क्या एसिडिटी बन सकता है तेज सिर दर्द का कारण? एक्सपर्ट से समझें पूरी बात

क्‍या आपको भी एस‍िड‍िटी होने पर स‍िर में तेज दर्द उठता है अगर हां तो जानें पेट और सि‍र की तकलीफ में क्‍या संबंध है 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 20, 2021Updated at: Jul 20, 2021
क्या एसिडिटी बन सकता है तेज सिर दर्द का कारण? एक्सपर्ट से समझें पूरी बात

एस‍िड र‍िफ्लक्‍स या पेट में एस‍िडिटी क्‍यों होती है? जो लोग शराब ज्‍यादा पीते है, या ज‍िनका वजन ज्‍यादा है उन्‍हें एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या हो सकती है। कैफीन का सेवन ज्‍यादा करने से या मसालेदार भोजन करने से भी एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या हो सकती है। पेट में एस‍िड‍िटी होने से कई तरह की श‍िकायत हो सकती है ज‍िनमें से एक है स‍िर का दर्द। पेट में एस‍िडिटी के कारण कुछ लोगों को स‍िर में दर्द की श‍िकायत भी होती है। आप सोच रहे होंगे क‍ि पेट की एस‍िड‍िटी और स‍िर के दर्द में क्‍या कनेक्‍शन है। इस लेख में हम चर्चा करेंगे क‍ि क्‍यों पेट में एस‍िडिटी होने पर स‍िर में दर्द होने का क्‍या कारण है। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

stomach acidity

एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या क्‍यों होती है? (What causes acid reflux) 

पेट में गैस या एस‍िड‍िटी होने का कारण एस‍िड र‍िफ्लक्‍स (acid reflux) हो सकता है। एस‍िड‍िटी होने पर आपको पेट में जलन, दर्द, भारीपन महसूस हो सकता है। पेट में एसिड‍िटी होने पर कुछ खाने का मन नहीं होता क्‍योंक‍ि पेट में बनने वाला एस‍िड, फूड पाइप से बाहर आने लगता है ज‍िसके कारण सीने में जलन या दर्द होता है। इसी स्‍थित‍ि को हम एस‍िड र‍िफ्लक्‍स के नाम से जानते हैं। अगर आप ज्‍यादा तला-भुना या अनहेल्‍दी खाना खाएंगे तो आपको एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की श‍िकायत हो सकती है। पेट में बनने वाला एस‍िड खाने को तोड़कर, न्‍यूट्र‍िएंट्स को अलग करता है। इसके कारण सीने में दर्द, जलन, खट्टी डकार की समस्‍या होती है।

इसे भी पढ़ें- आपको भी होती है खाने के बाद गैस की परेशानी? इससे निजात पाने के लिए करें ये 5 काम

पेट में एस‍िड‍िटी होने पर स‍िर में दर्द क्‍यों होता है? (Connection between headache and acidity in stomach) 

headache

ज‍िन लोगों को एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या होती है उनमें से कुछ लोग स‍िर में दर्द की भी श‍िकायत करते हैं। कुछ थ्‍योरीज़ के मुताब‍िक नर्वस स‍िस्‍टम हमारे पेट से भी जुड़ा हुआ होता है, ज‍िन लोगों को फूड एलर्जी होती है उन्‍हें स‍िर में दर्द भी महसूस होता है इसल‍िए ये कहा जा सकता है कि पेट और ब्रेन की समस्‍या आपस में जुड़ी हो सकती है। कुछ थ्‍योरीज़ में ये भी कहा गया है क‍ि एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या होने पर पेट का एस‍िड फूड पाइप की ओर ऊपर आ जाता है और साथ ही ये एस‍िड कान पर भी प्रेशर डालता है, हमारे कान ब्रेन से कनेक्‍टेड होते हैं इसल‍िए भी पेट में एस‍िड‍िटी होने पर स‍िर में दर्द हो सकता है। कुछ डॉक्‍टरों का मानना है क‍ि एस‍िड र‍िफ्लक्‍स के वक्‍त सोने में परेशानी होती है और नींद पूरी न होने के कारण भी स‍िर में दर्द हो सकता है। एस‍िड र‍िफ्लक्‍स के कारण स‍िर में दर्द होना, क्रॉन‍िक फटीग का लक्षण माना जाता है।

पेट में एस‍िड‍िटी के कारण हो रहे स‍िर दर्द से कैसे बचें? (How to prevent headache caused due to acidity)

green salad

  • आपको पेट में एसिड‍िटी के दौरान स‍िर में दर्द से बचने के ल‍िए अपने स‍िर को हल्‍का उठाकर लेटें, इससे एस‍िड‍िटी कम होगी और स‍िर का दर्द भी ठीक हो जाएगा। 
  • इसके अलावा आपको हरी पत्‍तेदार सब्‍जी का सलाद खाना चाह‍िए, फाइबर खाने से एस‍िड‍िटी की समस्‍या से बच सकते हैं।
  • स्‍ट्रेस कम करने से भी एस‍िड‍िटी के दौरान होने वाले स‍िर दर्द से बचा जा सकता है।
  • हरी पत्‍त‍ेदार सब्‍ज‍ियों के अलावा आप ताजे फल भी खा सकते हैं, इससे एस‍िडिटी और स‍िर में दर्द दोनों समस्‍याओं के होने की आशंका कम हो जाती है।
  • आपको ओटमील का सेवन, अदरक, अंडे का सफेद ह‍िस्‍सा, हल्‍दी का दूध, हेल्‍दी फैट्स जैसे नट्स का सेवन करना चाह‍िए।
  • एस‍िड‍िटी और स‍िर के दर्द से बचने के ल‍िए आपको सोने से कम से कम 4 घंटे पहले खाना चाह‍िए इससे आपको एस‍िड‍िटी नहीं होगी, साथ ही रात के समय मसालेदार खाना अवॉइड करें।
  • एस‍िड र‍िफ्लक्‍स होने पर हल्‍के और छोटे मील्‍स लें। आपको ज्‍यादा से ज्‍यादा ल‍िक्‍व‍िड डाइट लेनी चाह‍िए।
  • एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या होने पर छाछ, दही और लो-फैट डेयरी उत्‍पादों का सेवन करें इससे पेट में एस‍िडिटी कम होगी।

एस‍िड‍िटी के कारण स‍िर में तेज दर्द हो तो क्‍या करें?

पेट में एस‍िड‍िटी होने पर बॉडी में कॉर्बन डाइऑक्‍साइड की मात्रा बढ़ जाती है ज‍िस कारण स‍िर में दर्द हो सकता है। हमारी बॉडी कॉर्ब्स और शुगर को पचा नहीं पाता तो गैस होती है और उससे स‍िर का दर्द शुरू हो जाता है। लोग अक्‍सर एस‍िड‍िटी को आम समस्‍या समझकर नजरअंदाज कर देते हैं पर एस‍िड‍िटी कई अन्‍य समस्‍याएं दे सकती है। एस‍िडिटी होने के दौरान स‍िर में दर्द के अलावा और भी समस्‍याएं हो सकती हैं जैसे उल्‍टी, माइग्रेन अटैक आद‍ि। एस‍िड‍िटी होने पर स‍िर का दर्द दूर करने के ल‍िए क्‍या करें आप तुलसी के पत्‍तों को चबाएं, इससे एस‍िड‍िटी भी दूर होगी और स‍िर का दर्द भी ठीक हो जाएगा।

इन गलत‍ियों के कारण हो सकती है एस‍िड‍िटी (Mistakes that leads to acidity in stomach)

unhealthy food 

  • पेट में एस‍िड‍िटी होने पर आपको अनहेल्‍दी फैटी फूड का सेवन नहीं करना चाह‍िए। फैटी फूड में नमक, म‍िर्च, मसाला ज्‍यादा होता है ज‍िससे स‍िर और पेट दोनों में दर्द हो सकता है।
  • अपनी डाइट को हल्‍का रखें। आपको पानी का सेवन ज्‍यादा से ज्‍यादा करना है, पानी पीने से एस‍िड‍िटी तो दूर होगी ही साथ ही ब्रेन में ऑक्‍सीजन पहुंचने से स‍िर का दर्द भी ठीक हो जाएगा।
  • आपको तंबाकू का सेवन भी कम से कम करना चाह‍िए बल्‍क‍ि न ही करें तो बेहतर है, तंबाकू कई तरह से आपकी सेहत के ल‍िए हान‍िकारक है इसल‍िए इससे बचें और इसी तरह आपको धूम्रपान की लत से भी बचना चाह‍िए, धूम्रपान करने से भी पेट संबंधी श‍िकायतें होने लगती हैं।
  • ज‍िन लोगों को वजन ज्‍यादा 
  • ज‍िन लोगों का वजन ज्‍यादा होता है उन्‍हें भी एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या होती है इसलि‍ए आपको वजन कम करने के उपाय जानकर उन्‍हें अपनाना चाहि‍ए।

इसे भी पढ़ें- सो कर उठने के बाद होती है गैस और बदहजमी? जानें इस एसिड रिफ्लक्स को कम करने के लिए सोने का सही तरीका

पेट में एस‍िड‍िटी की समस्‍या से बचने के ल‍िए रोजाना करें एक्‍सरसाइज (Exercise daily to avoid acidity)

exercise 

अगर आप रोजाना एक्‍सरसाइज करें तो एस‍िड र‍िफ्लक्‍स की समस्‍या से बच सकते हैं। अगर आप ब‍िगि‍नर हैं तो आपको रोजाना 40 म‍िनट वॉक‍िंग करनी चाहि‍ए फ‍िर धीरे-धीरे समय बढ़ाएं और एक्‍सरसाइज को उसमें शाम‍िल करें। एक्‍सरसाइज करने से पाचन तंत्र मजबूत रहता है और एस‍िड र‍िफ्लक्‍स जैसी समस्‍या नहीं होती। अगर आपको कसरत नहीं आती तो आप ट्रेनर की मदद भी ले सकते हैं या ऑनलाइन क्‍लास भी ज्‍वॉइन कर सकते हैं।

एस‍िड‍िटी के कारण शरीर में कई तरह की समस्‍याएं हो सकती हैं इसल‍िए पाचन तंत्र को मजबूत रखने के ल‍िए रोजाना कसरत करें, हेल्‍दी डाइट लें और नींद पूरी करें।

Read more on Miscellaneous in Hindi 

Disclaimer