सिर दर्द और साइनस जैसी समस्याएं जल नेति योग से होगी दूर, जानिए जल नेति करने का सही तरीका

जल नेति योग का नियमित अभ्यास करने से सर्दी-जुकाम और साइनस जैसी परेशानियां दूर हो सकती हैं। आइए जानते हैं कैसे करें यह क्रिया

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jan 10, 2021Updated at: Jan 10, 2021
सिर दर्द और साइनस जैसी समस्याएं जल नेति योग से होगी दूर, जानिए जल नेति करने का सही तरीका

जल नेति एक ऐसी तकनीक है, जिसमें पानी से योग किया जाता है। इस तकनीक के माध्यम से योगिकों द्वारा शरीर की बीमारियों को ठीक करने की कोशिश की जाती है। जल नेति करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस योग के बाद आप बिना की रुकावट के अच्छी तरह सांस लेकर योग का अभ्यास कर सकते हैं। जल नेति में नाक की सफाई की जाती है। जिस तरह आपके लिए दांंतों की सफाई जरूरी है, उसी तरह जल नेति से नाक की अच्छे से सफाई होती है। इस क्रिया से नाक का मार्ग खुलता है और गले तक शुद्ध हवा पहुंचती है। आइए जानते हैं जल नेति केक बारे में विस्तार से-

क्या है जल नेति (What is Jal Neti in Hindi)

प्राचीन भारत से ही जल नेति योग का अभ्यास काफी अर्से से किया जा रहा है। जल नेति का शाब्दिक अर्थ पानी से सफाई करना है। यह एक प्राकृतिक टेक्नीक है। जिसे सांस से संबंधी समस्याओं को ठीक करने के लिए क्या जाता है। यह क्रिया एक बहुत ही बेहतरीन ’नोज क्लीनर’ (Nose cleaner) है। गले से लेकर नाक तक की समस्याओं को छुटकारा दिलाने में यह बहुत ही मददगार साबित हो सकता है।

इसे भी पढ़ें - ये 3 योगासन आपके पेट और पैंक्रियाज को रखेंगे स्वस्थ, डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा होगा कम

जल नेति करने का सही तरीका (Step to Do Jal Neti)

  • जल नेति योग करने के लिए सबसे पहले एक जल नेति पॉट लें।
  • ऐसा नेति लें, जो आपकी नाक में अच्छे से सेट हो जाएं।
  • अब इस नेति पॉट में हल्का गर्म या गुनगुना पानी डालें और इसमें  एक चुटकी नमक मिला लें। ध्यान रखें कि पानी में अधिक नमक ना हो।
  • जल नेति करने के लिए चटाई पर बैठ जाएं और अपने दोनों पैरों के बीच दूरियां बनाएं।
  • अब अपने मुंह से सांस लेते हुए अपने सिर को हल्का सा झुका लें।
  • इस योग को आप खड़े होकर और कमर से झुक कर भी कर सकते है।
  • इसके बाद पानी से भरा हुआ नेति पॉट ले और इसे दाईं नाक में लगा कर धीरे-धीरे पानी डालें और बाईं नाक से पानी को बाहर निकाले।
  • इसी तरह बाई नाक में पानी डालकर दाईं नाक से निकालें।
  • ध्यान रहे कि आपको नाक में पानी धीरे-धीरे और कम मात्रा में डालना हैं।

जल नेति के फायदे (Benefits of Jal Neti)

सिर दर्द करे दूर

आधुनिक समय में अधिकतर लोग सिर दर्द की समस्या से परेशान रहते हैं। ऐसे में यह योग आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। जलनेति का अभ्यस नियमित रूप से करने से आप सिरदर्द की परेशानी से निजात पा सकते हैं।

 सर्दी जुकाम की परेशानी करे दूर

जल नेति का नियमित रूप से अभ्यास करने से सर्दी-जुकाम की परेशानी से राहत मिलती है। अगर आपको एलर्जी की शिकायत है, तो यह छींक रोकने में आपकी मदद कर सकती है।

साइनोसाइटिस

आंख, गले, नाक और कैटरस की बीमारियों से राहत दिलाने में जल नेति क्रिया फायदेमंद हो सकती है। यह एडेनोइड्स और म्यूकस मेम्ब्रेन के सूजन को ठीक करने में मददगार होता है।

इसे भी पढ़ें -  रीढ़ की हड्डी को मजबूत करे मेरुदंडासन, जानिए मेरुदंडासन करने की विधि और इसके अन्य फायदे

आंखों के लिए है फायदेमंद

आंखों से जुड़ी समस्याओं से निजात दिलाने में जल नेति काफी मददगार हो सकता है। यह रतौंधी, मंदता इत्यादि की समस्याओं को कम करता है। जल नेति करने से आपकी आंखों की चमक बढ़ती है।

Read More Articles on yoga in Hindi 

Disclaimer