Report: दिल्ली का प्रदूषण 10 साल तक कम कर सकता है आपकी जिंदगी, जानें पॉल्यूशन कैसे दे रहा है धीमी मौत

एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि बढ़ते प्रदूषण के कारण लोगों की जिंदगी के 10 साल कम हो रहे हैं, जानें पॉल्यूशन कैसे दे रहा है धीमी मौत।

 
Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jun 14, 2022Updated at: Jun 14, 2022
Report: दिल्ली का प्रदूषण 10 साल तक कम कर सकता है आपकी जिंदगी, जानें पॉल्यूशन कैसे दे रहा है धीमी मौत

देश की राजधानी में दिल्ली में बढ़ता प्रदूषण लोगों की जिंदगी पर भारी पड़ रहा है। हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि राजधानी दिल्ली में प्रदूषण की वजह से लोगों की जिंदगी के 10 साल कम हो सकते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट (EPIC) के द्वारा किये गए इस अध्ययन में बताया गया है कि दिल्ली दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि वायु प्रदूषण की वजह से उत्तर भारत के लोगों की जिंदगी पर गहरा असर पड़ रहा है। इस अध्ययन में यह कहा गया है कि उत्तर भारत में रहने वाले लगभग 51 करोड़ लोगों की जिंदगी के औसत 7.6 साल प्रदूषण की वजह से कम हो रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि शराब पीने और गंदा पानी पीने से होने वाले प्रभाव से 3 गुना अधिक प्रभाव वायु प्रदूषण के कारण लोगों की जिंदगी पर पड़ रहे हैं।

ये हैं देश के सबसे ज्यादा प्रदूषित 5 राज्य (Top 5 Polluted States in India)

EPIC के द्वारा किए गए इस अध्ययन में कहा गया है कि भारत में प्रदूषण से प्रभावित 5 प्रमुख राज्य दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा और त्रिपुरा हैं। बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण इन राज्यों में लोगों की उम्र कम हो रही है। इस अध्ययन में यह भी कहा गया है कि भारत के बाद बांग्लादेश प्रदूषण से सबसे ज्यादा प्रभावित है। प्रदूषण के मामले में भारत की स्थिति नेपाल और पाकिस्तान से भी खराब है। EPIC की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरी दुनिया में वायु प्रदूषण की वजह से सबसे ज्यादा सेहत पर प्रभाव भारत के लोगों पर पड़ रहा है। साल 2013 में भारत में भारत में हवा प्रदूषण के कण का स्तर 53 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था, जो अब बढ़कर 56 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो गया है।

Air pollution impact on life

इसे भी पढ़ें: सांस के गंभीर मरीजों को होता है लंग अटैक का खतरा, डॉक्टर से जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और इलाज

वायु प्रदूषण कैसे कम कर रहा है लोगों की जिंदगी? (Air Pollution Impact on Life Expectancy in Hindi)

लगातार बढ़ रहे वायु प्रदूषण की वजह से लोगों में कई तरह की गंभीर बीमारियां हो रही हैं। इसके कारण लोगों में सबसे ज्यादा ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा है। EPIC द्वारा किये गए इस सर्वे के मुताबिक प्रदूषित हवा में सांस लेने के कारण लोगों में कैंसर जैसी गंभीर और जानलेवा बीमारी का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। हवा में मौजूद प्रदूषित कण जिसे पीएम कण कहते हैं शरीर में प्रवेश करते ही फेफड़ों समेत शरीर के इम्यून सिस्टम को प्रभावित करते हैं। प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से कैंसर, महिलाओं में गर्भपात की समस्या और कई गंभीर मानसिक बीमारियां हो सकती हैं। वायु प्रदूषण आपकी सेहत पर इस तरह से असर करता है।

1. प्रदूषण की वजह से और लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने के कारण आपको फेफड़ों के कैंसर का खतरा सबसे ज्यादा बढ़ जाता है। राजधानी दिल्ली में रहने वाले लोगों में भी इसके कारण कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का खतरा बढ़ा है।

2. वायु प्रदूषण या प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा लोगों में सबसे ज्यादा होता है। यूनिवर्सिटी ऑफ वेरोना की एक स्टडी में कहा गया है कि प्रदूषण की वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर भी गंभीर असर पड़ता है।

3. वायु प्रदूषण की वजह से आपके दिल की सेहत पर भी गंभीर असर पड़ता है। लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से हृदय पर गंभीर प्रभाव पड़ता है जिसकी वजह से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

4. वायु प्रदूषण की वजह से आपके नाक और सांस की नली में गंभीर संक्रमण हो सकता है। लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने की वजह से आपके नाक में जलन और सूजन की समस्या हो सकती है। हवा में मौजूद पीएम कण आपके शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक माने जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: स्टडी: बढ़ते प्रदूषण के कारण बच्चों में बढ़ रहा ADHD बीमारी का खतरा, जानें इसके लक्षण और बचाव

भारत में बीते कुछ सालों से वायु प्रदूषण की समस्या तेजी से बढ़ी है, इसके पीछे कई कारण जिम्मेदार हैं। प्रदूषण की वजह से लोगों की सेहत पर पड़ रहे असर की वजह से लोगों की जिंदगी कम हो रही है जिसको लेकर आपको सचेत रहना चाहिए। प्रदूषण से खुद को बचाने के लिए बाहर निकलने पर मास्क जरूर पहनना चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer