आपके पाचन तंत्र (Digestive System) के बारे में आपको जरूर जाननी चाहिए ये 5 बातें, ताकि गड़बड़ हो तो चल जाए पता

जानें पाचनतंत्र के बारे में 5 ऐसी बातें, जिन्हें जानने के बाद आपको खुद ही पता चल जाएगा कि आपका पाचन कब खराब है और कब ठीक है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Sep 04, 2020 10:04 IST
आपके पाचन तंत्र (Digestive System) के बारे में आपको जरूर जाननी चाहिए ये 5 बातें, ताकि गड़बड़ हो तो चल जाए पता

मलेरिया और डेंगू दिवस 2023: बुखार के कारण, लक्षण और रोकथाम गाइड - Onlymyhealth

पाचनतंत्र हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। लेकिन अफसोस कि लोग जितना ध्यान अपनी स्किन, अपने बालों और चेहरे पर देते हैं, उतना ध्यान पाचनतंत्र पर नहीं देते हैं। जबकि मजेदार बात ये है कि अगर पाचनतंत्र ठीक हो, तो आपकी स्किन, आपके बाल और आपका पूरा शरीर अपने आप ही स्वस्थ और सुंदर दिखेगा और आपको मंहगे-मंहगे ब्यूटी प्रोडक्ट्स, हेयर फॉल रोकने वाले शैंपू या मोटापा घटाने वाली डाइटिंग की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। कुल मिलाकर कहना कहना ये है कि पाचनतंत्र से हमारे शरीर के सभी अंग जुड़े हैं क्योंकि सभी अंगों को जीने के लिए और फंक्शन करने के लिए पोषक तत्व तो चाहिए ही, और ये पोषक तत्व खाने से मिलते हैं। लेकिन सिर्फ खाना खा लेना पर्याप्त नहीं, बल्कि खाने की प्रॉसेसिंग करके इससे पोषक तत्वों को अलग करने वाले और फिर अंगों तक भेजने वाले सिस्टम का सही होना जरूरी है। यही काम पाचनतंत्र करता है। तो आज हम आपको बता रहे हैं आपके अपने पाचनतंत्र के बारे में 5 जरूरी बातें, ताकि अगर कभी आपका पाचन गड़बड़ हो, तो आपको इसका पता आसानी से लग जाए।

digestive system

दिन में 3 बार से ज्यादा टॉयलेट जाना ठीक नहीं

आमतौर पर ज्यादातर लोगों को दिन में 1 या 2 बार मलत्याग (पॉटी करने) की आदत होती है और इतनी ही जरूरत पड़ती है। कई बार आदत के कारण या बिना कारण भी व्यक्ति दिन में 3 बार भी पॉटी जा सकता है। लेकिन अगर आपको किसी दिन 3 बार से ज्यादा बार टॉयलेट जाने की जरूरत पड़ रही है, तो इसका मतलब है कि आपके पाचनतंत्र में कोई गड़बड़ है। इसलिए ऐसे समय में आपको शरीर में होने वाली अन्य परेशानियों पर गौर करना चाहिए और डॉक्टर से मिलना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: पाचन से लेकर अच्छी इम्यूनिटी तक, आपकी 80% सेहत आपके आंतों से जुड़ी होती है, जानें इसे हेल्दी रखने के 5 उपाय

आपका दिमाग और आपकी आंतें आपस में कनेक्ट होती हैं

वैसे तो शरीर के सभी अंग किसी न किसी तरह से एक-दूसरे से जुड़े हुए ही हैं, लेकिन दिमाग और आंत का रिश्ता कुछ ज्यादा ही गहरा है। मतलब यह है कि इन दोनों अंगों के बीच आपसी बातचीत हमेशा जारी रहती है। आप जब तनाव में होते हैं तो आपके पाचनतंत्र पर बुरा असर पड़ता है और इसी तरह जब आपका पाचन खराब होता है, तो आपका मूड भी सही नहीं रहता है। इसलिए अगर आपको लगता है कि आपका पाचन पिछले कुछ दिनों से गड़बड़ है, तो संभव है कि इसका कारण मानसिक हो।

हार्ट बर्न जल्दी-जल्दी हो, तो गड़बड़ है पाचनतंत्र

हार्ट बर्न की समस्या आमतौर पर तब होती है जब आप बहुत अधिक तीखा और मिर्च-मसाले वाला भोजन कर लेते हैं। इसके अलावा कई बार खाना खाने के बाद तुरंत सो जाने से या फिर देर रात में मसालेदार चीज खाने से भी हार्ट बर्न की समस्या हो सकती है। लेकिन अगर आपके साथ ऐसा बहुत जल्दी-जल्दी होने लगे (सप्ताह में 2-3 बार) तो आपको अपने डॉक्टर से मिलकर इसकी जान करानी चाहिए। क्योंकि ये समस्या गैस्ट्रोएसेफेगल रिफलक्स डिजीज (GERD) का संकेत हो सकती है।

digestion tips

पेट के कैंसर से बचना है तो खानपान सही रखें

पेट या मलायशय का कैंसर इन दिनों युवाओं में बहुत तेजी से फैल रहा है। इसकी चपेट में आने वाले ज्यादातर लोग 20 से 40 साल की उम्र वाले हैं। मलाशय के कैंसर के कई कारण हैं, जिनमें सबसे आम हैं- जंक फूड्स का बहुत ज्यादा सेवन करना, शराब की लत, सिगरेट की लत, गतिहीन जीवनशैली आदि। इसलिए अगर आप पेट के कैंसर से बचना चाहते हैं तो अपने खानपान का ख्याल रखें और हेल्दी चीजें ही खाएं। जैसा कि ऊपर बताया जा चुका है कि अगर आप अपने पाचनतंत्र का ख्याल रखेंगे, तो आपकी स्किन अच्छी रहेगी, शरीर स्वस्थ रहेगा और बाल भी घने रहेंगे। और इससे आप कैंसर से भी बच सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: डाइजेस्टिव एंजाइम से भरपूर ये 5 फूड्स हैं कब्ज और अपच रोगियों के लिए फायदेमंद, हेल्दी रहेगा आपका पेट

फाइबर औ प्रोबायोटिक्स खाएं

पेट के लिए फाइबर बहुत जरूरी है क्योंकि फाइबर आंतों की गंदगी साफ कर देता है और पेट को देर तक भरा रखता है। इसके अलावा आंतों में मौजूद बैक्टीरिया की संख्या बढ़ाने के लिए आपको प्रोबायोटिक फूड्स का सेवन भी खूब करना चाहिए। इन दोनों तत्वों की पूर्ति के लिए- कच्चा सलाद, ताजे फल, सब्जियां, दाल, नट्स, बीज, दही, छाछ, योगर्ट, डोसा, इडली और ढेर सारे फर्टमेंटेड फूड्स आदि चीजें खाते रहें, ताकि आपका पेट स्वस्थ रहे। अगर आपको कब्ज हो रही है, तो आपके खाने में फाइबर की कमी है या डायरिया (दस्त या पेचिश) के लक्षण हैं, तो खाने में प्रोबायोटिक्स बढ़ाएं।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer