आंखों के आसपास की स्किन को ढीला बना देती हैं आपकी ये 5 गलतियां, जल्द नजर आने लगते हैं बुढ़ापे के लक्षण

आंखों के आसपास की त्वचा ज्यादा सेंसिटिव और पतली होती है, इसलिए छोटी-छोटी गलतियों के कारण बुढ़ापे के लक्षण सबसे पहले यहीं से दिखना शुरू होते हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 12, 2020Updated at: Feb 12, 2020
आंखों के आसपास की स्किन को ढीला बना देती हैं आपकी ये 5 गलतियां, जल्द नजर आने लगते हैं बुढ़ापे के लक्षण

बूढ़ा या उम्रदराज कोई नहीं दिखना चाहता है। आमतौर पर बुढ़ापे के लक्षण सबसे पहले चेहरे पर दिखना शुरू होते हैं, खासकर आंखों के आसपास की त्वचा पर। इसका कारण यह है कि आंखों के आसपास की त्वचा बहुत पतली और नाजुक होती है। बुढ़ापा शाश्वत सत्य है, जिससे बचा नहीं जा सकता है। मगर हां, यह जरूर देखा गया है कि लोगों के द्वारा की गई कुछ खास गलतियों के कारण समय से बहुत पहले ही उनपर बुढ़ापे के लक्षण दिखने लगते हैं। हम आपको बता रहे हैं ऐसी ही 5 गलतियां, जो आपके आंखों के आसपास की त्वचा को ढीला बनाती हैं और फाइन लाइन्स और झुर्रियों का कारण बनती हैं।

आंखों को बार-बार मसलना

एक तो आंखों की त्वचा वैसे ही पतली होती है, जिसके कारण इसकी संवेदनशीलता चेहरे के अन्य हिस्सों की अपेक्षा ज्यादा होती है। ऐसे में अगर आप बार-बार हाथों से आंखों को मसलते हैं, तो इससे त्वचा ढीली हो जाती है। त्वचा के ढीलेपन के कारण जल्द ही फाइन लाइन्स नजर आने लगते हैं। मुंह और नाक की तरह आंखें भी हमारे शरीर में वायरस, बैक्टीरिया के प्रवेश करने का आसान रास्ता होती हैं। इसलिए भी आपको हाथों से बार-बार आंखों के आसपास की त्वचा को नहीं छूना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: दाग-धब्बे मिटाने और त्वचा में निखार के लिए कराना चाहते हैं 'केमिकल पील', तो पहले जान लें ये जरूरी बातें

गलत मेकअप या ब्यूटी प्रोडक्ट्स का चुनाव

त्वचा जितनी पतली और सेंसिटिव होगी, केमिकल्स का प्रभाव उसपर उतना ही ज्यादा पड़ेगा। इसलिए अगर आप आंखों के आसपास गलत या केमिकलयुक्त मेकअप और ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं, तो भी आपकी आंखों के आसपास बुढ़ापे के लक्षण जल्दी नजर आने लगते हैं। आंखों और चेहरे पर आपको हमेशा नैचुरल और ऑर्गेनिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए। बाजार में मौजूद ज्यादातर स्किन केयर प्रोडक्ट्स में पैराबीन का प्रयोग किया जाता है। ये केमिकल आपकी त्वचा के लिए खतरनाक होता है।

मॉइश्चराइजर न लगाना

त्वचा में नमी की कमी के कारण भी चेहरे पर झुर्रियां और फाइन लाइन्स नजर आने लगती हैं, जिसके कारण त्वचा ढीली हो जाती है। अगर आप इस समस्या से बचना चाहते हैं को आपको दिन में कम से कम दो बार अपने चेहरे और शरीर के बाकी खुले हिस्सों पर अच्छा मॉइश्चराइजर लगाना चाहिए। मॉइश्चराइजर आपकी त्वचा की प्राकृतिक नमी को लॉक करते हैं, जिससे त्वचा हाइड्रेट रहती है। आंखों के आसपास की त्वचा को हाइड्रेट रखने के लिए आप स्पेशल आई क्रीम्स का भी प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन इसे खरीदते समय यह जरूर जांच लें कि आई क्रीम में विटामिन्स B, K, C और हाइड्रॉलिक एसिड जरूर हो।

इसे भी पढ़ें: आंखों के पास जमा कोलेस्ट्रॉल को हटाने के लिए क्या करें? जानें 5 मॉडर्न तरीके

सब्जियों और फलों का सेवन कम करना

त्वचा की खूबसूरती के लिए सिर्फ ब्यूटी प्रोडक्ट्स पर निर्भर रहने वाले लोगों की त्वचा जल्द ही खराब हो जाती है। अगर आप अपनी त्वचा को प्राकृतिक रूप से स्वस्थ और खूबसूरत रखना चाहते हैं, तो जरूरी है कि आप खानपान की गलत आदतें छोड़ें और अपने खाने में ज्यादा से फलों और सब्जियों को शामिल करें। फलों और सब्जियों में ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट्स और मिनरल्स होते हैं, जो नए स्किन सेल्स को विकसित होने के लिए जरूर हैं। इसके अलावा टिशूज को रिपेयर करने और त्वचा को फ्री रेडिकल्स से बचाने के लिए भी एंटीऑक्सीडेंट्स बहुत जरूरी हैं।

सनस्क्रीन न लगाना

धूप की अल्ट्रावायलेट किरणें जब चेहरे पर पड़ती हैं, तो सबसे पहले आंखों के आसपास की पतली त्वचा को ही नुकसान पहुंचता है। इसका कारण यह है कि त्वचा पतली होने के कारण ये किरणें इसे भेदकर अंदर तक पहुंच जाती हैं और त्वचा में जलन पैदा करने लगती हैं। सर्दी हो या गर्मी, आपको कम से कम 15-20 एसपीएफ का सनस्क्रीन जरूर लगाना चाहिए। इसके अलावा अगर धूप तेज है, तो आप अपने चेहरे को अच्छी तरह कवर कर के निकलें और सनग्लासेज पहनें।

Read more articles on Skin Care in Hindi

Disclaimer