Yoga For PCOS: पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं को मां बनने में मदद कर सकते हैं ये 5 योग

ब्रीदिंग एक्सरसाइज या प्राणायाम हार्मोनल संतुलन में भी मदद करते हैं, जो कि प्रेग्नेंसी में एक बड़ा रोल प्ले करता है।

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 25, 2020Updated at: Feb 25, 2020
Yoga For PCOS: पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं को मां बनने में मदद कर सकते हैं ये 5 योग

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) लगभग 5-10% युवा महिलाओं को प्रभावित करता है और अब ये आंकड़ें दिन पर दिन बढ़ते ही जा रहे हैं। पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम इन दिनों जिस तरह से बढ़ रहा है, ऐसे में सबसे बड़े कुछ कारको में से एक है हमारा खराब होता लाइफस्टाइल, अनियमित डाइट और स्ट्रेस। वहीं इसके कारण अक्सर महिलाओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जहां इसके कारण गर्भ धारण करने में कठिनाई हो सकती है वहीं ये यूट्रेस से जु़ड़ी परेशानियों का भी कारण बन सकती है। वहीं बात अगर पीसीओएस की करें, तो ये हार्मोन से जुड़ी गंभार समस्या है, जो प्रजनन प्रणाली में हस्तक्षेप करती है। 

inside_shavasaan

वहीं अगर आपको अनियमित पीरियड्स, असामान्य बालों का विकास, और मुंहासे हैं, तो आपको पी.सी.ओ.एस. से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा बड़े अंडाशय में कई छोटे अल्सर हो सकते हैं, जिनमें अपरिपक्व अंडे होते हैं। पीसीओएस प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है? यह स्थिति अंडाशय द्वारा एस्ट्रोजन के अतिप्रवाह का कारण बनती है। तो, पीसीओ के साथ महिलाएं हर महीने एग रीलिज नहीं कर पाती हैं और इस तरह ये यह अनियमित पीरिएड्स, इंसुलिन प्रतिरोध और गर्भावधि मधुमेह जैसे जोखिम विकारों को बढ़ा सकती है। वहीं कुछ लोग ऐसे में दवाइयों का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं। ऐसे में आप योग की मदद ले सकती हैं। जो पीसीओएस वाली महिलाओं को भी स्वस्थ गर्भधारण करने में मदद कर सकते हैं। 

बटरफ्लाई पोज (Butterfly Pose)

बटरफ्लाई पोज एक फर्टिलिटी योगा पोज़ है, जो पेल्विक एरिया को सर्कुलेशन बढ़ाने में मदद करता है। लेकिन अपने पैरों को बहुत ज्यादा न फड़फड़ाएं। इसके बजाय लंबे समय तक आसन रखें। इसे Moms-to-be Yogasana भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये एक उत्कृष्ट प्रसव पूर्व योग मुद्रा हैं। ये आसन गर्भवती मां और अजन्मे बच्चे को बहुत लाभ पहुंचाता है। यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, श्रोणि मंजिल की मांसपेशियों को मजबूत करता है, हैपी हार्मोन्स को रिलीज करता है, और चिकनी सुरक्षित और स्वस्थ प्रसव में मदद करता है।

inside_titliasan

सुपता बदकोनसाना (Supta Badhakonasana)

बाध्य कोण के रूप में भी जाना जाता है, यह मुद्रा कूल्हों को खोलने में मदद करता है और प्रजनन अंगों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है। इस आसन को करते समय शुरुआती लोग कुशन सपोर्ट का उपयोग कर सकते हैं। ये कोनासाना के आश्चर्यजनक लाभों में से एक इसकी कमर और कूल्हे क्षेत्र को फैलाने की क्षमता बढ़ जाती है। यह शारीरिक और भावनात्मक रूप से चिकित्सा भी है, जो आपके शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही ये पीसीओएस के लभणों को कम करके भी मां बनने में मदद करते हैं।

inside_pcosyoga

इसे भी पढ़ें : Yoga for period cramps: पीरियड के दर्द को दूर करते हैं ये 4 योगासन, जानें इन्हें करने का आसान तरीका

शवासन (Shavasana)

शवासन या कॉर्पस पोज पीसीओएस रोगियों के लिए एक और उपयोगी आसन है। पीसीओएस को ठीक करने के लिए आराम महत्वपूर्ण है। यह आसन आपको अपने योग सत्र के अंत में आराम करने में मदद करेगा। यह आपको आराम करने और बेहतर महसूस करने में मदद करेगा। श्वास व्यायाम के साथ इन आसनों में से प्रत्येक का समन्वय सुनिश्चित करें। प्रत्येक आसन को करते समय लंबी और गहरी सांस लें। आसन आंतरिक अंगों के कार्यों को बेहतर बनाने और रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करेंगे। 

भारद्वाजसना (Bharadvajasana)

भारद्वाजसना (भारद्वाज का ट्विस्ट) एक बैठा स्पाइनल ट्विस्ट है जो श्रोणि के अंगों को उत्तेजित करता है। यह योग मुद्रा भी एक स्ट्रेसबस्टर है और पाचन को बढ़ावा देती है। यह आपको ताजा और ऊर्जावान महसूस कराता है। बहुत सारे लोग अक्सर अपने दिन की शुरुआत योग से करते हैं। आसन करने से आपको तुरंत परिणाम मिलते हैं। यह न केवल अच्छे आकार में रहता है बल्कि आपके जीवन को तनावपूर्ण बनाता है। वहीं पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के पीछे भी, जो एक मुख्य कारण होता है उनमें स्ट्रेस और खराब लाइफस्टाइल भी शामिल है। ऐसे में भारद्वाजसना को कम करके आप प्रेग्नेंसा के चासेंस को बढ़ा सकता हैं।

इसे भी पढ़ें : योग के शौकीन ये 5 योगासन करते वक्त बरतें जरूरी सावधानियां, हो जाएंगे गंभीर चोट का शिकार

चक्की चलासना (Chakki Chalanasana)

यह मुद्रा यकृत, गुर्दे, अग्न्याशय, गर्भाशय और प्रजनन अंगों की मालिश करती है। चक्की चलनसाना के स्वास्थ्य लाभों में पेट के अंगों को मजबूत करना, प्रसवोत्तर में सुधार, पाचन तंत्र के कार्य में सुधार, पीठ में दर्द, मासिक धर्म को नियमित करना, पेट की चर्बी को कम करना और शरीर के चारों ओर रक्त परिसंचरण में वृद्धि आदि शामिल है। वहीं जिन लोगों को मोटापे के कारण पीसीओएस से जुड़ी समस्या है, ऐसे लोगों के लिए ये योगा रामबाण इलाज साबित हो सकती है।

Read more articles on Yoga in Hindi

Disclaimer