Doctor Verified

क्या है सोते समय आपको भी होता है ऊंचाई से ग‍िरने का एहसास? जानें कारण

आपको भी सोने के दौरान ऊंचाई से ग‍िरने का एहसास महसूस होता है? जान लें कारण और बचाव के उपाय

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 09, 2022Updated at: Sep 09, 2022
क्या है सोते समय आपको भी होता है ऊंचाई से ग‍िरने का एहसास? जानें कारण

सोने के समय ऊंचाई से नीचे ग‍िरने का एहसास महसूस होना सामान्‍य नहीं है। इसके पीछे बीमारी या लाइफस्‍टाइल से जुड़ी कोई गलत आदत हो सकती है। अन्‍य कारण की बात करें, तो हमारे द‍िमाग में मौजूद न्‍यूरोट्रॉन्‍सम‍िटर्स र‍िलीज होने के कारण मैसेज नर्व सेल्‍स से प्रोटीन सेल्‍स की ओर जाते हैं। इनके कारण मसल्‍स मूव होती हैं। मसल्‍स में मूवमेंट के कारण आपको ग‍िरने का एहसास या जर्क महसूस हो सकता है। ग‍िरने का एहसास अचानक और अनैच्‍छ‍िक होता है ज‍िसे व्‍यक्‍त‍ि न‍ियंत्र‍ित नहीं कर पाता है। इस लेख में हम सोने के दौरान नीचे ग‍िरने का एहसास होने के अन्‍य कारण और उपाय जानेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।  

falling while asleep

तनाव होना 

सोने के दौरान आपको नीचे ग‍िरने का एहसास महसूस हो रहा है, तो उसका एक कारण तनाव भी हो सकता है। तनाव के कारण आप गहरी नींंद नहीं ले पाते और बुरे ख्‍याल आपके मन में चलते रहते हैं। सके कारण आपको सोने के दौरान नीचे ग‍िरना या घबराहट होने जैसे अनुभव महसूस हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- अच्छी नींद के लिए सोने से पहले करें ये 7 काम, सुबह उठेंगे फ्रेश और एनर्जेटिक   

स्‍लीप‍िंग ड‍िसऑर्डर   

नींद पूरी न होने के कारण या सोने में परेशानी होने के कारण आपको सोने के दौरान डरावने सपने या ग‍िरने का एहसास महसूस हो सकता है। इसका कारण स्‍लीप‍िंग ड‍िसऑर्डर हो सकता है। कई तरह के स्‍लीप‍िंग ड‍िसऑर्डर हो सकते हैं ज‍िनके बारे में डॉक्‍टर आपको सही जानकारी दे सकते हैं।   

कैफीन ज्‍यादा पीना 

अगर आप कॉफी का सेवन ज्‍यादा करते हैं, तो आपकी स्‍लीप साइक‍िल प्रभाव‍ित हो सकती है। इससे आपको अन‍िद्रा की समस्‍या या सोने के दौरान मसल्‍स का मूवमेंट महसूस हो सकता है। सोने के दौरान नीचे ग‍िरने का एहसास एकलौता नहीं है। इसके अलावा आपको सोने के दौरान डर लगना या अन्‍य एहसास भी महसूस हो सकते हैं। 

बचाव के ट‍िप्‍स 

  • समय पर सोएं और 7 से 8 घंटे की नींद पूरी करके उठें।
  • सुबह 10 से 15 म‍िनट मेड‍िटेशन जरूर करें।
  • स्‍ट्रेस कम करने के ल‍िए योग भी कर सकते हैं।
  • हेल्‍दी डाइट का सेवन करें और हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल फॉलो करें।
  • सांस लेने में तकलीफ या बीपी कम ज्‍यादा होने पर डॉक्‍टर से सलाह लें।
  • क‍िसी भी तरह की दवाओं का सेवन सोने से 2 से 3 घंटे पहले कर लें।

ज‍िन भी कारणों से आपकी नींद खराब होती है उन्‍हें अपने रूटीन से हटा दें और आरामदायक तरीके से सोने की कोश‍िश करें।

Disclaimer