डायबिटीज, एनीमिया, लू और मोटापे जैसी कई बीमारियों से बचाता है सत्तू का शरबत

सत्तू में ढेर सारे गुण मौजूद होते हैं और ये कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है इसलिए ये पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा सत्तू में मौजूद तत्वों के कारण ये कई तरह की बीमारियों को भी आसानी से ठीक कर सकता है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 21, 2018
डायबिटीज, एनीमिया, लू और मोटापे जैसी कई बीमारियों से बचाता है सत्तू का शरबत

गर्मी के मौसम में सत्तू बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि ये शरीर को ठंडा रखता है और लू से बचाता है। चने से बने सत्तू को कई लोग गूंथकर अचार और सिरके के साथ खाते हैं, तो कई लोग पानी में घोलकर शरबत बनाकर पीते हैं। सत्तू में ढेर सारे गुण मौजूद होते हैं और ये कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है इसलिए ये पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा सत्तू में मौजूद तत्वों के कारण ये कई तरह की बीमारियों को भी आसानी से ठीक कर सकता है। आइये आपको बताते हैं कि चने के सत्तू का शरबत पीने के क्या लाभ हैं।

अपच, एसिडिटी और कब्ज

चने का सत्तू पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। अगर आप रोज नाश्ते में चने के सत्तू का शरबत पीते हैं, तो आपको कभी भी अपच, एसिडिटी और कब्ज की समस्या नहीं होगी। सत्तू फाइबर्स से भरपूर होता है और इसमें विटामिन बी कॉम्पलेक्स होता है इसलिए ये पेट की गर्मी को शांत करता है। अगर आपको मुंह में छाले हो गए हैं, तब भी सत्तू का शरबत पीने से आपको छालों से राहत मिलती है।

इसे भी पढ़ें:- कूल्हे के दर्द से तुरंत छुटकारा दिलाते हैं ये 5 घरेलू उपचार

डायबिटीज के मरीजों के लिए

सत्तू का सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए भी फायदेमंद है क्योंकि इसको पीने से ब्लड शुगर कम होता है और शरीर में इंसुलिन का लेवल मेनटेन रहता है। आमतौर पर सत्तू का शरबत बनाने के लिए इसमें चीनी घोला जाता है मगर डायबिटीज के मरीज इसमें नमक और जीरा पाउडर मिलाकर इसे स्वादिष्ट बना सकते हैं और पी सकते हैं।

हीमोग्लोबिन की कमी होगी दूर

अगर आपके शरीर में हीमोग्लोबिन या आयरन की कमी है, तो आप एनीमिया के शिकार हो सकते हैं। चना आयरन से भरपूर होता है और चने के सत्तू के सेवन से शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ता है। प्रेगनेंट औरतों को आयरन की ज्यादा जरूरत होती है इसलिए उनके लिए भी सत्तू का शरबत फायदेमंद है। एनीमिया का शिकार पुरुषों से ज्यादा महिलाएं होती हैं। भारत में हर 4 में से एक महिला एनीमिया का शिकार है। इसलिए महिलाओं को सत्तू का सेवन जरूर करना चाहिए।

तेजी से बर्न करे फैट

चने के सत्तू में कैलोरीज की मात्रा बहुत कम होती है। सत्तू के शरबत में फाइबर होने के कारण ये देर तक आपके पेट को भरा रखता है और इससे आपको देर तक भूख भी नहीं लगती है। इसके अलावा सत्तू बहुत आसानी से पच जाता है। सत्तू में प्रोटीन की मात्रा भरपूर होती है इसलिए अगर आप चने का सत्तू खाते हैं या इसका शरबत पीते हैं, तो आपके शरीर को ज्यादातर पोषक तत्व आसानी से मिल जाते हैं।

इसे भी पढ़ें:- दादी मां के ये 5 घरेलू नुस्‍खे जिसे वैज्ञानिक भी मानते हैं सही

लू से बचाव

चने के सत्तू में गर्मियों में लू से बचाने के गुण होते हैं। पेट को ठंडा रखने के साथ ही पेट की कई तरह की बीमारियों को भी दूर करता है। शरीर का तापमान नियंत्रित करता है। यदि आप चने के सत्तू को पानी, काला नमक और नींबू के साथ घोलकर लिया जाएं तो यह आपके पाचनतंत्र के लिए फायदेमंद होता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Disclaimer