बवासीर में गुलकंद के फायदे, एक्सपर्ट से जानें खाने का तरीका

Gulkand For Haemorrhoids : गुलकंद बवासीर के मरीजों के लिए काफी हेल्दी हो सकता है। आइए जानते हैं इसके फायदे और इस्तेमाल का तरीका

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Aug 05, 2022Updated at: Aug 05, 2022
बवासीर में गुलकंद के फायदे, एक्सपर्ट से जानें खाने का तरीका

Gulkand For Haemorrhoids : गुलकंद सेहत के लिहाज से काफी हेल्दी हो सकता है। यह गुलाब की पंखुड़ियों से तैयार होता है। इसकी खुशबू और स्वाद काफी लाजवाब होती है। अधिकतर लोग पान के साथ गुलकंद का सेवन करते हैं। इसके अलावा चाय, दूध, शहद जैसी चीजों के साथ भी गुलकंद का इस्तेमाल किया जा सकता है। गुलकंद स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियों को दूर कर सकता है। बवासीर से ग्रसित मरीजों के लिए गुलकंद काफी हेल्दी हो सकता है। इसके सेवन से बवासीर में होने वाली कई तरह की परेशानियों को कम किया जा सकता है। आज हम इस लेख में बवासीर में गुलकंद के फायदों के (Gulkand Benefits for Piles) बारे में जानेंगे। 

बवासीर में गुलकंद के फायदे - Gulkand Benefits during Piles

गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि बवासीर या खूनी बवासीर के इलाज में गुलकंद काफी हेल्दी हो सकता है। यह मुख्य रूप से मल त्यागने में होने वाली परेशानियों को कम करता है। दरअसल, गुलकंद में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर रूप से मौजूद होते हैं, जो शरीर की विषाक्तता को कम करने में असरदार हैं। इसके अलावा गुलकंद में फाइबर होता है, जो मल को सॉफ्ट बनाता है। इतना ही नहीं बवासीर के दौरान गुदे में होने वाली सूजन को कम करने में भी गुलकंद काफी हेल्दी हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - दूध में गुलकंद डालकर पीने से गर्मी में शरीर को मिलेगी ठंडक, जानें इसके फायदे और पीने का तरीका

गुलकंद का सेवन करने से पाचन क्रिया में सुधार किया जा सकता है। पाचन तंत्र को स्वस्थ रखकर आप बवासीर की परेशानियों को काफी हल्द कम कर सकते हैं। अगर आपको बवासीर की समस्या है तो अपने आहार में गुलकंद को शामिल करें। इससे आपको काफी लाभ होगा। 

बवासीर में कैसे करें गुलकंद का सेवन - How to Use Gulkand in Piles 

गुलकंद और दूध - Milk and Gulkand benefits

बवासीर में होने वाली परेशानियों को कम करने के लिए दूध और गुलकंद का सेवन करें। यह मल त्यागने के दौरान होने वाली स्ट्रेस को कम करता है। इसका सेवन करने के लिए रात में सोने से पहले 1 गिलास दूध लें। अब इसमें 1 चम्मच गुलकंद डालकर पिएं। इससे बवासीर की परेशानियां (gulkand with milk at night benefits) दूर होंगी। 

गर्म पानी के साथ गुलकंद - Hot water with gulkand

गर्म पानी के साथ आप गुलकंद का सेवन कर सकते हैं। यह काफी हेल्दी होता है। रात में सोने से पहले 1 चम्मच गुलकंद के साथ 1 गिलास गर्म पानी पिएं। यह पाचन में सुधार करके कब्ज और बवासीर से राहत दिला सकता है। 

बवासीर में कैसे खाएं गुलकंद?

गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि बवासीर की समस्या होने पर आप दिन में दो बार गुलकंद ले सकते हैं। हालांकि, ध्यान रखें कि खाने से करीब 1 से 2 घंटे बाद गुलकंद का सेवन करें। यह बवासीर और कब्ज से आराम दिला सकता है। 

बवासीर में गुलकंद फायदेमंद हो सकती है। हालांकि, ध्यान रखें कि अगर आपको किसी तरह की परेशानी है तो एक्सपर्ट से सलाह लेकर ही गुलकंद का सेवन करें।
Disclaimer