स्वास्थ्य ही नहीं आपकी खूबसरती में भी चार चांद लगा सकता है केलेंडुला, जानें केलेंडुला के 4 ब्यूटी बेनिफिट्स

दादी नानी से अगर पूछेंगे तो पता चलेगा कि गेंदे की पत्ती का रस फोड़े फुंसी के उपचार में उपयोग होता था। वहीं फूल से त्वचा की रौनक बढ़ाते हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
फैशन और सौंदर्यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Mar 01, 2020Updated at: Mar 01, 2020
स्वास्थ्य ही नहीं आपकी खूबसरती में भी चार चांद लगा सकता है केलेंडुला, जानें केलेंडुला के 4 ब्यूटी बेनिफिट्स

केलेंडुला को ऐसे शायद आप न जानते हों मगर गेंदे के फूल को आपने जरूर देखा होगा। केलेंडूला गेंदे की ही एक प्रजाति है। दिखने में ये फूल जितना खूबसूरत होता है इसके औेषाधिए गुण और भी कमाल के हैं। प्राचीन काल से ही इसको दवाओं और तेल के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। दादी नानी से अगर पूछेंगे तो पता चलेगा कि गेंदे कि पत्ती का रस कैसे फोड़े फुंसी के उपचार में उपयोग होता था। आज के समय में इसका उपयोग और बढ़ गया है। आइए जानते हैं केलेंडुला  हमारे स्वास्थ्य और खूबसूरती के लिए कैसे लाभदायक है। 

खूबसरती के लिए 

केलेंडुला में ऐसे तत्व होते हैं वो बढ़ती उम्र के दौरान पड़ने वाली झुर्रियों और एजिंग की प्रकिया को धीमा कर देता है। इसके अलावा रूखी त्वचा को मुलायम और चमकदार बनाता है। सेंसटिव स्किन पर भी इसके इस्तेमाल का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। 

इसे भी पढ़ें : फोड़े-फुंसी और घाव का काल है कदम्‍ब का फूल!

डैंड्रफ से छुटकारा

केलेंडुला हर्ब में मॉइश्चराइजिंग प्रॉपर्टीज होती हैं जो कि बालों के लिए बेहद फायदेमंद है। इसके तेल के नियमित इस्तेमाल से रूसी से छुटकारा मिलता है। इस तेल से सिर में खुजली से भी राहत मिलती है। केंडूला सिर और बालों के स्वास्थ्य को सही करता है।

Watch Video: जायफल और चंदन फेस पैक से दूर करें दाग-धब्बे

दर्द में राहत 

मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द में इसका तेल फायदेमंद है। केलेंडुला में एंटी- स्पैज़्माडिक (anti- spasmodic ) प्रॉपर्टीज़ पाई जाती हैं। जो नर्वस सिस्टम डिसऑर्डर और मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को कम करता है। इनमे में अगर कोई समस्या है तो इस के तेल को अपनी डाइट में शामिल करें। 

इसे भी पढ़ें : अद्भुत सौंदर्य लाभों से भरपूर है चमेली का फूल

केलेंडुला टी

बाजार में इसके टी बैग भी उपलब्ध हैं। केंड्यूला में ऐसी गुणवत्ता है जो गैस्ट्रिक अल्सर और गले की खराश के लिए रामबाण साबित हुआ है । शोध के अनुसार बुखार में केलेंडुला चाय पीनी चाहिए। इससे सेवन के बाद पसीना आता और बुखार से राहत मिलती है। यह चाय एक दिन दो से तीन कप ही पीनी चाहिए। इसके अलावा ये चाय रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है। 

Read more articles on Fashion-Beauty in Hindi

Disclaimer