Expert

अधोमुखी मार्जरी आसन का रोजाना अभ्यास करने से दूर होती हैं ये बीमारियां, जाने तरीका और सावधानी

अधोमुखी मार्जरी आसन का रोजाना अभ्यास करने से आपको डायबिटीज, बीपी समेत कई समस्याओं में फायदा मिलता है, जानें तरीका और सावधानियां।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jun 22, 2022Updated at: Jun 22, 2022
अधोमुखी मार्जरी आसन का रोजाना अभ्यास करने से दूर होती हैं ये बीमारियां, जाने तरीका और सावधानी

रोजाना योग का अभ्यास करने से आपके शरीर में बीमारियों का खतरा कम होता है। अगर आप सही ढंग से योगाभ्यास करते हैं तो इससे आपका शरीर चुस्त और फिट रहता है और मानसिक शांति भी मिलती है। रोजाना सुबह के समय योगाभ्यास करने से शरीर का चयापचय (मेटाबोलिज्म) बेहतर होता है। जून महीने में पूरी दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है, इसलिए इस पूरे महीने Onlymyhealth आपके लिए एक विशेष सीरीज लेकर आया है जिसमें हम आपको सुप्रसिद्ध योग गुरु ग्रैंड मास्टर अक्षर द्वारा बताए गए एक फायदेमंद योगासन के बारे में रोजाना विस्तार से बता रहे हैं। आज इसी सीरीज में जानिए अधोमुखी मार्जरी आसन के फायदे, करने का तरीका और सावधानियां।

अधोमुखी मार्जरी आसन के फायदे (Adho Mukhi Marjari Asana Benefits in Hindi)

फेफड़ों को बेहतर बनाने और शरीर की मांसपेशियों को टोन करने के लिए रोजाना अधोमुखी मार्जरी आसन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा डायबिटीज, ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर समस्याओं में भी इस योगासन का रोजाना अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। अधोमुखी मार्जरी आसन का रोजाना अभ्यास करने से आपकी सेहत को मिलने वाले फायदे इस प्रकार से हैं-

इसे भी पढ़ें: अस्थमा समेत इन 5 बीमारियों में फायदेमंद है धनुरासन का अभ्यास, जानें तरीका और सावधानियां

Adho Mukhi Marjari Asana Benefits

1. मांसपेशियों के लिए उपयोगी

रोजाना अधोमुखी मार्जरी आसन करने से मांसपेशियों को खिंचाव मिलता है और पेट के अंदर मौजूद अंगों की कार्यक्षमता में सुधार होता है। इस आसन के अभ्यास से पेट के अंदरूनी अंग उत्तेजित होते हैं और पाचन तंत्र मजबूत होता है।

2. फेफड़ों की समस्याओं में बहुत उपयोगी

अधोमुखी मार्जरी आसन का रोजाना अभ्यास करते समय आपको बहुत गहरी और लंबी सांस लेना होता है। इस दौरान आपके फेफड़ो का डायफ्राम अच्छी तरह से खुलता है और फेफड़ों की एक्सरसाइज होती है। नियमित रूप से इसका अभ्यास करने से फेफड़ों से जुड़ी बीमारियों में फायदा मिलता है और शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है।

3. तनाव और मानसिक समस्याओं में फायदेमंद

मानसिक समस्याओं को दूर करने के लिए रोजाना अधोमुखी मार्जरी आसन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। डिप्रेशन, स्ट्रेस और चिंता जैसी मानसिक समस्या को दूर करने के लिए सुबह इस आसन का अभ्यास करें। इससे मानसिक शांति मिलेगी और चिंताएं दूर होंगी।

इसे भी पढ़ें: इम्यूनिटी बूस्ट करने के साथ आंखों के लिए बेहद फायदेमंद है चक्रासन, जानें करने का तरीका और सावधनियां

4. डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद

अधोमुखी मार्जरी आसन का अभ्यास करने से वजन कम करने में फायदा मिलता है और शरीर का चयापचय संतुलित रहता है। डायबिटीज के मरीजों में वजन बढ़ने से कई गंभीर समस्याओं का खतरा बना रहता है इसलिए उन्हें इस योगासन का अभ्यास जरूर करना चाहिए।

5 हाई ब्लड प्रेशर में फायदेमंद

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में अधोमुखी मार्जरी आसन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। रोजाना ये आसन करने से आपके शरीर में ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है और ब्लड प्रेशर बढ़ने पर होने वाली समस्याओं से निजात मिलता है।

अधोमुखी मार्जरी आसन  करने का तरीका (Adho Mukhi Marjari Asana Steps in Hindi)

अधो मुखी मार्जरी आसन का अभ्यास करने के लिए आप इन स्टेप्स को फॉलो करें-

  • सबसे पहले योगा मैट पर घुटनों के बल नीचे आएं।
  • अपनी हथेलियों को जमीन पर टिकाएं और घुटनों को बराबर रखें।
  • इस दौरान रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें।
  • सांस लेते हुए ऊपर की तरफ देखें।
  • इसके बाद सांस छोड़ते हुए रीढ़ की हड्डी को मोड़कर पीठ आर आर्क बनाएं और गर्दन को नीचे की तरफ रखें।
  • इस दौरान अपनी नजर को सीने या छाती की तरफ ले जाएं।
  • इसी पोजीशन में कुछ देर रहें और फिर सामान्य अवस्था में आ जाएं।

अधोमुखी मार्जरी आसन से जुड़ी सावधानियां (Adho Mukhi Marjari Asana Precautions in Hindi)

कमर में दर्द, चोट या मोच होने पर और घुटनों में किसी तरह की परेशानी की स्थिति में अधोमुखी मार्जरी आसन का अभ्यास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा अगर आपके बाजुओं या कलाई में किसी तरह की दिक्कत है तो भी इस योगासन का अभ्यास करने से बचें। शुरुआत में अधोमुखी मार्जरी आसन करते समय शरीर पर बहुत ज्यादा जोर नहीं देना चाहिए।

(Image Source - Grand Master Akshar/Freepik)

 
Disclaimer