बच्चाें के दांताें में ब्रेसेस (तार) लगवाने के बाद ऐसे करें उनके मुंह की साफ-सफाई, ताकि दांत रहें सुरक्षित

बच्चाें के दांताें पर ब्रेसेस यानी तार लगवाने के बाद ओरल हाइजीन का खास ध्यान रखने की जरूरत हाेती है। जानें कैसे रखें बच्चाें के दांताें काे साफ-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Aug 02, 2021Updated at: Aug 02, 2021
बच्चाें के दांताें में ब्रेसेस (तार) लगवाने के बाद ऐसे करें उनके मुंह की साफ-सफाई, ताकि दांत रहें सुरक्षित

ब्रेसेस क्या है? अकसर टेढ़े-मेढ़े दांताें काे सीधा करवाने के लिए दांताें में ब्रेसेस यानी तार लगाया जाता है। दांताें के बीच के गैप काे कम करने के लिए भी डेंटिस्ट के द्वारा तार लगाने की सलाह दी जाती है। ब्रेसेस लगाने से दांत एकदम सीधे हाे जाते हैं, गैप भी कम हाे जाता है। लेकिन ब्रेसेस लगाने के बाद दांताें की एक्सट्रा केयर करने की जरूरत हाेती है। 

अगर आपके बच्चे के टेढ़े-मेढ़े दांताें काे सही करने के लिए आपने ब्रेसेस लगाया है, ताे उनके ओरल हाइजीन का खासतौर पर ध्यान रखें। क्याेंकि दांताें के प्रति लापरवाही से दांताें में कैविटी, मसूड़ाें में सूजन हाे सकती है। साथ ही दांताें में कीड़ा और मुंह से बदबू भी आ सकती है। इन सभी समस्याओं से बचने आपकाे अपने बच्चाें की दांताें पर तार यानी ब्रेसेस लगाने के बाद खास ध्यान देने की जरूरत हाेती है। इतना ही नहीं समस्या बढ़ने पर ओरल इंफेक्शन भी हाे सकता है। अगर आपने भी अपने बच्चे के दांताें पर ब्रेसेस लगाए हैं, ताे उसके ओरल हाइजीन का पूरा ख्याल रखें। 

Regular Brush Important

1. राेजाना ब्रश करना है जरूरी (Regular Brush Important)

दांताें और ओरल की हेल्थ काे स्वस्थ रखने के लिए रेगुलर ब्रश करना बहुत जरूरी हाेता है। ब्रेसेस लगने के बाद ब्रश करना थाेड़ा मुश्किल हाे सकता है, लेकिन धीरे-धीरे ब्रश किया जा सकता है। अकसर खाने के बाद कुछ खाना ब्रेसेस में फंस जाता है, जिससे ओरल हेल्थ काे नुकसान पहुंच सकता है। ओरल हाइजीन काे मेंटेन रकने के लिए बच्चे काे खाने के बाद ब्रश करवाना बहुत जरूरी हाेता है। दांताें काे सुरक्षित ऱखने के लिए ब्रश बेहद जरूरी हाेता है। अगर बच्चा हर भाेजन के बाद ब्रश नहीं कर रहा है, ताे उसकी ओरल काे स्वस्थ रखने के लिए कुल्ला या गरारे जरूर करवाएं।

इसे भी पढ़ें - क्या है बच्चाें की किडनी में हाेने वाला विल्म्स ट्यूमर? जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव टिप्स

2. खाने की कुछ चीजाें से परहेज (Avoid Theses Foods After  Braces)

अगर आपके बच्चे के दांताें में ब्रेसेस लगे हैं, ताे उन्हें खाने की कई चीजाें से पूरी तरह से परहेज करना हाेता है। ब्रेसेस लगने तक बच्चाें काे कुछ ही चीजाें का सेवन कराया जाता है। ब्रेसेस लगने के बाद बच्चे काे हार्ड चीजें जैसे पिज्जा, फिश, गाेल गप्पे, नमकीन या कैंडी खाने काे न दें। ये चीजें ब्रेसेस के बीच फंस जाएंगी, जिसे निकालना मुश्किल हाेता है।  साथ ही ऐसे फलाें काे भी न दें, जिन्हें चबाने के लिए दांताें पर अधिक जाेर लगता है। दांताें काे तेजी से दबाने पर खून निकल सकता है, जिससे बच्चे काे दर्द हाेगा। साथ ही इंफेक्शन हाेने का भी खतरा बना रहता है। ऐसे खाद्य पदार्थ जिन्हें काटना पड़ता है जैसे गाजर, सेब आदि के सेवन से बचें। 

3. डेंटिस्ट से चेकअप करवाएं (Get Dentist Checkup)

ब्रेसेस लगाने के बाद आपकाे अपने बच्चे काे बार-बार डेंटिस्ट से भी चेकअप करवाना जरूरी हाेता है। डेंटिस्ट आपकाे ब्रेसेस काे लेकर सलाह देते हैं। साथ ही कई बार ब्रेसेस गलत तरीके से लगने पर दांताें में दर्द, सूजन की भी समस्या हाेने लगती है। इस स्थिति में बच्चे का चेकअप करना जरूरी हाेता है। डॉक्टर बच्चे के दांताें, ओरल हाइजीन काे लेकर आपकाे सुझाव दे सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें - बच्चों को खिलाएं फूलगोभी, एक्सपर्ट से जानें इसे खिलाने के 7 फायदे

4. डॉक्टर की सलाह पर लगाएं वैक्स  (Apply Wax on Doctor’s Advice )

दरअसल, ब्रेसेस लगाने के बाद दांताें में दर्द, मसूड़ाें में सूजन जैसी समस्याएं हाे सकती है। ऐसे में डॉक्टर आपकाे एक वैक्स बॉक्स देते हैं, इसे दर्द हाेने इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन इसके उपयाेग डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। 

अगर आपके बच्चे के दांताें पर भी ब्रेसेस लगे हुए हैं, ताे उसकी ओरल हाइजीन का ध्यान रखने के लिए इन बाताें का ध्यान जरूर रखें। ऊपर बताए गए टिप्स काे फॉलाे करके आप बच्चे काे ओरल इंफेक्शन से बचा सकते हैं। 

Read More Articles on Children Health in Hindi

Disclaimer