केट मिडलटन ने शेयर किया प्रेग्नेंसी का अनुभव, बताया मॉर्निंग सिकनेस से निपटने का खास तरीका

डचेज ऑफ कैम्ब्रिज ने # 5BigQuestions सर्वेक्षण के ‘हैप्पी मैम, हैप्पी बेबी नामक’पॉडकास्ट के एक एपिसोड में शामिल हुईं, जहां उन्होंने ये सब कहा।

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 17, 2020Updated at: Feb 17, 2020
केट मिडलटन ने शेयर किया प्रेग्नेंसी का अनुभव, बताया मॉर्निंग सिकनेस से निपटने का खास तरीका

केट मिडलटन (Kate Middleton)ब्रिटिश शाही परिवार की बहू हैं, जिनके पति, प्रिंस विलियम, ड्यूक ऑफ कैम्ब्रिज, यूनाइटेड किंगडम के राजा बनने की उम्मीद जताई जाती है। केट मिडलटन और पति प्रिंस विलियम के 3 बच्चे हैं। हाल ही में केट मिडलटन ने अपनी प्रग्नेंसी को लेकर कुछ बातें साझा की। केट मिडलटन ने बताया कि अपनी प्रत्येक गर्भावस्था के दौरान, भले ही वो कैमरों में खुश दिखीं पर इस दौरान वो उन्हीं स्थितियों से गुजर रही थीं, जो हर आम महिला प्रेंग्नेंसी के दौरान महसूस करती हैं। चेहरे पर एक मुस्कान के साथ शाही कर्तव्यों को निभाया। पर असल में वो प्रेग्नेंसी में होने वाले कई चीजें को लेकर परेशान और नाखुश थीं।

inside_KATEFAMILY

डचेस ऑफ कैम्ब्रिज, को अपने प्रेग्नेंसी के दौरान हाइपरमेसिस ग्रेविडरम (Hyperemesis Gravidarum) का सामना करना पड़ा, जो गर्भावस्था की जटिलता में गंभीर मतली, उल्टी और अक्सर वजन घटाने और हाइड्रेशन का कारण बनती हैं। जबिक उसके तीन बच्चे हैं पर तीनों के प्रेग्नेंसी के दौरान उन्हें इन स्थितियों का सामना करना पड़ा। केट मिडलटन ने अपने एक साक्षात्कार 'हैप्पी मौम, हैप्पी बेबी' पॉडकास्ट में अपने गर्भावस्था के अनुभवों को याद करते हुए कहा कि "मैं गर्भवती लोगों में सबसे खुश महिलाओं में से एक नहीं हूं।"

 
 
 
View this post on Instagram

��️ The Duchess of Cambridge has joined @MrsGiFletcher for an episode of the ‘Happy Mum, Happy Baby’ podcast to talk about her landmark #5BigQuestions survey. On the special episode of ‘Happy Mum, Happy Baby’, released on Saturday, 15th February at 1600 GMT The Duchess and Giovanna discuss the importance of the early years, their shared experiences as mothers to three children, and The Duchess’s ‘5 Big Questions on the Under fives’ survey. It’s not too late to have your say in the biggest national conversation on the early years — visit the link in our bio to complete the survey �� and help bring about positive, lasting change for generations to come.

A post shared by Kensington Palace (@kensingtonroyal) onFeb 14, 2020 at 2:33pm PST

केट मिडलटन ने बताया कि जब वो अपने बच्चे प्रिंस जॉर्ज और प्रिंसेस चारलोट के प्रेग्नेंसी के दौरान केट की कई बार बुरी हालत हो गई थी, इतना कि उम्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने कहा कि यह न केवल उनके लिए, बल्कि उनके प्रियजनों के लिए भी एक चुनौती थी। वहीं उनके पति विलियम इस दौरान उनकी ज्यादा मदद नहीं कर पा रहे थे, जबकि वो मदद करना चाहते थे। हर किसी के लिए यह देखना मुश्किल है कि पर प्रेंग्नेंसी में जितना आम कहा जाता है पर इससे गुजरना हर किसी के लिए मुश्किल होता है। आम भाषा में कहें, तो ये प्रेग्नेंसी में मॉर्निंग सिकनेस के कारण होता है, जिसके कारण केट मिडलटन पूरी प्रेग्नेंसी बहुत परेशान रहीं।

inside_KATE

इसे भी पढ़ें : अमेरिकन मॉडल किम कार्दशियन ने शेयर की गर्भपात और मेंटल ट्रॉमा की दर्द भरी कहानी

हिप्नोबर्थ  की ली मदद (Hypnobirthing)

केट मिडलटन के अनुसान "इस हाइपरमेसिस  (Hyperemesis) के माध्यम से था कि मुझे वास्तव में शरीर के ऊपर मन की शक्ति का एहसास हुआ।" Parents.com के अनुसार,  हाइपरमेसिसक्रिया "एक प्रसव शिक्षा पाठ्यक्रम है, जो प्राकृतिक प्रसव पर जोर देता है और श्रम के दौरान भय और दर्द से निपटने के लिए आत्म-सम्मोहन तकनीक सिखाता है।" अपने अनुभव पर विस्तार करते हुए, डचेस ने स्पष्ट किया, ''इसके कई स्तर है। चाहे ध्यान हो या गहरी सांस लेना, ये बीमार महसूस करने पर सम्मोहन तकनीक का उपयोग करना इसे आसान बना रहा था। ''मुझे एहसास हुआ कि यह कुछ ऐसा था जिसे मैं नियंत्रण में रख सकती थी, मुझे लगता है, डिलीवरी के दौरान मुझे इससे मदद मिली। 

 
 
 
View this post on Instagram

Today The Duchess of Cambridge has taken her UK-wide #5BigQuestions survey to Northern Ireland and Scotland, starting with a visit to @TheArkOpenFarm in County Down, Northern Ireland. The #5BigQuestions Survey aims to spark a national conversation on the early years that will ultimately help bring about positive, lasting change for generations to come – visit the link in our bio to fill out the survey. At the farm The Duchess spoke with local parents and grandparents about their experiences of raising young children, and their thoughts on the early years. What we experience in our earliest years – from in the womb to the age of five – is instrumental in shaping our future lives. The Duchess has spent time meeting families across the country and hearing about the issues they face, in addition to speaking with academics, experts, organisations and practitioners. The ‘5 Big Questions on the Under 5s’ survey is designed to bring together the thoughts of as many people as possible – recognising that everyone has a role in ensuring strong, healthy foundations for the youngest in our society that will positively affect their lifelong outcomes. Photos © Kensington Palace

A post shared by Kensington Palace (@kensingtonroyal) onFeb 12, 2020 at 7:08am PST

इसे भी पढ़ें : Mood Swings in Pregnancy: प्रेग्नेंसी में मूड स्विंग्स को कंट्रोल करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

क्या है हिप्नोबर्थ (Hypnobirthing)?

Hypnobirthing महिलाओं को एक सकारात्मक जन्म के लिए तैयार करने में मदद करने का एक बहुत सरल तरीका है। इसका मतलब है कि कोई भी जन्म एक हिप्नोबिर्थ हो सकता है, जब तक कि माँ को लगता है कि कि सब नॉर्मल है। Hypnobabies शब्द एक विशिष्ट कंपनी को संदर्भित करता है जो विभिन्न प्रकार के hypnobirthing कक्षाएं प्रदान करता है। ये कक्षाएं आपको सिखाएंगी कि कैसे कुछ अलग तरीकों का उपयोग करके प्रेग्नेंसी के दौरान आराम किया जाए। इसमें कुछ चीजें शामिल हैं, जैसे

  • -सांस लेने की तकनीक
  • -मालिश तकनीक
  • -एक ध्यान की रिकॉर्डिंग सुनना या पढ़ना
  • -विजुलाइजिंग
  • -विभिन्न अन्य उपकरण की सकारात्मक मदद लेना।

दूसरा भाग जन्म पर ही केंद्रित है। सम्मोहन का आधार यह है कि जन्म के दौरान भय सभी प्रकार की समस्याओं का कारण बन सकता है, इसलिए कक्षाएं ज्ञान के साथ इन आशंकाओं को दूर करने का प्रयास करती हैं। हम जानते हैं कि हम अक्सर अज्ञात से डरते हैं, और प्रसव उन विषयों में से एक है जो काफी रहस्यमय बने हुए हैं। यह आंशिक रूप से है क्योंकि महिलाएं अक्सर अपने जन्म के अनुभवों के बारे में बात करने में असमर्थ महसूस करती हैं। इसलिए इस तरह महिलाओं को मोटिवेट करके एक सरल प्रेग्नेंसी से गुजरने में मदद की जाती है। इस तरह मोटिवेट होने पर मां एक नॉर्मल डिलीवरी के लिए भी तैयार हो जाती है।

Read more articles on Womens in Hindi

Disclaimer