शरीर में विटामिन ई की कमी से हाेने लगती हैं कई समस्याएं, डॉक्टर से जानें इनके बारे में

शरीर में विटामिंस का हाेना जरूरी हाेता है। इसकी कमी से कई तरह की बीमारियां हाेने का खतरा बना रहता है। जानें विटामिन ई की कमी पर हाेने वाली समस्याएं

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 18, 2021 10:16 IST
शरीर में विटामिन ई की कमी से हाेने लगती हैं कई समस्याएं, डॉक्टर से जानें इनके बारे में

क्या हमारे शरीर के लिए लिए विटामिन ई जरूरी हाेता है? एक स्वस्थ शरीर के लिए विटामिन ई पर्याप्त मात्रा में हाेना बेहद जरूरी हाेता है। विटामिन ई हमारे शरीर के लिए जरूरी पाेषक तत्वाें में से एक है। शरीर में इसकी कमी हाेने पर कई तरह की समस्याएं या बीमारियां हाेने का खतरा बना रहता है। इस बारे में विस्तार से जानने के लिए हमने  नानावती मैक्स सुपर स्पिशेयलिटी अस्पताल के पाेषण विशेषज्ञ और आहार विभाग के प्रमुख डॉक्टर उषाकिरन सिसाेदिया (Dr. Ushakiran Sisodia, Clinical Nutritionist and Head of Dietary Department, Nanavati Max Super Speciality Hospital) से बातचीत की। आगे के लेख में जानते हैं विटामिन ई की कमी से हाेने वाली समस्याओं के बारे में (Health problems due to vitamin e deficiency)-

vitamin E

(Image Source : dorar-aliraq.net)

क्या है विटामिन ई (What is Vitamin E)

विटामिन ई वसा में घुलनशील एक विटामिन है। यह एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है। विटामिन ई शरीर की राेग प्रतिराेधक क्षमता काे मजबूत बनाए रखता है और शरीर काे वायरस, बैक्टीरिया से लड़ने में सहायता करता है। विटामिन ई की जरूरत महिलाओं, पुरुषाें, बुजुर्गाें और बच्चाें सभी काे हाेती है। शरीर काे इसकी जरूरत उम्र और शारीरिक स्थिति के अनुसार अलग-अलग हाेती है। इसकी कमी से शरीर में कई तरह के राेग हाेने लगते हैं।

इसे भी पढ़ें - शरीर में विटामिन्स की कमी बन सकती है इन मानसिक समस्याओं का कारण, जानें इससे बचाव के लिए जरूरी उपाय

क्या है शरीर में विटामिन ई की कमी (What is Vitamin E Deficiency)

पाेषण विशेषज्ञ डॉक्टर उषाकिरन सिसाेदिया बताते हैं कि विटामिन ई शरीर के लिए सबसे जरूरी पाेषक तत्व है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली काे मजबूत बनाने के लिए जरूरी हाेता है।  विटामिन ई एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है। शरीर में विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा न हाेना ही विटामिन ई की कमी हाेती है। शरीर में विटामिन ई की कमी हाेना असामान्य है। यह केवल अंतर्निहित स्थितियों के कारण होती है। विटामिन ई काे घाव भरने और त्वचा कैंसर या स्किन कैंसर जैसे विभिन्न प्रकार की त्वचा संबंधी विकाराें के लिए फायदेमंद माना जाता है। कुछ खास खाद्य सामग्री में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हाेता है, ताे  कुछ में पूरक रूप में जोड़ा जाता है।  

vitamin E

(Image Source : belturk.be)

विटामिन ई कमी के लक्षण (Symptom of Vitamin E Deficiency)

पाेषण विशेषज्ञ डॉक्टर उषाकिरन सिसाेदिया बताते हैं कि जब शरीर में सभी जरूरी पाेषक तत्व पर्याप्त मात्रा में नहीं हाेते हैं, ताे कुछ न कुछ ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं। जिससे पता चलता है कि शरीर विटामिंस या मिनरल्स की कमी से जूझ रहा है। ऐसे ही विटामिन ई के साथ भी हाेता है। जब बॉडी में विटामिन ई की कमी हाेती है, ताे कई लक्षण नजर आते हैं। जानें विटामिन ई की कमी पर दिखने वाले लक्षणाें के बारे में-

  • लंबे समय तक खड़े हाेने में तकलीफ हाेना
  • मांसपेशियाें में दर्द हाेना
  • साफ न दिखाई देना
  • पेट से जुड़ी समस्याएं रहना
  • सुस्ती महसूस करना
  • हमेशा थके-थके रहना

विटामिन ई की कमी से हाेने वाली समस्याएं (Diseases Due to Vitamin E Deficiency)

शरीर में विटामिंस की कमी हाेने पर कई तरह के राेग हाेने लगते हैं। विटामिन ई की कमी हाेने पर भी कई तरह की बीमारियां व्यक्ति काे घेर लेते हैं। विटामिन ई की कमी से हाेने वाली समस्याएं या बीमारियां-

इसे भी पढ़ें - शरीर में है विटामिन ई की कमी, तो आहार में शामिल करें ये 5 चीजें

1. मांसपेशियां कमजाेर हाेना (Weak Muscles)

पाेषण विशेषज्ञ डॉक्टर उषाकिरन सिसाेदिया के अनुसार विटामिन ई की कमी हाेने पर मांसपेशियाें में कमजाेरी आना बेहद सामान्य समस्या है। शरीर में इसकी कमी हाेने पर सबसे पहले व्यक्ति काे इसी समस्या का सामना करना पड़ता है। इसकी कमी से मायाेपैथी की समस्या हाेना भी आम हाेता है। शरीर में विटामिन ई और सेलेनियम की कमी हाेने पर मायाेपैथी के मामले गंभीर रूप ले सकते हैं। 

vitamin E

(Image Source : eqrae.com)

2. आंखाें से जुड़ी समस्याएं (Eye Problem)

आंखाें काे स्वस्थ रखने के लिए शरीर में विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा हाेना बेहद जरूरी हाेता है। इसकी कमी हाेने पर आंखाें से जुड़ी कई तरह की समस्याएं हाेने लगती हैं। इसमें सबसे सामान्य है आंखाें या नजर का कमजाेर हाे जाना। दरअसल, विटामिन ई की कमी से आंखाें का रेटिना और डिजेनरेशन पतला हाे जाता है। इससे आंखाें के अंदर की परत पर असर पड़ता है। अगर आपकाे धुंधला दिखाई देता है, ताे हाे सकता है कि आपके शरीर में विटामिन ई की कमी हाे।

3. पाचन तंत्र का कमजाेर हाेना (Weak Digestive System)

पाेषण विशेषज्ञ डॉक्टर उषाकिरन सिसाेदिया बताते हैं कि विटामिन ई की कमी से पाचन क्रिया सही तरीके से कार्य नहीं कर पाती हैं, जिसका असर पाचन तंत्र पर पड़ता है। पाचन तंत्र कमजाेर हाेने पर पेट से जुड़े कई तरह के राेग पैदा हाे सकते हैं। अगर आप अपने पाचन तंत्र काे मजबूत बनाए रखना चाहते हैं, ताे शरीर में विटामिन ई की कमी बिल्कुल न हाेने दें।

4. शरीर में खून की कमी (Lack of Blood in Body)

विटामिन ई शरीर के लिए एक बेहद जरूरी पाेषक तत्व है। इसकी कमी हाेने पर रेड ब्लड सेल्स में भी कमी हाेने लगती है, जिससे शरीर में खून की कमी हाेती है और कई अन्य बीमारियां पैदा हाेने लगती है। दरअसल, रेड ब्लड सेल्स से हीमाेग्लाेबिन की मदद से शरीर के अन्य हिस्साें में ऑक्सीजन सप्लाई हाेता है।

5. बच्चे का वजन कम हाेना (Losing Baby Weight)

अगर प्रेगनेंसी के समय शरीर में विटामिन ई की कमी हाेता है, ताे इससे बच्चे का वजन कम हाे सकता है। प्रेग्नेंट महिलाओं काे अपनी डाइट का खास ध्यान रखना जरूरी हाेता है। साथ ही बैलेंस डाइट जरूरी हाेता है। इस दौरान शरीर में पाेषक तत्वाें की कमी का असर बच्चे पर पड़ सकता है।

6. नर्वस सिस्टम से जुड़ी परेशानियां (Nervous System Related Problems )

शरीर में विटामिन ई की कमी हाेने से सेंट्रल नर्वस सिस्टम की प्रक्रिया भी बाधित हाे सकती है। इससे आपका नर्वस सिस्टम सही तरीके से कार्य करने में असमर्थ हाेता है। 

7. तनाव पैदा हाेना (Stress)

विटामिन ई की कमी से शरीर हमेशा बीमार-बीमार सा लगता है। साथ ही इससे आपकाे थकान, कमजाेरी महसूस हाे सकती है। जिससे आपकाे तनाव पैदा हाेने की संभावना बढ़ती है।

समय पर आहार परिवर्तन और विटामिन ई सप्लीमेंट की मदद से आप अपने शरीर में विटामिन ई की पूर्ति कर सकते हैं। लेकिन काेई भी सप्लीमेंट डॉक्टर की सलाह पर लें। साथ ही दवाइयाें की मदद से विटामिन ई से हाेने वाली समस्याओं काे भी दूर किया जा सकता है। विटामिन ई की कमी के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी हाेता है। 

(Main Image Source : eqrae.com, rtl.de)

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer