मानसिक बीमारियों से बचना है तो छोड़ दें खाने से जुड़ी ये 5 आदतें, दिमाग पर पड़ता है बुरा असर

बॉटल से सीधे पानी पीने और टीवी चला कर खाना खाने की आदत आपको मानसिक बीमारियों का शिकार बना सकती है। वो कैसे आइए जानते हैं। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Aug 26, 2021 11:17 IST
मानसिक बीमारियों से बचना है तो छोड़ दें खाने से जुड़ी ये 5 आदतें, दिमाग पर पड़ता है बुरा असर

मानसिक बीमारियां आज कल तेजी से बढ़ रही है। इसके पीछे एक बड़ा कारण है हमारी खराब लाइफस्टाइल। पर उससे भी बड़ा कारण है हमारे खाने की गलत आदतें। दरअसल, आप क्या खा रहे हैं उसका आपके मन और ब्रेन पर सीधा असर होता है। जैसे कि प्रोसेस्ड फूड्स, चॉकलेट, मिठाई, तला भुना भोजन और हाई फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट्स के सेवन से डिप्रेशन के लक्षण ट्रिगर होते हैं। साथ ही खाना छोड़ने और गलत समय पर खाना खाने की आदत ईटिंग डिसऑर्डर का कारण (mental health and eating disorders) बनते हैं जो कि मूड स्विंग्स और लंबे समय तक रहने वाली उदासी को ट्रिगर करते हैं। इसी तरह ऐसी कई आदतें हैं जिन्हें , आप अनजाने में रोज दोहराते हैं और ये आपकी मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहे हैं। तो, आइए जानते हैं खाने से जुड़ी ऐसी 5 आदतों के बारे में जो, आपको मानसिक बीमारियों का शिकार बना सकती हैं। 

inside3mentalhealth

image credit: GettyImages

मानसिक बीमारियों से बचना है तो छोड़ दें खाने से जुड़ी ये आदतें -Eating habits that affect your mental health

1. नाश्ता देर से करने की आदत

नाश्ता करना दिन को एक परफेक्ट शुरुआत  देता है। पर कुछ लोग नाश्ता नहीं करते या कभी भी नाश्ता करते हैं। ऐसे में ये आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। दरअसल, सुबह-सुबह नाश्ता ना करने से शरीर में ब्लड ग्लूकोज लेवल कम हो जाता है और आप कमजोरी महसूस करने लगते हैं। साथ ही आपका दिमाग तेजी से काम नहीं कर पाता है जिससे आपको सुबह से ही आलसी और एनर्जीलेस महसूस होता है। पर सबसे बड़ा नुकसान तब होता है जब जब आप देर से नाश्ता करते हैं। इससे आपका ब्लड शुगर लेवल अचानक से बढ़ता है जो कि सिर दर्द और माइग्रेन का कारण बन सकता है। इसके अलावा नाश्ता सुबह न करने से लोगों को अधिक भूख लगती है और दोपहर के भोजन में अधिक खाते हैं कुल कैलोरी की मात्रा बढ़ती है, जो कि मोटापा, डायबिटीज, मूड स्विंग्स और क्रेविंग का कारण बन सकता है। 

इसे भी पढ़ें : सफलता पाने के डर और तनाव (Fear of Success) को कम करने में मदद करेंगी ये एक्सपर्ट टिप्स

2. टीवी या मोबाइल चला कर खाने की आदत

खाते समय टीवी या मोबाइल देखने से ये स्ट्रेस ईटिंग को बढ़ावा देता है, जिसमें कि खाने का फायदा शरीर को नहीं होता और ये मेटाबोलिज्म को भी धीमा कर देता है। इसके अलावा जब जब आप टीवी देखते हुए खाते हैं, तो आपकी एकाग्रता भंग हो जाती है और इस प्रकार मस्तिष्क विचलित हो जाता है और गलत संकेत भेजता है और इसलिए अधिक खाना खा सकते हैं। ऐसे खाना खाने से आपके मन शांत नहीं होता और आप चिड़चिड़े हो सकते हैं। साथ ही आपको मूड स्विंग्स और डिप्रेशन के लक्षण महसूस हो सकते हैं, जैसे कि हर समय उदास रहना। 

inside1eatinghabits

image credit: GettyImages

3. कभी भी स्नैकिंग करने की आदत

कुछ लोगों को किसी भी समय या कभी भी स्नैकिंग करने की आदत हो जाती है। यानी कि वो ब्रेकफास्ट के बाद, लंच के पहले, रात के खाने बाद या दिन-रात कभी भी खाने के लिए तैयार रहते हैं। दरअसल, ये आपके दिमाग को हर वक्त खाने के लिए तैयार कर देता है। इससे आपको हर कुछ देर बाद फूड क्रेविंग महसूस होती है। इस तरह के खान पान से बिना सोचे समझे वजन बढ़ता है पर शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। जैसे कि प्रोटीन, कार्ब्स और विटामिन सी व विटामिन बी-12 जैसे जरूरी विटामिन की कमी, जो कि आपके मानसिक स्वास्थ्य को गहराई से प्रभावित करने लगती है। साथ ही ऐसे लोगों को ज्यादा स्ट्रेस लेते हुए भी देखा गया है। 

4. सीधे बॉटल से पानी पीने की आदत

सीधे बॉटल या बोतल से पानी पीने की आदत वाले लोगों के शरीर को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिलता। दरअसल, बॉटल से सीधे पानी पीने से ये सीधे गले से नीचे चला जाता है और  पेट में लार नहीं ले जाता है। साथ ही ये आदत भूख के लिए प्यास के संकेतों को भ्रमित कर देता। इससे आपके शरीर को ना खाने का फायदा मिलता है ना पानी पीने का।  इस तरह ये आदत आपकी मस्तिष्क के संचार मार्गों में हस्तक्षेप करता है और मस्तिष्क के दिखने और काम करने के तरीके को प्रभावित कर सकता है। ये व्यवधान मूड और व्यवहार को बदल सकते हैं, और स्पष्ट रूप से सोचने और काम करने की गति को प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए पानी पीने का सही तरीका जानें। 

glass-water-bottle_inside2

image credit: freepik

इसे भी पढ़ें : एक को देख कर दूसरे को क्यों आती है जम्हाई, जानें जम्हाई आने का कारण और इसके 5 फायदे

5. क्रेविंग होने पर खाने की आदत

ज्यादात लोगों की आदत होती है कि जब भी उन्हें भूख लगती है या जो खाने का मन होता है वो उसे ही खाते हैं। ये क्रेविंग के कारण होता है। क्रेविंग मानसिक बीमारियों का ये सीधा सा लक्षण है जो कि आपको अन्य बीमारियों की ओर धकेल सकता है। क्रेविंग होने पर खाने आपके मूड स्विंग्स बढ़ सकते हैं। आपका स्ट्रेस लेवल बढ़ सकता है और यहां तक कि आपकी नींद भी प्रभावित होती है जिससे आप मानसिक बीमारियों के आसानी से शिकार हो सकते हैं। 

तो, ये थे खाने से जुड़ी वे 5 आदतें जिनकी वजह से आप मानसिक बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। तो, अगर आपमें भी ऐसी कुछ आदतें हैं तो, आप इन्हें छोड़ने की कोशिश करें। साथ ही हेल्दी चीजें खाएं और जमीन पर बैठ कर आराम से चबाते हुए खाना खाने की आदत डालें। 

Main Image credit: EatingWell

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer