बाबा रामदेव ने कोरोनिल का एडवांस वर्जन लॉन्च करते हुए कहा WHO ने दी है दवा को मंजूरी, फिर WHO ने दी ये सफाई

बाबा रामदेव की कोरोनिल के एडवांस वर्जन को लेकर शुरू हुए विवाद पर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ट्वीट कर अपनी बात कही और फिर पतंजलि ने भी सफाई पेश की।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Feb 22, 2021
बाबा रामदेव ने कोरोनिल का एडवांस वर्जन लॉन्च करते हुए कहा WHO ने दी है दवा को मंजूरी, फिर WHO ने दी ये सफाई

पिछले साल बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद द्वारा लांच की गयी कोरोना की दावा 'कोरोनिल' पहले से ही विवादों में थी और अब इस दवा का एडवांस वर्जन लांच किया गया है। पतंजलि आयुर्वेद द्वारा निर्मित "कोरोनिल किट" के एडवांस वर्जन को इस बार भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा मंजूरी भी दी गयी है। दवा के एडवांस वर्जन की लांचिंग पर भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद थे। दवा की लांचिंग के वक्त बाबा रामदेव की तरफ से दावा किया गया था कि इसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मंजूरी मिल चुकी है लेकिन इसे WHO ने सिरे से नकार दिया है। पतंजलि के दावे के बाद कोरोनिल किट को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक ट्वीट कर कहा है कि हमने कोरोना के इलाज के लिए किसी भी प्रकार की पारंपरिक दवा को मंजूरी नही दी है। गौरतलब हो कि दवा को लांच करते हुए बाबा रामदेव ने कहा था कि कोरोनिल का एडवांस वर्जन CoPP-WHO GMP सर्टिफाइड है।

baba ramdev coronil

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोनिल को लेकर किया ट्वीट

कोरोनिल के एडवांस वर्जन को लांच किये जाने के बाद बाबा रामदेव के दावे पर बहस शुरू हो गयी थी। बाबा रामदेव के दावे के बाद WHO ने ट्वीट कर अपनी सफाई दी है। WHO साउथ-ईस्ट एशिया ने बाबा रामदेव के कोरोनिल को लेकर ट्वीट में कहा, "विश्व स्वास्थ्य संगठन ने COVID-19 के इलाज के लिए किसी भी प्रकार की पारंपरिक दवा को मंजूरी नही दी है"।

पतंजलि आयुर्वेद की तरफ से दावा किया गया था कि 'कोरोनिल किट जिसमें तीन आयुर्वेदिक दवाएं शामिल हैं को CoPP के प्रमाण पत्र के साथ विस्वा स्वास्थ्य संगठन द्वारा GMP प्रमाण पत्र दिया गया है।' पतंजलि के यह भी दावा किया था कि इसके तहत अब इस दवा को 158 देशों में कोरोना के इलाज के लिए निर्यात भी किया जा सकेगा। पतंजलि के इस नई कोरोना किट की लांचिंग के दौरान केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद थे और उन्होंने इसे COVID-19 के इलाज के लिए पहली "एविडेंस बेस्ड मेडिसिन" के रूप में लांच किया था।

इसे भी पढ़ें: क‍िस कंडीशन में न लगवाएं कोरोना का टीका? ICMR एक्सपर्ट से जानें कोरोना वैक्सीन से जुड़े ऐसे 14 सवालों के जवाब

विवादों के बाद आचार्य बालकृष्ण की सफाई

WHO द्वारा कोरोनिल किट को लेकर पतंजलि के दावों को ख़ारिज किये जाने लके बाद बाबा रामदेव के सहयोगी और पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने भी ट्वीट कर अपनी सफाई पेश की है। इस विवाद के बाद उन्होंने ट्वीट कर कहा कि, "हम कोरोनिल किट पर लोगों के भ्रम को दूर करना चाहते हैं, कोरोनिल के लिए हमें भारत सरकार के डीसीजीआई द्वारा  CoPP-WHO GMP का प्रमाण पत्र दिया गया है।" उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन किसी भी प्रकार की दवा मंजूर या नामंजूर नही करता है, WHO दुनियाभर में लोगों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए काम करता है।

क्या है पतंजलि की कोरोनिल किट?

पतंजलि आयुर्वेद द्वारा बनाई गई कोरोना की दवा का नाम कोरोनिल है। बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद द्वारा इसे पिछले साल 23 जून को लांच किया गया था। लांचिंग के बाद से ही पतंजलि आयुर्वेद की यह दवा विवादों में घिर गयी थी। उस समय भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने भी इस दवा को मंजूरी नही दी थी जिसके बाद इसे इम्म्युनिटी बूस्टर के तौर पर पेश किया गया था। बाबा रामदेव के मुताबिक पतंजलि आयुर्वेद को अब कोरोनिल के एडवांस वर्जन को कोरोना की दवा के रूप में इस्तेमाल करने की अनुमति मिल गयी है। बाबा रामदेव के मुताबिक यह दवा कोरोना के रोकथाम और इलाज में प्रभावशाली तो है ही लेकिन यह उसके बाद होने वाले प्रभावों पर भी कारगर है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों को स्कूल भेजना शुरू कर रहे हैं तो जरूर समझाएं कोविड संबंधी ये 5 नियम, ताकि सुरक्षित रहें वे

बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोनिल कोरोना से प्रभावित हर मरीज के लिए कारगर दवा है। इससे पहले भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने इसे इम्म्युनिटी बूस्टर की कैटेगरी में शामिल किया था और पतंजलि आयुर्वेद द्वारा जारी किये जा रहे उन विज्ञापनों जिनमें कोरोनिल को कोरोना का इलाज करने वाली दवा कहा जा रहा था पर भी रोक लगा दी थी। आपको बता दें कि इस दवा को गिलोय घनवटी, तुलसी घनवटी और अश्वगंधा के साथ-साथ कई अन्य वानस्पतिक तेल को मिलाकर बनाया गया है।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer