प्रेगनेंसी में ब्लड प्रेशर बढ़ने पर दिखते हैं ये 4 लक्षण, जानें कैसे करें बचाव

हाइपरटेंशन आजकल की एक सामान्य समस्या बन गई है। गर्भावस्था में भी यह समस्या देखने को मिलती है। जानें इसके लक्षण-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: May 12, 2022Updated at: May 12, 2022
प्रेगनेंसी में ब्लड प्रेशर बढ़ने पर दिखते हैं ये 4 लक्षण, जानें कैसे करें बचाव

Hypertension Symptoms in Pregnancy: गर्भावस्था में महिलाओं को कई तरह के शारीरिक और मानसिक समस्याओं से जूझना पड़ता है। इसमें हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर भी एक समस्या है। 50 में से 3 गर्भवती महिलाओं को इसका सामना करना पड़ता है। ब्लड प्रेशर रक्त को धमनियों की दीवारों के खिलाफ धकेलती है, हृदय रक्त पंप करता है। हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप तब होता है, जब धमनी की दीवारों के खिलाफ अधिक बल लगता है। गर्भावस्था में हाई ब्लड प्रशर 3 तरह के हो सकते हैं। इसमें गर्भकालीन उच्च रक्तचाप, क्रोनिक हाइपरटेंशन और प्रीक्लेम्पसिया शामिल हैं।

इस महीने हम अपने Campaign ‘focus of the month’ - Beat The Pressure में ब्लड प्रेशर से जुड़ी जरूरी जानकारियां और टिप्स आपके साथ शेयर कर रहे हैं। आज के इस लेख में हम आपको बता रहे हैं प्रेगनेंसी में हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन होने पर कौन-कौन से लक्षण नजर आ सकते हैं।

गर्भवस्था में हाइपरटेंशन के कारण (Hypertension Causes in Pregnancy)

  • गर्भावस्था से पहले हाई ब्लड प्रेशर होना
  • पिछली गर्भावस्था में ब्लड प्रेशर हाई रहना
  • गुर्दे की बीमारी होना 
  • मधुमेह होना 
  • 20 वर्ष से कम आयु या 40 वर्ष से अधिक आयु का होना 
high bp

गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के लक्षण (Hypertension Symptoms in Pregnancy)

हर गर्भावस्था में लक्षण थोड़े अलग हो सकते हैं। गर्भावस्था के दूसरे भाग में मुख्य लक्षण उच्च रक्तचाप हो सकता है। लेकिन कुछ महिलाओं में कोई लक्षण नहीं होते हैं। गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप अन्य गंभीर समस्याओं को जन्म दे सकता है। इसलिए अगर गर्भावस्था में आपको हाई ब्लड प्रेशर का कोई भी लक्षण नजर आता है, तो इस बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें और समय रहते इलाज करवाएं। गर्भावस्था में हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर के लक्षणों में शामिल हैं-

1. सिरदर्द 

प्रेगनेंसी या गर्भावस्था में हाई ब्लड प्रेशर होने पर आपको सिरदर्द का लक्षण नजर आ सकता है। लेकिन इसका ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि हर सिरदर्द हाइपरटेंशन ही है। कई बार अन्य कारणों की वजह से भी सिरदर्द परेशान कर सकता है। लेकिन अगर हाई ब्लड प्रेशर की वजह से सिरदर्द होता है, तो इस स्थिति में यह लंबे समय तक रह सकता है।

इसे भी पढ़ें - बच्चों को जिद्दी बना सकती हैं पेरेंट्स की ये छोटी-छोटी गलतियां, परवरिश में रखें इनका ध्यान

2. एडिमा (सूजन)

जब शरीर के किसी अंदरूनी या बाहरी अंगों का आकार बढ़ने लगे, तो इसे सूजन कहा जाता है। मेडिकल भाषा में इसे एडिमा कहते हैं। गर्भावस्था में ब्लड प्रेशर होने पर महिलाओं में सूजन की समस्या देखी जा सकती है। सूजन सामान्य और गंभीर दोनों तरह की हो सकती है।

pregnancy

3. अचानक वजन बढ़ना

वैसे तो गर्भावस्था में वजन बढ़ना स्वाभाविक है, लेकिन जब अचानक से वजन बढ़ जाता है तो यह हाई ब्लड प्रेशर का एक लक्षण हो सकता है। वजन बढ़ने पर अपने डॉक्टर से जरूर मिलें।

इसे भी पढ़ें - बच्चों को खतरनाक हीट वेव (लू) से बचाना है तो अपनाएं ये टिप्स, बॉडी रहेगी हाइड्रेट

4. दृष्टि परिवर्तन

प्रेगनेंसी में आंखों की रोशनी कम होना भी हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर का लक्षण हो सकता है। इस स्थिति में धुंधला दिखाई देना, दोहरा दिखाई देना जैसा महसूस हता है।

इन सबके अलावा प्रेगनेंसी में हाइपरटेंशन होने पर उल्टी, मितली, पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में दर्द और पेशाब का खुलकर न आना जैसे लक्षण भी नजर आ सकते हैं। 

प्रेनगेंसी में हाई ब्लड प्रेशर से बचाव

प्रेगनेंसी में महिलाओं को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसमें हाई ब्लड प्रेशर यानी हाइपरटेंशन भी शामिल है। लेकिन खुद पर ध्यान देकर, जीवनशैली और खान-पान की आदतों में बदलाव करके इस समस्या से बचा जा सकता है।

  • प्रेनगेंसी में हाई ब्लड प्रेशर से बचने के लिए तनाव से बचें। तनाव मुक्त रहने के लिए योग, मेडिटेशन का सहारा लें।
  • डायबिटीज प्रेगनेंसी में हाइपरटेंशन की स्थिति को खराब कर सकता है। ऐसे में आप अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रखने की कोशिश करें।
  • अपनी डाइट में हेल्दी फूड्स को शामिल करें। हाई बीपी से बचाव के लिए सोडियम या नमक का सेवन कम मात्रा में करें।
  • पोटेशियम, फाइबर युक्त आहार को अपनी डाइट का हिस्सा बनाएं।

प्रेगनेंसी में कई महिलाओं को हाइपरटेंशन का सामना करना पड़ता है। अगर आप में भी इसका कोई लक्षण नजर आता है, तो तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें और अपनी सभी जरूरी जांचें करवाएं।

Disclaimer