गांजा से दूर हो सकता है अल्जाइमर रोग

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 21, 2016

अब तक अगर आप गांजे को नशीली चीज समझ कर दूर रहें हैं तो इस शोध को पढ़िये। हाल ही में हुए शोध में इस बात की पुष्टि हुई है कि गांजे की उचित मात्रा अल्जाइमर रोग से निपटने में सहायक होती है। यह शोध कैलिफोर्निया की साल्क इंस्टीट्यूट फॉर बॉयोलॉजिकल स्टडीज द्वारा की गई है और इसे ‘एजिंग एंड मेकानिज्म्स ऑफ डिजीज’ पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।



गांजे में एक सक्रिय यौगिक पाया जाता है जो मस्तिष्क में जहरीले प्रोटीन को बाहर करने में मददगार होता है। इस नए शोध में देखा गया कि टेट्राहाइड्रोकैनाबिनॉल (टीएचसी) और अन्य यौगिक तंत्रिका कोशिकाओं से हानिकारक एम्लाइड बीटा को बाहर करने में मदद करते हैं।

कैलिफोर्निया की साल्क इंस्टीट्यूट फॉर बॉयोलॉजिकल स्टडीज से इस अध्ययन के मुख्य शोधार्थी डेविड स्कूबर्ट ने कहा कि हमारे अध्ययन से यह पहली बार सामने आया है कि कैनाबाइनॉइड्स तंत्रिका कोशिकाओं में सूजन और एम्लॉइड बीटा एक्यूमुलेशन दोनों में प्रभावकारी है।

अल्जाइमर रोग मस्तिष्क में एम्लाइड बीटा की उपस्थित होने का प्रमुख कारण माना जाता है। यह हानिकाक प्रोटीन लोगों के मस्तिष्क में जम जाता है, प्लेक का गठन करता है और तंत्रिका कोशिकाओं के बीच संचार में बाधा उत्पन्न करता है।

 

Read more Health news in Hindi.

Loading...
Is it Helpful Article?YES1302 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK