दालचीनी और शहद का सेवन साथ में करने के 7 फायदे और 5 नुकसान

दालचीनी और शहद का मिश्रण सेहत को कई समस्याओं से दूर रख सकता है लेकिन इनकी अधिकता सेहत के लिए नुकसानदेह भी है। जानें इसके फायदे और नुकसान

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jun 11, 2021
दालचीनी और शहद का सेवन साथ में करने के 7 फायदे और 5 नुकसान

आयुर्वेद में दालचीनी और शहद (Honey and Cinnamon combination) का मिश्रण कई समस्याओं को दूर करने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। भारतीय घर में दालचीनी का प्रयोग मसालों के रूप में किया जाता है, वहीं शहद न केवल त्वचा में निखार लाने के लिए उपयोगी है बल्कि वजन नियंत्रित करने के लिए, बालों में विकास के लिए, इंस्टेंट एनर्जी आदि के लिए भी इसका इस्तेमाल बरसों से किया जा रहा है। आज का हमारा लेख इसी विषय (दालचीनी और शहद के मिश्रण पर) पर है। बता दें कि दालचीनी के अंदर भरपूर मात्रा में आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जिंक, मैग्नीज, कॉपर, सेलेनियम, आदि गुण मौजूद होते हैं। जबकि शहद के अंदर भरपूर मात्रा में कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जिंक, फाइबर, प्रोटीन, विटामिन सी, फोलेट, नियासिन आदि पोषक तत्व मौजूद होते हैं। ऐसे में इन दोनों का मिश्रण सेहत के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि दालचीनी और शहद को एक साथ खाने से सेहत को क्या लाभ (Honey and Cinnamon combination benefits) होते हैं? साथ ही हम इसके नुकसान (Honey and Cinnamon combination side effects) के बारे में भी जानेंगे। इसके लिए हमने आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

1 - प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए शहद और दालचीनी का मिश्रण (honey and cinnamon for immune system)

प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में विटामिन सी और लोहा शहद और दालचीनी के अंदर यह दोनों भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ऐसे में यह न केवल इम्यून सिस्टम को बेहतर करता है बल्कि संक्रमण और कीटाणुओं को शरीर से दूर करता है। साथ ही इसका मिश्रण सफेद रक्त कोशिकाओं को मजबूती देता है। ऐसे में शहद और दालचीनी की चाय भी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में सहायक है।

2 - त्वचा के संक्रमण के लिए शहद और दालचीनी (honey and cinnamon for skin infection)

अगर आप त्वचा के किसी भी प्रकार के संक्रमण से परेशान हैं तो शहद और दालचीनी आपकी इस परेशानी को दूर करने में उपयोगी है। प्रभावित क्षेत्रों में दालचीनी और शहद को लगाने से एग्जिमा, दाद, चकते, दाग-धब्बे आदि समस्याएं दूर हो जाती हैं। इसके अलावा शहद और दालचीनी का मिश्रण कवक संक्रमण और बैड बैक्टीरिया से लड़ने में भी सहायक है।

  • सबसे पहले आप  चुटकी भर दालचीनी को शहद के साथ मिलाएं।
  • उसके बाद बने मिश्रण को प्रभावित स्थान पर लगाएं।
  • अब 15-20 मिनट बाद धो लें।

इसे भी पढ़ें- Black Pepper & Honey: शहद और काली मिर्च के सेवन से सेहत को होते हैं ये 5 फायदे, जानें इनसे होने वाले नुकसान

3 - फंगल इंफेक्शन के लिए दालचीनी और शहद (honey and cinnamon for fungal infection)

दालचीनी और शहद फंगल इन्फेक्शन की समस्या को दूर करने करने में मददगार हैं। दालचीनी के अंदर एंटीफंगल गुण मौजूद होते हैं जो न केवल शरीर को फंगल इंफेक्शन से बचाते हैं बल्कि कैंडिडा ट्रॉपिकल (Candida tropicalis) आदि से भी लड़ने में सहायक है। लेकिन शहद के साथ फंगल इंफेक्शन को कम करने का प्रभाव थोड़ा कम हो सकता है। ऐसे में आप शहद की मात्रा कम और दालचीनी की मात्रा ज्यादा रखें। सही मात्रा के लिए डॉक्टर से जानें कि दालचीनी और शहद की कितनी मात्रा फंगल इन्फेक्शन को दूर करने में उपयोगी है।

4 - ओरल हेल्थ के लिए दालचीनी और शहद (honey and cinnamon for oral health)

शहद और दालचीनी के पानी से कुल्ला करने से जबड़े, दांत, दातों में कीड़े आदि की समस्या दूर हो सकती है। हालांकि दालचीनी का ज्यादा इस्तेमाल दांतों को नुकसान भी पहुंचा सकता है। ऐसे में सबसे पहले एक्सपर्ट से जाने की दालचीनी और शहद की कितनी मात्रा का इस्तेमाल आप ओरल हेल्थ कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- सोने से पहले गर्म दूध में 2 चुटकी दालचीनी पाउडर डालकर पीने से शरीर को मिलते हैं ये 7 फायदे

5 - मूत्राशय संक्रमण के लिए दालचीनी और शहद (honey and cinnamon for bladder infection)

यदि आप पाचन संबंधित समस्या से परेशान हैं या मूत्राशय में कीड़े की समस्या से ग्रस्त हैं तो शहद और दालचीनी पाउडर आपके काम आ सकता है। शहद और दालचीनी ना केवल कीड़ों को बाहर निकालता है बल्कि पाचन संबंधी समस्याएं भी दूर करता है। ऐसे में आप शहद के साथ एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिलाएं और गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। इसको खाली पेट पीने से ज्यादा प्रभाव होता है। इसके अलावा यदि आप पेट दर्द, पेट की सूजन, दस्त, पेट में अल्सर आदि से परेशान हैं तो दालचीनी और शहद के सेवन से इस परेशानी को दूर किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें- Benefits of Turmeric And Honey: हल्दी और शहद का मिश्रण सेहत के लिए कितना अच्छा? जानें इसके फायदे और नुकसान

6 - गठिया के लिए दालचीनी और शहद (honey and cinnamon for arthritis)

जो लोग गठिया के कारण होने वाले दर्द दर्द और सूजन से परेशान हैं वे दैनिक रूप से अपनी जीवनशैली में दालचीनी और शहद के मिश्रण को शामिल कर सकते हैं अगर किसी व्यक्ति को लंबे समय से गठिया की परेशानी है तो ये मिश्रण इस परेशानी को भी दूर कर सकता है। शहद और दालचीनी पाउडर को गर्म पानी के साथ मिलाएं और इसका तुरंत सेवन करें। सुबह और शाम खाली पेट सेवन करने से गठिया की समस्या काफी हद कम हो जाती है। 

7 - पिंपल्स के लिए दालचीनी और शहद (honey and cinnamon for pimples)

अगर आप चेहरे पर हुए पिंपल्स, काले निशान आदि से परेशान हैं तो आप शहद और दालचीनी से बने पेस्ट का इस्तेमाल अपने चेहरे पर कर सकते हैं और इस समस्या को दूर कर सकते हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले शहद में एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिलाना होगा और प्रभावित स्थान पर लगाना होगा। रात भर इस मिश्रण को चेहरे पर लगाने के बाद सुबह उठकर सादे या गुनगुने पानी से अपने चेहरे को धोएं। इसके अलावा आप शहद दालचीनी के साथ दूध का उपयोग भी कर सकते हैं। ऐसा करने से त्वचा का रंग निखरता है और दाग, धब्बे, निशान आदि सब दूर होते हैं।

दालचीनी और शहद के नुकसान (side effects of honey and cinnamon)

1 - शहद और दालचीनी को ज्यादा मात्रा में खाने से या उपयोग करने से एलर्जी (उल्टी, जी मचलाना, खुजली, लाल निशान) की समस्या हो सकती है।

2 - अगर कोई व्यक्ति दालचीनी और शहद का सेवन अधिक मात्रा में करे तो इससे पेट दर्द या ऐंठन की समस्या हो सकती है।

3 - शहद और दालचीनी ब्लड शुगर को स्थिर कर सकता है।

4 - शहद में दालचीनी की मात्रा अधिक हो जाए तो लिवर संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।

5 - अगर व्यक्ति शहद और दालचीनी का सेवन अधिक मात्रा में करें तो इससे शरीर में ग्लूकोस लेवल का स्तर कम हो सकता है, जिसके कारण सुस्ती और उर्जाहीन महसूस कर सकता है।

इसे भी पढ़ें- दालचीनी और जीरा का एक साथ सेवन करने से सेहत को मिलते हैं दोगुने फायदे

दालचीनी और शहद का उपयोग (uses of honey and cinnamon)

आमतौर पर दालचीनी का नियमित रूप से सेवन करना हानिकारक हो सकता है। अगर इसकी अधिकता ज्यादा हो जाए तो शरीर में टॉक्सिक प्रभाव पड़ने की संभावना होती है। जबकि शहद का सेवन नियमित रूप से किया जा सकता है लेकिन इसकी अधिकता भी सेहत के लिए नुकसानदेह है। अगर शहद और दालचीनी का सेवन या उपयोग नियमित रूप से किया जाए तो सबसे पहले इनकी सीमित मात्रा का ज्ञान है उसके बाद ही इसका उपयोग करें।

इसे भी पढ़ें- जानें दालचीनी तेल के फायदे और नुकसान

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि दालचीनी और शहद सेहत के लिए बेहद फायदेमंद हैं। लेकिन इनकी अधिकता सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकती है। ऐसे में सबसे पहले इसकी सीमित मात्रा का ज्ञान लें। उसके बाद ही इन दोनों को अपनी डाइट में शामिल करें। गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिला अपनी डाइट में शहद और दालचीनी को जोड़ने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें। अगर आप किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं या स्पेशल डाइट फॉलो कर रहे हैं तो बदलाव करने से पहले या दालचीनी और शहद को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की राय जरूर लें।

ये लेख आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on healthy diet in hindi

Disclaimer