मानसून आते ही गर्भवती महिलाओं के लिए बढ़ जाता है खतरा! प्रेग्नेंट महिलाएं इस मानसून रखें इन 5 बातों का ख्याल

मानसून आते ही कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है ऐसे में गर्भवती महिलाओं को हमेशा इन 5 बातों का ध्यान रखना चाहिए।         

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jun 23, 2020Updated at: Jun 23, 2020
मानसून आते ही गर्भवती महिलाओं के लिए बढ़ जाता है खतरा! प्रेग्नेंट महिलाएं इस मानसून रखें इन 5 बातों का ख्याल

मई-जून की भीष्ण गर्मी के बाद मॉनसून अक्सर तेज गर्मी से राहत दिलाता है, गंदगी और धूल को साफ करने में मदद  करता है, जिससे शहर सुंदर और हरा-भरा दिखता है। इसलिए मौसम में परिवर्तन के लिए खुश होना,  घर से बाहर पैर निकालना और इन दिनों में चाट के साथ गर्मागर्म चाय पीना आपको एक अभूतपूर्व अहसास देने में मदद करता है। हालांकि कई महिलाओं को अपनी गर्भावस्था के दौरान असुविधा हो सकती है, खासकर मानसून के महीनों में। आसमान में छाए बादलों के साथ, मॉनसून अपने साथ मच्छर जनित संक्रमण, डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, फ्लू , टाइफाइड, हेपेटाइटिस और '' निपा ''जैसे मच्छर जनित संक्रमणों, वायरल और बैक्टीरियल बीमारियां लाता है। गर्भवती महिलाओं में उनकी कम प्रतिरक्षा यानी की इम्यूनिटी के कारण ये बीमारियां अधिक गंभीर होती हैं, जिससे रक्तस्राव की प्रवृत्ति बढ़ जाती है और उन्हें कई गंभीर जटिलताओं के कारण कई प्रकार की परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं। इसलिए हम गर्भवती महिलाओं को कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिनके जरिए वे मानसून में खुद को  फिट रख सकती हैं और इन बीमारियों से दूर रह सकती हैं। तो आइए जानते हैं कौन से हैं ये तरीके।  

 pregnancy

हाइड्रेशन

बारिश के दौरान भी हाइड्रेटेड रहना आवश्यक है। तापमान में गिरावट अधिक तरल पदार्थ पीने की आपकी इच्छा को कम कर सकती है, लेकिन आर्द्रता को हराने के लिए अच्छी तरह से हाइड्रेट रहना बहुत आवश्यक है, क्योंकि ऐसा न करने से आप सिरदर्द और डिहाइड्रेशन से जुड़ी थकान का शिकार हो सकती हैं इसलिए हाइड्रेट जरूर रहें। उबला और ठंडा या शुद्ध पानी का सेवन प्रचुर मात्रा में करना चाहिए। बारिश के दौरान अन्य सुरक्षित विकल्प नारियल पानी, घर का बना नींबू पानी, मक्खन दूध या डिब्बाबंद जूस होंगे।       

इसे भी पढ़ेंः पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOD) के लक्षणों को कम और हार्मोन्‍स को संतुलित करने में मददगार है ये 4 बीज

डाइट

गर्भावस्था के दौरान किसी एक विशेष प्रकार के भोजन का मन करना असामान्य नहीं है। अपने सलाद में कच्ची सब्जियों से बचना और गर्भावस्था के दौरान कच्चे मांस, अंडे और समुद्री भोजन को ना कहना सबसे अच्छा है। इसके साथ ही अपने स्थानीय विक्रेता से आलू चाट खाने से बचें और बाहर का तला-भुना खाना खाने से दूर रहें। पालक और गोभी जैसी सब्जियां बहुत सारी गंदगी लिए हुए होती हैं और कई बार इन्हें स्वच्छ बहते पानी में धोने की जरूरत होती है। अच्छी तरह से धोने के बाद  ही इन्हें पकाया और खाया जाना चाहिए। स्वस्थ रहने के लिए फाइबर और प्रोटीन से भरपूर संतुलित भोजन लें। घर के पके हुए भोजन का कोई विकल्प नहीं है क्योंकि आप अपने भोजन को बनाने वाली सामग्री और स्वच्छता के बारे में जानते हैं।  

MONSOON

मच्छरों के खतरे से बचें

अपने घरों और बगीचे में ठहरे हुए पानी से बचें क्योंकि वे मलेरिया और डेंगू फैलाने वाले मच्छरों की नस्ल में मदद करते हैं। अपने घर में मच्छर प्रूफ करें। मच्छरों से बचने के लिए मच्छरदानी, रेपेलेंट, अपने घरों की खिड़कियों और दरवाजों या एयर कंडीशनिंग में जाली लगाएं।                 

इसे भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में भी मुंह की सफाई है जरूरी, जानें आपके ओरल हेल्थ का गर्भ में पल रहे शिशु पर कैसा पड़ता है प्रभाव

कपड़े और जूते

ढीले-ढाले आरामदायक कपड़े सूती कपड़े मच्छरों से आपको सुरक्षा प्रदान करेंगे और आर्द्रता को हराने में मदद करेंगे। सिंथेटिक कपड़े और तंग कपड़े पहनने से बचें क्योंकि वे असुविधा और चकत्ते पैदा कर सकते हैं। खूबसूरत मौसम के बीच बाहर रहने की इच्छा, आरामदायक, सपाट फुटवियर के साथ मिल सकती है और ये आपको फिसलन और अचानक गिरने से बचा सकती है। शहरों में सड़कों पर गड्ढे में गिरने की समस्या आम है इसलिए मानसून में बाहर निकलते वक्त फुटवियर का ध्यान जरूर रखें। 

स्वच्छता

हाथों की स्वच्छता और स्वच्छ पेयजल, पानी से होने वाली बीमारियों जैसे हेपेटाइटिस ए, ई और टाइफाइड को रोकने का काम करती हैं, जिनमें से कुछ गर्भवती महिला के लिए घातक हो सकती हैं। प्रत्येक भोजन से पहले दिन में कई बार अपने हाथों को धोना और स्वच्छ पानी के साथ बाकी कमरों का उपयोग करने के बाद अच्छे हाथ स्वच्छता का एक अनिवार्य हिस्सा है। 

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer