वेट ट्रेनिंग से बढ़ता है आपका अस्थि-घनत्‍व

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 16, 2014
Quick Bites

  • उम्र के साथ-साथ कमजोर होने लगती हैं हड्डियां।
  • महिलाओं में रजोनिवृत्ति के बाद होती है समस्‍या।
  • पुरुषों में एस्‍ट्रोजन के स्‍तर पर निर्भर करती है मजबूती।
  • व्‍यायाम से होता है अस्थियों को फायदा।

वेट ट्रेनिंग से आपके शरीर को कई फायदे होते हैं। इससे आपका फैट कम होता है, मांसपेशियों का निर्माण होता है, मूड अच्‍छा रहता है, नींद बढि़या आती है और साथ ही साथ इससे आपकी हड्डियों का घनत्‍व भी बढ़ता है।

किसे है खतरा

मेनोपोज के बाद महिलाओं को ऑस्‍ट‍ियोपोरोसिस होने का खतरा सबसे अधिक होता है। एस्‍ट्रोजन अस्थि निर्माण का एक अहम हिस्‍सा है और माहवारी समाप्‍त होने के बाद महिलाओं में इसके स्‍तर में काफी कमी देखी जाती है और नतीजा यह होता है कि उनकी हड्डियों का नुकसान होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही जिन पुरुषों में टेस्‍टेस्‍टेरॉन का स्‍तर कम होता है उनकी हड्डियां टूटने का खतरा भी अधिक बना रहता है। टेस्‍टेस्‍टेरॉन न केवल अस्थियों पर सकारात्‍मक प्रभाव डालता है बल्कि साथ ही साथ ही यह परोक्ष रूप से एस्‍ट्रोजन के कनवर्जन में भी मदद करता है। प्रेडनिसॉन या कोरटिसोल के स्‍टेरॉयड लेने वाले लोगों को इसका खतरा अधिक होता है।

bone density weight training in hindi

मजबूती है जरूरी

सब कुछ कहने सुनने के बाद भी यह जान लीजिये कि भले ही आपको किसी प्रकार का खतरा न हो, लेकिन अपनी अस्थियों को मजबूत करना आपकी जिम्‍मेदारी है। आपकी अस्थियों का घनत्‍व जितना अधिक होगा, क्षय होने के बाद भी आपकी हड्डियां उतनी ही मजबूत बनी रहेंगी। यह उन युवा महिलाओं के लिए खासतौर पर फायदेमंद है, जिन्‍हें एक न एक दिन मेनोपोज की स्थिति से गुजरना है।


वेट ट्रेनिंग से होता है फायदा

जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंडोक्‍रिनोलॉजी एंड मेटाबॉलिज्‍म में छपे शोध के मुताबिक वेट ट्रेनिंग करने से रजोनिवृत्ति प्राप्‍त कर चुकीं महिलाओं में अस्थियों के क्षय होने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। हालांकि एक अन्‍य शोध में कहा गया कि वेट ट्रेनिंग करने से बोन डेंटिसिटी पर कोई असर नहीं पड़ता। हालांकि ये बातें अपवाद स्‍वरूप सामने आईं न कि यह कोई नियम ही है।

टफ्टस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दस वर्षों के अपने शोध में यह बात साबित की कि वेट ट्रेनिंग करने से अस्थि घनत्‍व पर सीधा और सकारात्‍मक असर पड़ता है। हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा कि कुछ शोध इस बात को स्‍वीकार नहीं करते हैं। हालांकि, शोध में दिखाया गया कि कुछ खास व्‍यायाम का आपकी हड्डियों पर अधिक सकारात्‍मक असर पड़ता है।


कैसे बढ़ायें अस्थि घनत्‍व

कैल्शियम के साथ ही आपको विटामिन डी का भी सेवन करना चाहिये। इसके साथ ही हड्डियों के लिए जरूरी माइक्रोन्‍यूट्रीएंटस भी आपके लिए फायदेमंद साबित होंगे। इसके साथ ही आपको धूम्रपान से दूर रहना चाहिये, व आपको सही समय पर दवाओं का सेवन भी करना चाहिये। वेट ट्रेनिंग करने से आपकी मांसपेशियां और उत्‍तक भी मजबूत होते हैं। इससे चोट लगते समय आपकी हड्डियां टूटने का खतरा भी कम हो जाता है।


strong bones in hindi

कौन से व्‍यायाम है फायदेमंद

 

स्‍कावट्स

आप कई प्रकार से स्‍कावट्स कर सकते हैं। इससे आपकी हड्डियां मजबूत होती हैं। और साथ ही वजन भी कम होता है। मजबूत हड्डियों के लिए वजन का नियंत्रित होना भी जरूरी है।


लंजस

फावर्ड लंज, रिवर्स लंच, साइड लंज और अन्‍य प्रकार के लंज आपके कूल्‍हों और टांगों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसके साथ ही यह शरीर को संतुलित करने में भी मदद करते हैं। अगर आपका वजन अधिक है, तो इससे आपको खासतौर पर फायदा होगा। आप डंबल की सहायता से भी इस व्‍यायाम को कर सकते हैं।

 

Image Courtesy- Getty Images

 

Loading...
Is it Helpful Article?YES1145 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK