क्या खट्टी चीजें खाना जोड़ों के दर्द को बढ़ाता है? जानें डॉक्टर से सच्चाई

यह लोगों का मिथक है कि खट्टी चीजें जोड़ों के दर्द में नुकसानदायक होती हैं, जबकि सच्चाई कुछ और है। जिसका पर्दाफाश डॉ. शैली तोमर ने किया है।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Jun 02, 2021
क्या खट्टी चीजें खाना जोड़ों के दर्द को बढ़ाता है? जानें डॉक्टर से सच्चाई

अर्थराइटिस में जोड़ों में दर्द, अकड़न और सूजन जैसी परेशानियां होती हैं। यह परेशानी खून में यूरिक एसिड बढ़ने की वजह से होती है। करीब 100 तरह के अर्थराइटिस होते हैं पर भारत में ओस्टियोअर्थराइटिस (osteoarthritis) सबसे आम है और इससे करीब 25 फीसद लोग पीड़ित हैं। तो वहीं, पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में यह परेशानी ज्यादा होती है। इस रोग में जोड़ों में गांठें बन जाती हैं। इसलिए इसे गठिया भी कहा जाता है। अर्थराइटिस में आहार को लेकर कई मिथक हैं। लोगों का यह विश्वास है कि गठिया या जोड़ों में दर्द होने पर खट्टे फल या खट्टे खाद्य पदार्थ खाने से मर्ज और बढ़ जाती है। पर नमामी लाइफ में न्यूट्रीशनिस्ट डॉ. शैली तोमर का कहना है कि यह लोगों का मिथक है कि खट्टे फल खाने से अर्थराइटिस या जोड़ों में दर्द बढ़ जाता है। तो आइए डॉक्टर से जानते हैं कि जोड़ों में दर्द होने पर खट्टे फल (Citrus fruits) या खाद्य पदार्थ खाने चाहिए या नहीं। साथ ही न्यूट्रीशनिस्ट डॉ. शैली तोमर बता रही हैं कि गठिया में कौन से फल या खाद्य पदार्थ खाने चाहिए और कौन से नहीं खाने चाहिए। 

inside4_jointpaindiet

क्या खट्टे फल जोड़ों के दर्द के लिए नुकसानदायक हैं?

डॉ. शैली तोमर का कहना है कि यह लोगों का भ्रम है कि सभी प्रकार के खट्टे फल या अन्य खाद्य पदार्थ जोड़ों के दर्द की समस्या को बढ़ाते हैं। पर यह सच्चाई नहीं है। उन्होंने कहा कि यह एक मिथक है। उन्होंने कहा कि विटामिन सी युक्त फूड जोडो़ं के दर्द में निम्न प्रकार से मददगार होते हैं।  

जोड़ों के दर्द को कम करते हैं

डॉ. शैली का कहना है कि साइट्रिक फ्रूट्स विटामिन सी से भरपूर होते हैं और पचने के बाद सीट्रिक एसिड एल्कलाइन में तब्दील हो जाता है। एल्कलाइन एसिड का उल्टा है। डॉ. शैली का कहना है कि विटामिन सी एंटी इंफ्लामेटरी होता है जो जोड़ों के दर्द को कम करता है। विटामिन सी में एनाल्जेसिक प्रॉपर्टीज (analgesic properties) पाई जाती है। यह ओपियोड्स (Opiods) की तरह ही काम करता है। यह कई तरह के दर्द को कम करता है। कई मामलों में यह भी देखा गया है कि जो मरीज विटामिन सी का सेवन नहीं करते हैं, उनके मुकाबले विटामिन सी का सेवन करने वालों में अर्थराइटिस से दर्द की समस्या कम हुई है। 

विटामिन सी जोड़ों में सूजन करे कम

जोड़ों के दर्द में सूजन (Reduces Inflammation) एक आम परेशानी है। सूजन होने पर वह अंग अजीब तो दिखता ही है साथ ही उसमें दर्द भी बढ़ जाता है। डॉ. शैली तोमर बताती हैं कि जोड़ों में सूजन को कम करने में विटामिन सी अच्छा काम करता है। विटामिन सी में पाए जाने वाले सूक्ष्म पोषक तत्त्व जोड़ों में दर्द की सूजन को कम करते हैं। 

inside7_jointpaindiet

कोलेजन का स्राव बढ़ाए

डॉ. तोमर का कहना है कि विटामिन सी कोलेजन के स्राव (secretion) को भी बूस्ट करता है। कोलेजन एक तरह का प्रोटीन होता है जो स्वस्थ जोड़ों के लिए जरूरी है। पर डॉक्टर का कहना है कि ग्रेपफ्रूट अर्थराइटिस के मरीजों को नहीं खाना चाहिए। क्योंकि इससे जोड़ों में समस्या हो सकती है।

इसे भी पढ़ें : ऑस्टियोआर्थराइटिस में जोड़ों के दर्द और जकड़न से राहत के लिए 6 घरेलू नुस्खे

जोड़ों के दर्द के मरीज किन फलों का करें सेवन?

संतरा

संतरे में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यह एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है, जो जोड़ों में सूजन को कम करता है। यही वजह है कि अर्थराइटिस के मरीज जोड़ों में सूजन होने पर संतरा या इसकी अन्य प्रजाति जैसे नींबू व मौसमी भी खा सकते हैं। संतरा खाने से कोलेजन प्रोटीन बनता है जो दर्द और सूजन को करने में मददगार है।

inside8_jointpaindiet

तरबूज

गर्मियों से आसानी से मिलने वाला फल तरबूज जोड़ों के दर्द के लिए बहुत मददगार है। इसमें एंटी-इंफ्लामेंटरी गुण पाए जाते हैं। तरबूज में lycopene नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है। जो सूजन को कम करता है। रयूमेटॉइड अर्थराइटिस में तरबूज बहुत लाभदायक है। डॉ. शैली का कहना है कि तरबूज में लाइकोपीन  पाया जाता है, जिस वजह से यह जोड़ों में सूजन को कम करता है। गर्मियों में शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है। तरबूज शरीर में पानी की मात्रा को भी ठीक रखता है। 

अंगूर

अक्सर सर्दियों में मिलने वाला अंगूर अर्थरासइटिस के मरीजों के लिए बहुत लाभदायक है। अंगूर में रेस्वेट्रॉल नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जिससे यह जोड़ों की सूजन कम करने में मददगार साबित होता है। 

इसे भी पढ़ें : घुटनों और जोड़ों से आती है कट-कट जैसी या हड्डियों के चटकने की आवाज? एक्सपर्ट से जानें इसका कारण और इलाज

inside6_jointpaindiet

अर्थराइटिस में अन्य खाद्य पदार्थ क्या खा सकते हैं?

ब्रोकली

ब्रोकली में सल्फोरेफेन (sulforaphane) नामक गुण पाया जाता है। जो जोड़ों की सूजन को कम करता है। तो वहीं, जोडो़ं में दर्द को भी कम करता है। चूंकि जोड़ों का दर्द सर्दियों  में अधिक परेशान करता है, सर्दी के मौसम में सर्दी में मिलने वाले सीजनल फल व सब्जियां ही खाने चाहिए। ब्रोकली खाने से जोड़ों के दर्द की समस्या कम होती है। इसे आप सब्जी के रूप में या सलाद के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। इमसें विटामिन सी, ए और के होता है जो जॉइंट पेन को कम करता है।

सूखे मेवे

सूखा मेवा जैसे बादाम, अखरोट, पिस्ता आदि को जॉइंट पेन होने पर खाया जा सकता है। जिन लोगों को ओस्टियोअर्थराइटिस और रूमेटोइड अर्थराइटिस (osteoarthritis and rheumatoid arthritis) होने पर दर्द होता है, वे लोग इनका सेवन कर सकते हैं। तो वहं, सूखे मेवे में मैंग्नीशियम, कैल्शियम और विटामिन ई जैसे गुण पाए जाते हैं। इसलिए यह अर्थराइटिस की परेशानी में लाभदायक हैं। 

inside9_jointpaindiet

पालक

अमूमन पालक लोगों को पसंद नहीं होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पालक एक एंटीऑक्सीडेंट है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जिस वजह से यह जोड़ों के दर्द और सूजन दोनों में सहायक है। पालक को आप सब्जी के अलावा सलाद या जूस की तरह भी प्रयोग में ला सकते हैं। 

अर्थराइटिस में क्या न खाएं?

डॉ. शैली ने बताया कि आयुर्वेद के अनुसार खट्टे फल जैसे दही, टमाटर, अचार, एल्कोहल, विनेगर आदि को अर्थराइटिस की परेशानी में नहीं खाना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों से वात दोष बढ़ता है जो जोड़ों में ‘अमा’ (ama) बढ़ने से दर्द का कारण बनता है। डॉ. शैली का कहना है कि जोड़ों के दर्द की समस्या होने पर आप अपनी डाइट में क्या चीजें शामिल करेंगे इसके बारे में एक बार अपने डायटीशियन से सलाह जरूर ले लें। 

अर्थराइटिस के करीब 100 प्रकार हैं। जोड़ों में दर्द सर्दियों में अधिक कष्टकारी हो जाता है, लेकिन सही खानपान से इस परेशानी को कम किया जा सकता है। डॉ. शैली का कहना है कि अभी तक यह लोगों का मिथ था कि खट्टी फलों का सेवन अर्थराइटिस में नुकसानदेह है। पर यह सच्चाई नहीं है। खट्टे फलों को खाने से अर्थराइटिस की परेशानी बढ़ती नहीं है। 

Read More Articles On Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer