नाखून के आसपास त्वचा में इंफेक्शन का कारण हो सकता है पैरोनिकिया, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

पैरोन‍िकिया नाखूनों की बीमारी है ज‍िसमें नाखून के आसपास की त्‍वचा में इंफेक्‍शन हो जाता है, जानते हैं इसके कारण और उपाय 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 16, 2021Updated at: Jun 16, 2021
नाखून के आसपास त्वचा में इंफेक्शन का कारण हो सकता है पैरोनिकिया, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

नाखूनों में इंफेक्‍शन या पैरोन‍िकि‍या क्‍या है? पैरोन‍िक‍िया एक तरह का इंफेक्‍शन है जो नाखूनों के आसपास की त्‍वचा में हो जाता है। ये इंफेक्‍शन बैक्‍टीर‍िया या फंगी के कारण होता है। नाखून का संक्रमण हाथ या पैर दोनों के नाखूनों में हो सकता है। नाखूनों को चबाने या ज्‍यादा काटने से ये इंफेक्‍शन हो सकता है। जो लोग हाथों को ज्‍यादा गीला रखते हैं या ज‍िनके हाथों में क‍िसी कारण से ज्‍यादा मॉइश्‍चर मौजूद होता है उनके नाखूनों में इंफेक्शन की आशंका ज्‍यादा रहती है। नाखूनों में इंफेक्‍शन होने पर नाखून और आसपास की त्‍वचा में रेडनेस, सूजन या दर्द देखा जा सकता है। इस बीमारी का इलाज और बचाव के ट‍िप्‍स जानने के ल‍िए पूरा लेख पढ़ें। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने ओम स्किन क्लीनिक, लखनऊ के वरिष्ठ कंसलटेंट डर्मेटोलॉज‍िस्‍ट डॉ देवेश मिश्रा से बात की। 

nail infection paronychia

पैरोनिकिया क्‍या होता है? (What is Paronychia)

पैरोन‍िक‍िया एक तरह का स्‍किन इंफेक्‍शन है ज‍िसमें नाखूनों के आसपास की त्‍वचा प्रभाव‍ित होती है। पैरोन‍िकि‍या बैक्‍टीर‍िया या फंगी के कारण होता है। बैक्‍टीर‍िया या फंगी के स्‍क‍िन में मौजूद होने पर नाखूनों में इस तरह का संक्रमण होता है। पैरोन‍िक‍िया होने पर हाथ या पैर की एक या एक से ज्‍यादा उंगलियां संक्रम‍ित होती हैं। ये संक्रमण ज्‍यादातर नाखूनों के नीचे या नाखून के कोने में होता है। पैरोन‍िकिया के ज्‍यादातर मामले इलाज से ठीक हो जाते हैं।

नाखूनों में इंफेक्‍शन के लक्षण क्‍या हैं? (Symptoms of nail infection paronychia)

  • नाखून और आसपास की त्‍वचा में दर्द, रेडनेस होना 
  • नाखून और आसपास की त्‍वचा में सूजन 
  • नाखून के आसपास की त्‍वचा में पस भरना 
  • नाखून डैमेज होना 
  • नाखून उखड़ना 

इसे भी पढ़ें- नाखूनों के आसपास की स्किन (cuticles) खराब हो तो अपनाएं घरेलू उपाय

नाखूनों में इंफेक्‍शन के कारण क्‍या हैं? (Causes of nail infection paronychia)

नाखूनों में इंफेक्‍शन तब होता है जब नाखूनों के आसपास की त्‍वचा डैमेज हो जाती है और इससे बाहरी जर्म्स स्‍क‍िन में आ जाते हैं, इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे-

  • कुछ लोगों में नाखून चबाने या काटने की आदत होती है, ऐसे लोगों में नेल इंफेक्‍शन होने की आशंका ज्‍यादा रहती है।
  • जिन लोगों को काम के चलते अपने हाथों को ज्‍यादा समय के ल‍िए गीला रखना पड़ता है या ज‍िनके हाथों में द‍िन में कई बार कैम‍िकल लगता रहता है जैसे क‍िसी फैक्‍ट्री के वर्कर, ऐसे लोगों को भी नाखून में इंफेक्‍शन होने का खतरा ज्‍यादा रहता है। 

पैरोन‍िकि‍या या नेल इंफेक्‍शन का इलाज क्‍या है? (Treatment of paronychia)

नाखून का इंफेक्‍शन पैरोन‍िक‍िया होने पर डॉक्‍टर एंटी-फंगल या एंटी-बैक्‍टीर‍ियल दवाएं दे सकते हैं। अगर आपके नाखूनों में पस जमा है तो इसका इलाज डॉक्‍टर ही कर सकेंगे। डॉक्‍टर नाखून के इंफेक्‍शन वाले ह‍िस्‍से को सुन्‍न करके पस न‍िकालकर दवा लगा देंगे। नाखून में इंफेक्‍शन अगर ज्‍यादा नहीं है तो आप इसका इलाज घर पर भी कर सकते हैं। ज‍िस नाखून में इंफेक्शन है उसे गुनगुने पानी में द‍िन में तीन से चार बार डुबोएं। धीरे-धीरे इंफेक्‍शन ठीक हो जाएगा। अगर इंफेक्‍शन दो से तीन द‍िन में ठीक न हो तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं। 

इसे भी पढ़ें- क्या नाखून पर सफेद लाइन दिखना सच में कोरोना का लक्षण है? डॉक्टर से जानें Covid Nails के बारे में

नाखूनों के इंफेक्‍शन से कैसे बचें? (Tips to prevent nail infection)

paronychia treatment

पैरोन‍िकि‍या दो प्रकार का होता है- एक्‍यूट और क्रॉन‍िक। एक्‍यूट पैरोन‍िकिया में नाखून का इंफेक्‍शन कुछ द‍िन या घंटों के ल‍िए होता है। वहीं क्रॉन‍िक पैरोन‍िक‍िया कुछ हफ्तों तक रह सकता है। हालांक‍ि दोनों ही प्रकार के इंफेक्‍शन का इलाज संभव है। अगर आप कुछ आसान ट‍िप्‍स फॉलो करें तो इस इंफेक्‍शन से बच सकते हैं- 

  • नाखूनों को छोटा रखें, ज्‍यादा बड़े नाखूनों में इंफेक्‍शन जल्‍दी होता है। 
  • हाथों को ज्‍यादा समय के ल‍िए गीला न रखें। 
  • नाखूनों को हमेशा साफ रखें। 
  • नाखूनों और हाथ को रोजाना माइल्‍ड क्‍लींजर से धोकर मॉइश्‍चराइजर लगाएं। 
  • नाखूनों को काटने या चबाने की आदत छोड़ दें। 

पैरोन‍िक‍िया का इलाज आसान है और ये इंफेक्‍शन ज्‍यादातर केस में जल्‍दी ठीक भी हो जाता है पर अगर कुछ द‍िनों में इंफेक्‍शन ठीक न हो और बढ़ने लगे तो आपको चिक‍ित्‍सा सहायता लेनी चाह‍िए।

Read more on Other Diseases in Hindi

Disclaimer