। आजकल बच्‍चे पानी और रंगों के गुब्‍बारों से होली खेलते हैं। ये आपकी आंखों के लिए काफी खतरनाक हो सकता है। यदि गुब्‍बारा आंख पर लग जाए तो इससे पुतली और यहां तक कि रेटीना को भी नुकसान हो सकता है।
  • आंखों के आसपास कोल्‍ड क्रीम की एक मोटी परत बना लें। इससे आपको आंखों के आसपास का रंग छुड़ाने में आसानी होगी।
  • आंखों के आसपास से रंग छुड़ाते समय अपनी आंखों को कसकर बंद रखें।
  • रंग छुड़ाते समय गर्म पानी का इस्‍तेमाल करें। इससे रंग आसानी से छूट जाता है।

आपको मालूम होना चाहिए कि रंगों में मौजूद कैमिकल किसी की आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है। तो बेहतर है कि आप प्राकृतिक रंगों से होली खेलें और साथ ही दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करें।

होली मस्‍ती का त्‍योहार है और हम सारा साल इसका इंतजार करते हैं। लेकिन, यदि जरूरी सावधानी न रखी जाए तो रंग में भंग पड़ते देर नहीं लगती। इन हानिकारक रंगों के स्‍थान पर बेसन, पलाश के पत्‍त‍ियों के रंग, चुकंदर को पानी में भिगोकर, हिना, गुलमोहर, गुड़हल के फूल और कई अन्‍य प्रकार के कुदरती रंगों का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आजकल बाजार में हर्बल गुलाल मौजूद है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Festival Special in Hindi

Disclaimer