क्या प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक्स पीना सुरक्षित है? डॉक्टर से जानें इसके नुकसान

अगर आप भी प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक पीती हैं तो यहां डॉक्टर से जानें इसके नुकसान के बारे में। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jul 12, 2021Updated at: Jul 12, 2021
क्या प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक्स पीना सुरक्षित है? डॉक्टर से जानें इसके नुकसान

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को खान-पान का विषेश ध्यान रखने की जरूरत होती है। प्रेगनेंसी के दौरान पोष्टिक खान-पान की बजाय तैलीय पदार्थ या फिर कैफीन युक्त कुछ ड्रिंक्स का सेवन करना ऐसे समय में नुकसानदायक साबित हो सकता है। कई महिलाओं के मन में अक्सर यह सवाल उठता है कि क्या प्रेगनेंसी के दौरान कोल्ड ड्रिंक पीना सुरक्षित है? आज हम इस लेख के माध्यम से इसी विषय पर बात करेंगे। दरअसल, कोल्ड ड्रिंक में कैफीन की मात्रा होती है, जो प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं और शिशुओं को नुकसान पहुंचा सकती है। इसमें मौजूद कैफीन कई बार प्लेसेंटा के जरिए शिशु तक भी पहुंच सकता है। इसलिए गर्भ के समय महिलाओं को ऐसे खाद्य पदार्थों की जगह केवल पौष्टिक आहार ही लेना चाहिए। इसी विषय पर अधिक जानकारी लेने के लिए हमने दिल्ली के मनीपाल हॉस्पिटल के ऑब्सट्रेटिक्स एंड गायनेकोलॉजी डिपार्टमेंट की कंसलटेंट डॉक्टर योगिता पराशर ( Dr. Yogita Parashar, Consultant, Obstetrics & Gynecology Department, Manipal Hospital, Delhi) से बातचीत की। चलिए जानते हैं प्रेगनेंसी के दौरान कोल्ड ड्रिंक पीना कितना सुरक्षित है? 

children

क्या बच्चे को हो सकता है नुकसान ? (Can it Harm Babies)

डॉ. योगिता पराशर के मुताबिक ऐसा कोई शोध नहीं है, जिससे यह साबित हो कि प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक पीने से बच्चे पर सीधा असर पड़ सकता है।  लेकिन कोल्ड ड्रिंक एक कार्बोनेटेड ड्रिंक है, जो पेट में जाकर तुरंत अवशोषित होती है और गर्भवति महिला के साथ-साथ बच्चे को भी नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए चिकित्सकों द्वारा भी इसे पीने की सलाह नहीं दी जाती है। डॉ. योगिता ने बताया कि कई ऐसे मामले भी देखे गए हैं, जिनमें गर्भवति महिलाओं द्वारा कोल्ड ड्रिंक का ज्यादा सेवन किया गया। उनमें देखा गया कि बच्चे की ग्रोथ धीमी गति से हो रही है। कई बार मां द्वारा अधिक कोल्ड ड्रिंक का अधिक सेवन करने से कैफीन प्लेसेंटा के जरिए बच्चे तक भी पहुंच सकता है। इसमें पाए जाने वाले आर्टीफिशियल स्वीटनर या प्रिसर्वेटिव्स बच्चों के विकास में बाधा बन सकते हैं। कई शोध में यह भी पाया गया है कि इससे बच्चों की मानसिक ग्रोथ भी प्रभावित हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - प्रेगनेंसी के दौरान पैरों में ऐंठन के 8 कारण, लक्षण और बचाव

क्या प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक पीने से डायबिटीज हो सकती है ? (Can Drinking Cold Drinks lead to Diabetes)

प्रेगनेंसी के दौरान कोल्ड ड्रिंक का सेवन करने से शरीर में ग्लूकोज का स्तर बढ़ने लगता है, जो मां और बच्चे दोनों को प्रभावित कर सकता है। इससे गर्भवति महिला में डायबिटीज होने का खतरा बढ़ सकता है। इसपर हुए एक शोध की मानें तो इसमें पाए जाने वाला आर्टीफीशियल स्वीटनर शरीर में ग्लूकोज इनटॉल्रेंस को बढ़ावा देता है। जिससे प्रेगनेंसी के दौरान कोल्ड ड्रिंक लेने से मधुमेह का खतरा बढ़ सकता है। ड्यूक यूनिवर्सिटी द्वारा कैफीन पर हुई एक रिसर्च में भी यह साबित हुआ कि कैफीन का सेवन आपके ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकता है। इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान इसका सेवन नुकसान पहुंचा सकता है। डॉ. योगिता ने बताया कि शरीर में प्रेगनेंसी के दौरान 200 मिलिग्राम से अधिक कैफीन नहीं होनी चाहिए। 

प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक पीने के नुकसान  (Side Effect of Drinking  Cold Drinks during Pregnancy)

insomnia

1. अनिद्रा की समस्या (Insomnia)

डॉ. योगिता पराशर के अनुसार प्रेगनेंसी के दौरान कोल्ड ड्रिक का अधिक सेवन आपकी नींद नहीं आने का कारण भी बन सकता है। प्रेगनेंसी के दौरान आपको भरपूर नींद किसी औषधी से कम नहीं है। यह मां के साथ साथ बच्चे के विकास में भी अहम भूमिका निभाती है। डॉ. योगिता ने बताया कि बहुत सी प्रेगनेंट महिलाएं यह शिकायत करती हैं कि कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद उनकी नींद प्रभावित होती है या उन्हें नींद नहीं आती है। इसलिए गर्भवति महिलाओं को रात के समय में तो खासतौर पर कोल्ड ड्रिंक पीने की सलाह नहीं दी जाती है। आमतौर पर भी 200 मिलिग्राम से अधिक कोल्ड ड्रिंक न पिएं। 

2. हड्डियों को पहुंच सकता है नुकसान (Can affects Bone)

प्रेगनेंसी के दौरान कोल्ड ड्रिंक का अधिक सेवन करने से आपकी हड्डियों को भी नुकसान पहुंच सकता है। कोल्ड ड्रिंक के प्रिजर्वेटिव्स और आर्टीफीशियल कलर्स में फॉसफोरस एसिड पाया जाता है, जो हड्डियों में से कैल्शियम की मात्रा को कम करने या यूं कहें कि खींचने का काम करता है। साथ ही हड्डियों के विकास की गति भी धीमी हो सकती है। अगर आप जानकारी के अभाव में कैफीन युक्त कोल्ड ड्रिंक या फिर कुछ एनर्जी ड्रिंक्स का अत्याधिक सेवन कर रही हैं तो यह आपकी बोन मिनिरल डेंसिंटी को भी घटा सकता है साथ ही शरीर में कैल्शियम की कमी भी हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - पीरियड्स के आलावा वेजाइनल ब्लीडिंग के हो सकते हैं ये 10 कारण, जानें उपाय

3. बच्चे की मेमोरी पर पड़ सकता है असर (Can affect Children Memory)

कई शोध में यह पाया गया है कि कोल्ड ड्रिंक, एनर्जी ड्रिंक या फिर शुगर से भरपूर ड्रिंक का ज्यादा सेवन करने वाली गर्भवति महिलाओं के बच्चों में मेमोरी पावर थोड़ी कम देखी गई है। हालांकि ऐसा कुछ ही मामलों में हो सकता है जब मां कैफीन युक्त पदार्थों का अधिक सेवन करती है। इसलिए गर्भवतियों को कैफीन से थोड़ी दूरी बनाकर रहने की सलाह दी जाती है। डॉ. योगिता ने बताया कि प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक पीने की मनाही नहीं है, लेकिन कोशिश करें कि इसे कभी–कभी पीएं और इसे 200 मिलिग्राम से अधिक मात्रा में न लें। साथ ही रात के समय इसके सेवन से बचें। 

pain

4. पाचन तंत्र हो सकता है प्रभावित (Digestive System can be affected)

डॉ. योगिता ने बताया कि कोल्ड ड्रिंक का अत्यधिक सेवन करने से प्रेगनेंट महिलाओं के पाचन तंत्र पर भी असर पड़ सकता है। इसमें पाए जाने वाला कार्बन डायॉक्साइड आपके पाचन तंत्र में जाकर आसानी से घुल जाता है, जिससे कार्बोनिक एसिड का फॉर्मेशन हो सकता है और आपको एसिडिटी की समस्या भी हो सकती है। चूंकि कोल्ड ड्रिंक ठंडी होती है और इसके पेट में जाते ही आपकी शरीर का तापमान अचानक से बदल सकता है, जो मां और बच्चे दोनों के लिए ही ठीक नहीं है। वहीं इसके नियमित सेवन से आपका वजन बढ़ने की भी अधिक आशंका रहती है। वहीं एसिडिटी के कारण हार्ट बर्न की भी समस्या हो सकती है। 

यह लेख चिकित्सक द्वारा प्रमाणित है। इस लेख से यह साबित होता है कि प्रेगनेंसी में कोल्ड ड्रिंक पीना मां और बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकता है। 

Read more Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer