रोजाना की ये 6 गलतियां बढ़ाती हैं एलर्जी और इंफेक्शन का खतरा, सेंसिटिव स्किन वाले रहें सावधान

प्राइवेट पार्ट्स के आसपास खुजली, रैशेज, त्वचा पर चकत्ते आदि स्किन इंफेक्शन के लक्षण हैं। SkinQure साकेत के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. बी. एल, जांगिड़ बता रहे हैं, स्किन केयर से जुड़ी 6 गलतियां जिनके कारण त्वचा के रोग और इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 09, 2019Updated at: Sep 09, 2019
रोजाना की ये 6 गलतियां बढ़ाती हैं एलर्जी और इंफेक्शन का खतरा, सेंसिटिव स्किन वाले रहें सावधान

अगर आपके हाथ-पैरों, जांघों या प्राइवेट पार्ट्स के आसपास रैशेज और खुजली की समस्या हो गई है, तो सावधान हो जाएं। रोजाना की ऐसी कई गलतियां हैं, जो त्वचा के इंफेक्शन (Skin Infection) और एलर्जी (Allergy) का खतरा बढ़ाती हैं। अगर आपकी त्वचा सेंसिटिव है, तो मौसम बदलने के साथ आपको त्वचा से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। मॉनसून में कई तरह के त्वचा रोगों का खतरा होता है। आमतौर पर इस मौसम में लोग बैक्टीरियल इंफेक्शन, एक्जीमा और एलर्जी के शिकार जल्दी होते हैं। सितंबर-अक्टूबर के महीने में वातावरण थोड़ा नम और थोड़ा गर्म होता है, जिसके कारण बैक्टीरिया ज्यादा पनपते हैं, ऐसे में अगर आप अपनी त्वचा का ठीक से ध्यान न रखें, तो आपको कई त्वचा रोग हो सकते हैं।

त्वचा का इंफेक्शन होने के संकेत (Signs of Skin Infection)

  • रूखी त्वचा
  • त्वचा से पपड़ी निकलना या पर्त निकलना
  • त्वचा पर लालपन और दाने
  • लगातार लंबे समय तक खुजली की समस्या
  • कई बार त्वचा पर जलन महसूस होना या चीटियां काटने जैसा महसूस होना।

त्वचा की समस्याओं का कारण? (Causes of Skin Infection)

  • मेकअप और ब्यूटी प्रोडक्ट्स से एलर्जी के कारण
  • त्वचा की ठीक तरह से साफ-सफाई न करने या गंदगी के कारण
  • मौसम में होने वाले बदलाव यानी वातावरण के कारण

ज्यादा देर न नहाएं

गुनगुने पानी में नहाने से आपके शरीर की थकान और आलस दूर हो जाते हैं और शरीर फ्रेश हो जाता है। मगर ज्यादा देर नहाने से आपकी त्वचा पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए गुनगुने पानी में 10 मिनट से ज्यादा देर तक न नहाएं। इसके अलावा यह ध्यान रखें कि गर्म पानी से नहाने से त्वचा की नमी खत्म होती है, इसलिए नहाने के बाद जल्द से जल्द मॉइश्चराइजर या बॉडी लोशन लगाएं।

ज्यादा साबुन न लगाएं

रोजाना पूरे शरीर को साबुन से धोने से त्वचा रूखी हो सकती है, जिसके कारण सेंसिटिव त्वचा वालों की समस्याएं बढ़ सकती हैं। इसलिए सप्ताह में 3-4 दिन ही पूरे शरीर पर साबुन लगाकर नहाएं। इसके अलावा साबुन का चुनाव करते समय ऐसा साबुन चुनें, जो आपकी त्वचा को मॉइश्चराइज करे। बाजार में कई ऐसे साबुन भी हैं, जो सेंसिटिव त्वचा के लिए स्पेशल बनाए जाते हैं। इनका प्रयोग करें।

कपड़े धोने वाला डिटर्जेंट पाउडर चेक करें

अगर आपको अक्सर त्वचा पर समस्याएं दिखाई देती हैं, तो इसका जिम्मेदार कपड़े धोने वाला डिटर्जेंट भी हो सकता है। अगर आपकी त्वचा सेंसिटिव है, तो आपको ऐसे डिटर्जेंट से बचना चाहिए जो बहुत अधिक खुश्बूदार होते हैं या कपड़ों को मुलायम बनाने का दावा करते हैं। इन डिटर्जेंट्स में केमिकल्स और फ्रैग्रेंसेस का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे त्वचा की समस्याएं हो सकती हैं।

खुश्बू वाले ब्यूटी और मेकअप प्रोडक्ट्स से बचें

सेंसिटिव त्वचा के लिए तेज खुश्बू खतरनाक होती है। अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो आपको Fragrance-free स्किन केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसे लोगों को परफ्यूम, डिओड्रेंट, खुश्बू वाली क्रीम्स, खुश्बू वाले तेल, बॉडी लोशन आदि का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। बाजार में ऐसे कई ब्रांड्स हैं, जो सेंसिटिव त्वचा के लिए ये प्रोडक्ट्स अलग से बनाते हैं। आप उनका प्रयोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- फंगल इंफेक्शन और खुजली से राहत दिलाते हैं ये आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे

सिंथेटिक कपड़े और टाइप कपड़े पहनना

सिंथेटिक कपड़े पहनने या टाइट कपड़े पहनने के कारण भी त्वचा की समस्या बढ़ सकती है। नायलॉन, रेयॉन जैसे सिंथेटिक कपड़े सेंसिटिव त्वचा वालों के लिए खतरनाक हो सकते हैं। इसी तरह अगर आप बहुत ज्यादा टाइट कपड़े पहनते हैं, तो आपकी त्वचा तक हवा नहीं पहुंच पाती हैं और बैक्टीरिया तेजी से पनपते हैं, जो त्वचा रोगों का कारण बनते हैं।

सॉना बॉथ या स्टीम बाथ लेना

सेंसिटिव त्वचा वाले लोगों के लिए त्वचा को हाइड्रेट रखना बहुत जरूरी है। अगर आप सॉना बाथ या स्टमी बाथ लेते हैं, तो इसमें गर्म पानी या गर्म भाप का इस्तेमाल किया जाता है। इससे त्वचा की नमी खत्म हो जाती है और त्वचा ड्राई हो जाती है। ऐसे में आपके जांघों, जननांगों के आसपास बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण रैशेज और खुजली हो सकती है। इसलिए बाथ लेते समय सावधानी बरतें और सही से पानी पोंछकर त्वचा की नमी बनाए रखने के लिए मॉइश्चराइजर का प्रयोग करें।

-ये आर्टिकल डॉ. बी. एल, जांगिड़ (डर्मेटोलॉजिस्ट SkinQure साकेत) से प्राप्त इनपुट्स के आधार पर लिखा गया है।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer