इन 8 जड़ी बूटियों की मदद से हाई बीपी को कर सकते हैं कंट्रोल, जानें आयुर्वेदाचार्य से

हाई ब्लड प्रेशर से परेशान लोग आयुर्वेदिक जड़ी बूटी की मदद ले सकते हैं। इनके उपयोग से इस समस्या को नियंत्रित किया जा सकता है। 

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Feb 05, 2021
इन 8 जड़ी बूटियों की मदद से हाई बीपी को कर सकते हैं कंट्रोल, जानें आयुर्वेदाचार्य से

आज के समय में लाखों लोग हाई ब्लड प्रेशर यानि उच्च रक्तचाप की समस्या से परेशान रहते हैं। ऐसे में उनके मन में केवल एक सवाल चलता है कि क्या खाएं और क्या नहीं? किन चीजों से इन दिनों परहेज करना सही है और क्या चीज अपनी डाइट में शामिल करें। ऐसे में आपको बता दें कि आयुर्वेद में इस समस्या का हल है। आयुर्वेद में कई ऐसी जड़ी बूटियां हैं जिनके सेवन से या इस्तेमाल से आप उच्च रक्तचाप यानि हाई बीपी की समस्या को सामान्य कर सकते हैं। आज हम उन्हीं जड़ी बूटियों पर प्रकाश डालेंगे। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि उच्च रक्तचाप को आयुर्वेद की जड़ी बूटी से किस प्रकार नियंत्रित किया जा सकता है। इसके लिए हमने महर्षि आयुर्वेद के चिकित्सा अधीक्षक और आयुर्वेदाचार्य सौरभ शर्मा से भी बात की है। आइए जानते हैं इनके बारे में...

आयुर्वेद में पाई जाने वाली जड़ी बूटियां (Ayurveda Treatment for High Blood Pressure)

बता दें कि आयुर्वेद में कुछ ऐसी जड़ी बूटियां शामिल हैं जिनके उपयोग से आप  हाई बीपी के स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं। जानते हैं इन जड़ी बूटियों के बारे में..

1 - हाई बीपी के लिए त्रिफला (Triphala for High Blood Pressure)

आयुर्वेद में महत्वपूर्ण जड़ी-बूटी में से त्रिफला भी एक है। बता दें कि यह जड़ी बूटी बहेड़ा, आंवला, हरड़ से मिलकर बनी है। इसके सेवन से न केवल ब्लड में कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित होता है बल्कि यह वजन कम करने में भी बेहद उपयोगी है। बता दें कि रक्त परिसंचरण में सुधार करके यह रक्त वाहिकाओं की दीवारों के खिलाफ दबाव को कम करने में मदद करती है।‌ ऐसे में आप खाना खाने के 2 घंटे बाद गर्म पानी के साथ एक चम्मच त्रिफला का सेवन कर सकते हैं।

2 - हाई बीपी को रोकने के लिए अर्जुन है उपयोगी Arjun For High Blood Pressure)

जो हाई बीपी कफ असंतुलन की वजह से उत्पन्न होता है उस को नियंत्रित करने में अर्जुन बेहद उपयोगी है। बता दें कि अर्जुन की छाल नेचुरल beta-blocker के रूप में भी जानी जाती है। ऐसे में हम कह सकते हैं कि इसके उपयोग से रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है। साथ ही दिल की बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए आप अर्जुन की छाल का पाउडर इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : इन 4 आसान तरीकों से करें बेडसोर (दबाव अल्सर) का इलाज, जानें क्या है तरीका

3 - नागफनी हाई बीपी के लिए अच्छी (Nagfani Hawthorne for High Blood Pressure)

नागफनी स्वस्थ रक्त परिसंचरण को विनिमय करने के साथ-साथ दिल को मजबूत बनाता है। इसलिए यह उच्च रक्तचाप यानी हाई बीपी के साथ-साथ दिल और रक्त वाहिकाओं संबंधित समस्या को भी दूर करने में बेहद उपयोगी है। बता दें कि आप नागफनी का पानी या इसकी चाय के रूप में इसका सेवन कर सकते हैं। यह हाई बीपी के स्तर को कम करने में बेहद उपयोगी है।

 4 - ओरिगैनो के प्रयोग से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो दूर (Oregano for Hypertension)

ओरिगैनो यानी अजवाइन की पत्ती। यह एक आश्चर्यजनक जड़ी बूटी है जो सेहत के लिए बेहद उपयोगी है। इसके अंदर करवाक्रोल (Carvacrol) नामक यौगिक मौजूद है जो हाई बीपी को कम करने में बेहद उपयोगी है। ऐसे में आप अपने दैनिक आहार में इसे शामिल कर सकते हैं। साथ ही आप ओरिगैनो की तेल की कुछ बूंदे पानी में मिलाकर सेवन कर सकते हैं। हाई बीपी की समस्या दूर हो जाएगी।

5 - हाई बीपी के लिए जटामांसी (Jatamansi for High Blood Pressure)

जटामांसी एक ऐसी जड़ी बूटी है जो तनाव विकारों को दूर करने में बेहद उपयोगी है। यह न केवल रक्त परिसंचरण को सामान रखती है बल्कि शरीर कू सुरक्षा को बनाए रखने में बेहद उपयोगी है। आपको बता दें कि धमनियों की रक्षा करने के लिए आप जटामांसी का प्रयोग कर सकते हैं। यह वात असंतुलन होने के कारण पैदा हुए हाई ब्लड प्रेशर के इलाज में भी बेहद उपयोगी है। ऐसे में आप घी, शहर या पानी के साथ जटामांसी पाउडर का प्रयोग कर सकते हैं।

6 - अश्वगंधा है हाई बीपी के लिए अच्छा (Ashwagandha for Hypertension)

अश्वगंधा भी आयुर्वेद में प्रसिद्ध जड़ी बूटियों में से एक है। स्ट्रेस हार्मोन और व्यक्तियों के रक्तचाप के स्तर को कम करने में अश्वगंधा बेहद उपयोगी है। बता दें कि यह न केवल मानसिक तनाव को शांत करता है बल्कि तनाव सामना करने के लिए ताकत भी प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें : इमली ही नहीं बल्कि इसके बीज भी हैं शरीर के लिए फायदेमंद, जानें इमली के बीज के 8 फायदे और इस्तेमाल का तरीका

7 - शंखपुष्पी है हाई बीपी के लिए अच्छा (Shankhpushpi for Hypertension)

शंखपुष्पी मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी है। वही यह उच्च रक्तचाप की समस्या के इलाज में भी बेहद उपयोगी है। यह न केवल शरीर के तनाव हार्मोन को नियंत्रित करती है बल्कि इसके इस्तेमाल से साइड इफेक्ट भी देखने को नहीं मिलते हैं।

8 - सर्पगंधा है उच्च रक्तचाप के लिए अच्छा (Sarpagandha for Hypertension)

सर्पगंधा बीपी की समस्या को दूर करने में बेहद उपयोगी है। इसके अंदर रेसेरपीन (Reserpine) शामिल है जो रक्तचाप की स्तर को कम करने में बेहद उपयोगी है। साथ में रक्त के परिसंचरण को सुधारने में भी ये बेहद मददगार है। ऐसे में आप इसकी जड़ का पेस्ट या इसे गुलाब जल के साथ खा सकते हैं। यह तनाव से राहत दिलाने के साथ-साथ केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को भी शांत करता है। लेकिन इसके दुष्परिणाम भी देखने को मिले हैं। ऐसे में इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर करें।
नोट- 
बता दें कि गलत जीवनशैली और बढ़ती जिम्मेदारियों के चलते लोग तनाव से घिर जाते हैं। तनाव और चिंता हई बीपी की मुख्य समस्याओं में से एक है। जब ये समस्या शरीर में उतपन्न होती है तो व्यक्ति में खून का प्रवाह तेजी हो जाता है दिल को ज्यादा काम करना पड़ता है। ध्यान दें कि धमनियों के साथ जो रक्त बहता है वे निश्चित दबाव ही झेल पाता है और जब ये दबाव बढ़ने लगता है धमिनयों का प्रेशर भी बढ़ जाता है और व्यक्ति को हाई बीपी यानि उच्च रक्तचाप की समस्या उत्पन्न हो जाती है। 
ध्यान दें कि वैसे तो जड़ी बूटी बेहद उपयोगी है लेकिन हाई बीपी की परेशानी बढ़ने लगे तो बिना देरी के डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा आप इन जड़ी-बूटियों को अपने दैनिक आहार के साथ नियमित रूप से ले सकते हैं लेकिन हर शरीर की तासीर अलग होती है। ऐसे में इन्हें अपनी डाइट में शामिल करने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। यदि आप हाई बीपी यानि उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने की दवाई ले रहे हैं तो आयुर्वेद की जड़ी बूटियों का सेवन भी डॉक्टर की सलाह पर ही करें। गर्भावस्था में इन जड़ी बूटियों का सेवन किसी के कहने पर न करें। बल्कि डॉक्टर के परामर्श के बाद ही इनका सेवन करें। इसके अलावा जो लोग स्पेशल डाइट को फोलो कर रहे हैं वे अपनी डाइट में बदलाव करने से पहले एक बार डॉक्टर से संपर्क करें। यदि आप किसी गंभीर समस्या से ग्रस्त हैं या कोई स्पेशल ट्रीटमेंट ले रहे हैं तब भी इन आयुर्वेदिक ज़डी बूटियों को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट से संपर्क करें।

(ये लेख महर्षि आयुर्वेद के चिकित्सा अधीक्षक और आयुर्वेदाचार्य सौरभ शर्मा द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है।)

Read more articles on Home Remedies in Hindi

Disclaimer