Doctor Verified

थायराइड मरीजों के लिए क्यों जरूरी है कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर डाइट? डॉक्टर से जानें

थायराइड के मरीजों के लिए हेल्दी डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। इन्हें अपनी डाइट में कैल्शियम और विटामिन डी को जरूर शामिल करना चाहिए। जानें क्यों-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Nov 05, 2021 15:31 IST
थायराइड मरीजों के लिए क्यों जरूरी है कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर डाइट? डॉक्टर से जानें

थायराइड मरीजों के लिए क्यों जरूरी है विटामिन डी और कैल्शियम से भरपूर डाइट (vitamin d and calcium for thyroid patients)? थायराइड आजकल की एक बेहद सामान्य समस्या बन गई है। अधिकतर महिलाएं इस समस्या से जूझ रही हैं। थायराइड गले में सामने की तरफ एक ग्रंथि होती है, जो हॉर्मोन का उत्पादन करती है। यह दो तरह का होता है- हाइपरथायरायडिज्म (hyperthyroidism) और हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism)।  जब थायराइड ग्रंथि बहुत अधिक मात्रा में हॉर्मोन का उत्पादन करता है, तो इस स्थिति को हाइपरथायरायडिज्म कहा जाता है। इसके अलावा जब थायराइड ग्रंथि कम मात्रा में हॉर्मोन का उत्पादन करता है, तो इसे हाइपोथायरायडिज्म कहते हैं। थायराइड के मरीजों को अपनी दवाइयों के साथ ही डाइट का खास ध्यान रखना भी जरूरी होता है। थायराइड के मरीजों के लिए कैल्शियम और विटामिन डी बहुत जरूरी पोषक तत्व होता है, इसके सेवन से थायराइड को काफी हद तक कंट्रोल में रखा जा सकता है। डॉक्टर अल्तमश शेख से जानें क्यों जरूरी है थायराइड मरीजों के लिए कैल्शियम और विटामिन डी-

calcium

थायराइड के मरीजों के लिए क्यों जरूरी है कैल्शियम (importance of calcium in thyroid)

थायराइड के मरीजों के लिए कैल्शियम से भरपूर डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। दरअसल, भोजन में कैल्शियम की कमी से महिलाओं में हॉर्मोन की समस्या हो सकती है। इससे थायराइड से लेकर हड्डियां तक कमजोर हो जाती हैं। इसलिए अगर आप थायराइड से जूझ रही हैं, तो कैल्शियम को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। दूध, दही, हरी पत्तेदार सब्जियां, कॉर्न फ्लैक्स और सोयाबीन को कैल्शियम के लिए डाइट में शामिल किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें - थायराइड में बहुत फायदेमंद होता है तुलसी का सेवन, जाने उपयोग का तरीका और फायदे

थायराइड के मरीजों के लिए क्यों जरूरी है विटामिन डी (importance of vitamin d in thyroid)

विटामिन डी की कमी एक वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है।  ऑटोइम्यून बीमारियों में कमी करने के लिए विटामिन डी काफी अहम होता है। थायराइड से बचाव के लिए भी विटामिन डी एक जरूर पोषक तत्व होता है। थायराइड एक ऑटोइम्यून डिजीज है यानी कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को इसका खतरा अधिक रहता है। विटामिन डी भी इम्यूनिटी को प्रभावित करता है, इससे हाइपोथायरायडिज्म का खतरा बढ़ जाता है। जिन लोगों में हाइपोथायरायडिज्म की बीमारी होीत है, उनमें विटामिन डी की कमी देखने को मिलती है। इसलिए इसकी पूर्ति करने के लिए इससे भरपूर डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। इसके लिए अपनी डाइट में मशरूम आदि को शामिल करें। साथ ही धूप में भी बैठें। विटामिन डी लेने के लिए रोज सुबह के समय कम से कम एक घंटा धूप में बिताएं।

थायराइड से बचने के लिए और थायराइड को कंट्रोल में रखने के लिए विटामिन डी और कैल्शियम से भरपूर डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। इसके अलावा ये दोनों पोषक तत्व हड्डियों के लिए भी जरूरी होते हैं। दोनों तरह के थायराइड को कंट्रोल में रखने के लिए इन दोनों पोषक तत्वों की बहुत जरूरत होती है।

thyroid 

थायराइड के लिए डाइट टिप्स (diet tips for thyroid patients)

  • थायराइड के मरीजों को अपनी डाइट में हेल्दी फैट को शामिल करना चाहिए।
  • खाने के तुरंत बाद पानी पीने से बचें। इसके अलावा खाना खाते समय भी पानी न पिएं।
  • अपनी डाइट में अधिक से अधिक लिक्विड को शामिल करें।
  • शुगर लोडेड चीजों के सेवन से बचें।
  • धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें।
  • जंक फूड, प्रोसेस्ड फूड से भी बचें।
  • थायराइड को कंट्रोल में रखने के लिए रोजाना एक्सरसाइज और योगा करें।

आप भी थायराइड को कंट्रोल में रखने के लिए अपनी डाइट में विटामिन डी और कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ को जरूर शामिल करें।  

Disclaimer