Doctor Verified

Crow's Feet: आंखों के किनारे फाइन लाइन्स (क्रो फीट) क्यों होते हैं? जानें इसे दूर करने के उपाय

कई बार मुस्कुराते हुए या भौंहें चढ़ाने पर आंखों के किनारे फाइन लाइन्स नजर आती हैं। ये क्रो फीट हो सकता है। जानें इसे दूर करने के उपाय।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Nov 20, 2022 15:30 IST
Crow's Feet: आंखों के किनारे फाइन लाइन्स (क्रो फीट) क्यों होते हैं? जानें इसे दूर करने के उपाय

उम्र बढ़ने के साथ झुर्रियां आना एक अनिवार्य प्रक्रिया है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है त्‍वचा में धीरे-धीरे बदलाव आने लगते हैं। खासकर आंखों के आसपास के क्षेत्र में 40 की उम्र के बाद बारीक झुर्रियां दिखाई देने लगती हैं। मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल पटपड़गंज के एसथेटिक एंड रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी विभाग के सीनियर डायरेक्टर डॉ. मनोज जौहर बताते हैं कि इन बारीक लाइनों को क्रो फीट कहा जाता है क्योंकि ये कुछ-कुछ कौऐ के पैर के जैसे दिखते हैं । इन छोटी झुर्रियों को ‘स्माइल लाइन्स’ के रूप में भी जाना जाता है क्‍योंकि ये रेखाएं मुस्‍कुराते समय ज्यादा साफ नजर आती हैं। क्रो फीट उन महिलाओं और पुरुषों को अधिक होता है, जो पर्याप्‍त आराम नहीं करते। बढ़ती उम्र के साथ इलास्टिन और कोलेजन नामक प्रोटीन का प्रोडक्शन कम होने लगता है, जोकि स्किन को जवां और कसावदार बनाए रखता है। इसकी वजह से यह फाइनलाइंस बननी शुरू हो जाती हैं। आइए जानते हैं विस्तार से।

क्रो फीट के कारण

उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को ही मुख्‍य रूप से क्रो फीट के लिए जिम्‍मेदार माना जाता है। उम्र के साथ कोलेजन और इलास्टिन जैसे प्रोटीन त्‍वचा में बनने कम हो जाते हैं। ये प्रोटीन मुख्‍य रूप से त्‍वचा को पोषित करने का काम करते हैं। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, त्‍वचा पतली होती जाती है। आंखों के आसपास की त्‍वचा पहले से ही पतली होती है इसलिए इसमें झुर्रियां पड़ने की संभावना अधिक होती है। मांसपेशियों के सिकुड़ने की वजह से ये लाइन लाइंस अधिक दिखाई देती हैं।

इसे भी पढ़ें- आंखों के आसपास की स्किन को ढीला बना देती हैं आपकी ये 5 गलतियां, जल्द नजर आने लगते हैं बुढ़ापे के लक्षण

व्यक्ति के चेहरे पर यह फाइन लाइंस भी दो तरह से असर करती हैं- डायनामिक और स्टेटिक। जिसमें से डायनामिक फाइन लाइंस फेस एक्सप्रेशन के कारण होते हैं जैसे कि मुस्कुराना, भौंहें चढ़ाना आदि। जबकि स्टेटिक उम्र बढ़ने के कारण पड़ने वाले रिंकल हैं क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ त्वचा की अपनी लचक भी कम होने लगती है।

कैसे पाएं क्रो फीट से छुटकारा?

क्रो फीट को रोकने के लिए एंटी-एजिंग स्किनकेयर रूटीन को अपनाना जरूरी है। स्किन की क्‍लींजिंग, टोनिंग और मॉइस्‍चराइजिंग करके अपनी त्‍वचा की देखभाल करना महत्‍वपूर्ण है। आंखों के आसपास की स्किन काफी नाजुक होती है इसलिए किसी अच्‍छी आई क्रीम से मसाज की जा सकती है। लाइफस्‍टाइल में बदलाव करके फाइन लाइन्‍स को कम किया जा सकता है। त्‍वचा पर सनस्‍क्रीन का उपयोग करना, पर्याप्‍त नींद लेना, अधिक पानी पीना और शराब का कम सेवन करना एंटी-एजिंग की समस्‍या को कम कर सकता है।  

crow's feet

क्रो फीट को कैसे कम करें

बोटॉक्‍स ट्रीटमेंट

क्रो फीट को कम करने के लिए बोटॉक्‍स ट्रीटमेंट का सहारा लिया जा सकता है। इस ट्रीटमेंट में लगभग 15 मिनट लगते हैं। ये एक बेहद प्रभावी तरीका हो सकता है क्रो फीट से छुटकारा पाने का। 

इसे भी पढ़ें- आंखों के आसपास रूखापन बनता है फाइन लाइन्स और डार्क सर्कल्स का कारण, जानें इसके लिए घरेलू उपाय

डरमल फिलर्स

इसके अलावा डरमल फिलर्स का भी प्रयोग किया जा सकता है। 

हयालूरोनिक एसिड

जुवेडर्म और रेस्‍टाइलन जैसे इजेक्‍शन, हाइड्रेशन और स्‍नेहन के माध्‍यम से त्‍वचा को मोटा करने के लिए हयालूरोनिक एसिड का उपयोग किया जाता है। ये बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में मदद करेंगे। 

क्रो फीट का उपचार किसी अच्‍छी क्‍लीनिक और डॉक्‍टर से करावाना सुरक्षित होता है।

Disclaimer