पांचवें अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस 2019 (International Yoga Day 2019) की तैयारियां चल रही हैं। उधर प्रधानमंत्री मोदी भी योग के बारे में ट्विटर पर लगातार जानकारी दे रहे हैं। 

"/>

International Yoga Day 2019: पीएम मोदी ने गिनाए सेतुबंधासन योग के फायदे, वीडियो से जानें योगासन का तरीका

पांचवें अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस 2019 (International Yoga Day 2019) की तैयारियां चल रही हैं। उधर प्रधानमंत्री मोदी भी योग के बारे में ट्विटर पर लगातार जानकारी दे रहे हैं। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jun 18, 2019Updated at: Jun 19, 2019
International Yoga Day 2019: पीएम मोदी ने गिनाए सेतुबंधासन योग के फायदे, वीडियो से जानें योगासन का तरीका

भारत समेत दुनिया के कई देशों में पांचवें अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस 2019 (International Yoga Day 2019) की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस दिशा में अपना योगदान करते हुए लगातार ट्विटर के माध्‍यम से रोजाना एक योगासन पोस्‍ट करते हुए उसके फायदे और करने के तरीके बता रहे हैं। पीएम मोदी ने इस बार सेतुबंधासन के बारे में वीडियो शेयर किया है, जिसमें इसके फायदे और करने के तरीके बता रहे हैं। 

 

सेतुबंधासन क्‍या है

सेतुबंधानसन एक योग क्रिया है, जिसे आप रोजाना कर सकते हैं। सेतुबंधासन का अर्थ है पुल बनाना। इस आसन में आपके शरीर की स्थिति एक पुल की तरह होती है। इस आसन को चतुष्पदासन भी कहा जाता है। 

सेतुबंधासन करने की विधि  

  • सबसे पहले आप अपने पैरों के बीच आरामदायक अंतर बनाते हुए अपने पीठ के बल आराम से लेट जाएं। 
  • अपनी हथेलियों को जमीन पर इस तरह से रखें कि उसका मुख आसमान की तरफ हो। इस आसन को शवासन कहा जाता है। 
  • अब अपने दोनों पैरों को जोड़ें, फिर अपने दोनों पैरों को मोड़कर अपने कूल्‍हों के पास ले आएं। 
  • फिर अपने दोनों टखनों को मजबूती से अपने दोनों हाथों से पकड़ें। 
  • अब धीरे-धीरे सांस अंदर लेते हुए अपने कूल्‍हों को जितना हो सके ऊपर उठाएं, जिससे आपका शरीर एक सेतु या पुल का आकार ले ले। 
  • सुनिश्‍चित करें कि आपका सिर और कंधे जमीन पर हों और आपके घुटने व पैर एक ही सीध में हो। 
  • इस अंतिम मुद्रा में अगर आप चाहें तो अपने हाथों से अपनी कमर को सहारा दे सकते हैं। 
  • इस स्थिति में सामान्‍य रूप से सांस लें और छोड़ें और 10 से 30 सेकेंड तक इसी मुद्रा में बने रहें। 
  • इस मुद्रा में रहने के बाद आप सांस छोड़ते हुए अपने कुल्‍हों को वापस जमीन पर लाएं। 
  • और अपने टखनों को छोड़ते हुए पुन: शवासन के मुद्रा में आ जाएं और विश्राम करें। 

सावधानियां 

अगर आपको अल्‍सर और हार्निया जैसी बीमारियां हैं तो इस आसन को न करें। गर्भवती महिलाओं को ये आसन सावधानी से और किसी प्रशिक्षक की मदद से ही करना चाहिए। 

सेतुबंधासन करने के लाभ 

  • यह आसन पीठ के निचले हिस्‍से की मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है। 
  • सेतुबंधानसन आपके पेट के अंदरूनी अंगों में खिंचाव लाकर पाचन क्रिया में सुधार लाता है। 
  • सेतुबंधानसन को करने से कब्‍ज की समस्‍या से निजात मिलती है। 
  • सेतुबंधानसन हृदय संबंधी कार्यों में सुधार लाता है। 
  • नियमित रूप से सेतुबंधानसन करने से आपको अनिद्रा और अवसाद से मुक्ति मिलती है। 

Read More Articles On Yoga In Hindi

Disclaimer