खराब से खराब पाचन तंत्र को सुधार देंगे ये 9 आयुर्वेदिक टिप्‍स, बता रही हैं डॉक्‍टर अर्पिता

How to Improve Your Digestion: पाचन तंत्र को सुधार करने के लिए डॉक्‍टर अर्पिता सी.राज, एम.डी. (आयुर्वेद) से जानें आयुर्वेदिक टिप्‍स। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Nov 13, 2019
खराब से खराब पाचन तंत्र को सुधार देंगे ये 9 आयुर्वेदिक टिप्‍स, बता रही हैं डॉक्‍टर अर्पिता

जब हमारी पाचन क्षमता या अग्नि मजबूत होती है, हम स्वस्थ ऊतकों का निर्माण करते हैं और अपशिष्ट पदार्थों को आसानी से समाप्त करते हैं। अक्‍सर गलत खानपान, गतिविधि की कमी, नकारात्मक भावनात्मक ऊर्जा या अस्वास्थ्यकर दिनचर्या के कारण ही हमारी पाचन शक्ति या अग्नि कमजोर होने लगती है। ऐसे में हमारे पाचन में बाधा होगी और हम शरीर में जमा होने वाले विषाक्त पदार्थों बाहर नहीं निकाल पाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, यह विषाक्त अवशेष के रूप में जाना जाता है। इसे बीमारी का मूल कारण माना जाता है। 

डॉ. अर्पिता सी.राज, एम.डी. (आयुर्वेद) कहती हैं कि, "आधुनिक परिवेश में बदलती जीवनशैली, खानपान की अस्वास्थ्यकर आदतें, दूषित पर्यावरण और गलाकाट प्रतिस्पर्धा व प्रतिद्वंद्विता जनित तनाव का पाचन तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। आयुर्वेद में वर्णित जीवनशैली और खानपान से संबंधित जानकारियां विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्वास्थ्य की परिभाषा से मिलती-जुलती हैं। संपूर्ण स्वास्थ्य पाचन तंत्र पर निर्भर है।" 

कारणों को समझें: ऐसे कई कारण हैं, जिनके चलते लोगों का पाचन तंत्र (डाइजेस्टिव सिस्टम) खराब हो रहा है। जैसे...

जंकफूड्स का अत्यधिक सेवन: 

इसे विडंबना ही कहेंगे कि आधुनिकता के नाम पर, शॉपिंग मॉल कल्चर के कारण भोजन के पोषक तत्वों और गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित न करके डिब्बाबंद प्रोसेस्ड फूड्स, पिज्जा, नूडल्स और बर्गर आदि को बच्चों से लेकर वयस्क तक काफी पसंद कर रहे हैं। डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों में प्रयुक्त प्रिजर्वेटिव्स किसी न किसी रूप से शरीर को हानि पहुंचाते हैं।

शारीरिक श्रम का आभाव: 

अधिकांश लोग नियमित रूप से व्यायाम नहीं करते। इस कारण वे विभिन्न खाद्य पदार्थों से जो कैलोरी ग्रहण करते हैं, उसे बर्न नहींकर पाते। यही स्थिति कालांतर में मोटापे की समस्या को बुलावा देती है। व्यायाम न करने से कब्ज की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है। इसके अलावा समुचित रूप से पाचन तंत्र भी कार्य नहीं करता।

इसे भी पढ़ें: तांबे के बर्तन में पानी पीने से थायरॉइड, गठिया से मिलता है आराम, पाचन क्रिया होगी दुरुस्‍त, जानें अन्‍य फायदे

गरिष्ठ भोजन का असर: 

अधिक चिकनाई युक्त गरिष्ठ (भारी) भोजन भी पेट को खराब करता है। इस कारण लिवर में वसा संचित हो जाती है।

पाचन तंत्र को कैसे ठीक करें?

  • कम वसायुक्त आहार लें।
  • छिलके वाली दालों का सेवन करें।
  • सलाद का प्रचुर मात्रा में सेवन करें।
  • गरिष्ठ या भारी भोजन से परहेज करें।
  • जंकफूड तथा फास्ट फूड से परहेज करें।
  • कोल्डड्रिंक के स्थान पर दही व छाछ का प्रयोग करें।
  • रेशेदार फलों और सब्जियों का प्रचुर मात्रा में प्रयोग करें।
  • एक निश्चित वक्त पर खाना खाएं। सोने का भी वक्त निर्धारित करें।
  • अंकुरित मूंग, चना और मोटे अनाज (ज्वार, जौ, बाजरा, मक्का और सोयाबीन का सेवन करें।
Read More Articles On Ayurveda In Hindi
Disclaimer