महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ने से हाने वाली समस्याएं, डॉक्टर से जानें इसके कारण और बचाव

टेस्टास्टेरोन हॉर्मोन पुरूष हॉर्मोन है। जब इसका निर्माण महिलाओं के शरीर में होने लगता है, तो उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Apr 19, 2021 11:50 IST
महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ने से हाने वाली समस्याएं, डॉक्टर से जानें इसके कारण और बचाव

आपने टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन (Testosterone Hormone) के बारे में जरूर सुना होगा। यह एक पुरुष हॉर्मोन है। इसे एंड्रोजेन हॉर्मोन (Androgen Hormone) भी कहा जाता है। महिलाओं में एस्ट्रोजेन नामक हॉर्मोन (Estrogen Hormone) पाया जाता है। लेकिन महिलाओं की ओवरीज में भी टेस्टोस्टोरोन हॉर्मोन का छोटी मात्रा में निर्माण होता रहता है। लेकिन जब महिलाओं में यह अत्याधिक मात्रा में बढ़ता जाता है, तो महिलाओं को कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। महिला सेक्स हॉर्मोन के मिलने के बाद टेस्ट्रोस्टोन के कारण महिलाओं में पुनरूत्पादक घटकों में बढ़ोत्तरी, उनका रखरखाव और महिलाओं की हड्डियां मजबूत करने में मदद मिलती है। मणिपाल हॉस्पिटल व्हाइटफील्ड की प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अनिता तलवार से जानें महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने की वजह से होने वाली समस्याएं, इसके कारण और बचाव- 

महिलाओं में टेस्टोस्ट्रेरोन हॉर्मोन बढ़ने पर होने वाली समस्याएं (Problems Caused by Increasing Testosterone Hormone in Women)

hormones

टेस्टोस्ट्रेरोन की मात्रा में अनियंत्रित बढ़ोत्तरी के कारण महिलाओं के शरीर में कई लक्षण या समस्याएं देखने को मिलती हैं। जैसे-  

  • - शरीर पर विशेष रूप से चेहरे पर बालों का उगना (Facial hair growth)
  • - बालों का झड़ना (Hair Fall)
  • - एक्ने (Acne)
  • - आवाज का बदलना (Voice Change)
  • - शरीर की मांसपेशियों मे खिंचाव (Stretch in The Muscles of the Body)
  • - मासिक धर्म में अनियमितता (Menstrual Irregularity)
  • - लिबीडो की कमी (Libido Deficiency)
  • - मूड में बदलाव (Mood Swings)
  • - इनफर्टिलिटी (Infertility)
  • - मोटापा (Obesity)

महिलाओं में अधिक मात्रा में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने के कारण (Causes of High Levels of Testosterone Hormone in Women)

महिलाओं में अधिक मात्रा में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं। कई बीमारियां और हॉर्मोंस के असंतुलन की वजह से महिलाओं के शरीर में इस हॉर्मोन का निर्माण होता है।  महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने के कारण- 

अतिरोमता (Hirsutism)

यह महिलाओं के हॉर्मोन्स की एक ऐसी स्थिति है, जिसमें उनके अनचाही जगह जैसे पीठ, चेहरे या छाती पर बाल उगने लगते हैं। जिससे उनका शरीर लड़कों की तरह दिखने लगता है।

पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome)

यह हॉर्मोन्स से होने वाली एक ऐसी बीमारी है, जिसमें महिलाओं में अधिक मात्रा में हॉर्मोन्स बढ़ने लगते हैं। पीसीओएस की समस्या के सामान्य लक्षण - 

  • - इनफर्टिलिटी (Infertility)
  • - मिसकैरेज (Miscarriage)
  • - मधुमेह (Diabetes)
  • - मोटापा (Obesity)
  • - मूत्रमार्ग का कैंसर (Urethral Cancer)
hormons1

कनजेनिटल एड्रेनल हाइपरप्लासिया (Congenital Adrenal Hyperplasia)

इस बीमारी के कारण एड्रेनल ग्लैंडस पर बुरा असर पड़ता है और इससे टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन का निर्माण होने लगता है। महिलाओं में इस समस्या के चलते दिखने वाले लक्षण -

  • - इनफर्टिलिटी (Infertility)
  • - मांसपेशियों का फूलना (Muscle Bloating)
  • - अतिरिक्त मात्रा में एक्ने (Acne)

ओवरीयन कैंसर (Ovarian Cancer)

ब्रेस्ट कैंसर के बाद ओवरीयन कैंसर (Ovarian Cancer) महिलाओं में होने वाली बेहद सामान्य बीमारी है। इसके लक्षण ऐसे होते हैं, जिनका आखिरी स्टेज तक पता नहीं चल पाता है। इस कैंसर के कारण महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ने लगता है। 

एड्रेनल कैंसर (Adrenal Cancer)

जब आसामान्य कोशिकाओं का निर्माण होता है तो यह अधिवृक्क कैंसर का कारण बनता है। इस तरह का कैंसर अधिकतर एड्रेनजल ग्रंथियों की सबसे बाहरी परत में होता है। इस कैंसर की वजह से महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन तेजी से बढ़ने लगता है।

कुशिंग सिंड्रोम (Cushing's syndrome)

कुशिंग सिंड्रोम एक जटिल हॉर्मोनल (Complex Hormonal) स्थिति होती है। इसके मामले काफी दुर्लभ होते हैं। जब व्यक्ति में कोर्टिसोल का स्तर बहुत अधिक बढ़ जाता है, यह तब होता है। यह लगभग पूरे शरीर में फैलने वाला रोग है। इसकी वजह से महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने लगता है।

महिलाओं में अधिक मात्रा में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने पर उपचार (Treatment of Increasing Testosterone Hormone in Women)

 

हाई टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन (High Testosterone Hormone) के उपचार इसके कारण पर निर्भर करते हैं। लेकिन साधारण तौर पर इसमें दवाई (Medicine) के साथ-साथ जीवनशैली (Lifestyle) में भी बदलाव करने की जरूरत होती है। महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ने पर- 

  • - नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • - वजन कम करने की कोशिश करें।
  • - अपने खान-पान पर खास ध्यान दें।
  • - फास्ट-फूड का सेवन बिल्कुल न करें।

अगर आपको भी ये सभी लक्षण नजर आ रहे हैं तो एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें। क्योंकि लंबे समय तक इन लक्षणों को नजरअंदाज करने से समस्या बढ़ने लगती हैं। 

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer