गर्मी में बॉडी को रखना है कूल और फिट तो रोजाना पीएं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्‍स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 30, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

गर्मी के मौसम में हमारी बॉडी को पानी ज्‍यादा आवश्‍यकता होती है। ऐसे में अगर शरीर में पानी की कमी हो जाए तो डिहाइड्रेशन की समस्‍या हो सकती है। अगर पानी की कमी दूर करने के लिए आप पैकेट बंद जूस, कोल्‍ड ड्रिंक आदि का सेवन करते हैं तो यह आपकी हेल्‍थ के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। इसकी जगह आप घर में बने आयुर्वेदिक शर्बत (ड्रिंक्‍स) का सेवन करें। ये आपको दिन भर तरोताजा रखेंगी साथ ही यह अंदर से फिट रखेंगे। इन्‍हें पीने से आपको किसी तरह का नुकसान भी नहीं होगा। यह पेट संबंधी विकारों को भी नष्‍ट करने की क्षमता रखते हैं। इसका सेवन कई प्रकार से फायदेमंद हो सकता है। तो चलिए आज हम आपको इस तपती गर्मी से राहत दिलाने के लिए आपको बता रहे हैं आयुर्वेदिक ड्रिंक्‍स और उन्‍हें कैसे बनाएं। 

आम का पना 

कच्‍चे आम और पुदीने की पत्तियों से बना यह खट्टा मीठा पेय गर्मियों की शान है। गर्मियों में बहुत ज्‍यादा लू चलने पर यह आपके शरीर को शीतलता व तरावट देगा और आपको गर्मी व लू से भी बचाने में मदद करता है। इसके अलावा यह शरीर के तापमान को स्थिर रखने में भी बहुत सहायक होता है। इसे बनाने के लिए कच्चे आम 2 से 3 मीडियम आकार यानी 300 ग्राम, भुना और पीसा जीरा 2 छोटा चम्मच, काला नमक स्वादानुसार, काली मिर्च एक चौथाई छोटा चम्मच, चीनी स्‍वादानुसार और पुदीने की 20-30 पत्तियां लेकर मिक्‍सर में पीस कर तैयार कर सकते हैं। आम पन्‍ना तुरंत एनर्जी देता है और भोजन में रुचि बढ़ाता है। यह एक स्वास्थ्यवर्द्धक पेय है। 

इसे भी पढ़ें : गर्मियों में मिलने वाले ये सस्ते फूड पेट की समस्याओं से दिलाते हैं छुटकारा

बेल का शरबत 

बेल में प्रोटीन, फॉस्फोरस, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, कैल्शियम, फाइबर, विटामिन सी, विटामिन बी पाया जाता है। यह दिमाग़ और दिल को मज़बूत करता है और पेट के लिये फायदेमंद होता है। बेल का शर्बत शरीर को ताज़गी से भर देता है और गर्मी की लू से बचाता है। इसीलिए गर्मी में बेल का शरबत पीना फायदेमंद होता है। इसे बनाने के लिए बेल के फल 02 नग, शक्कर 5 बड़े चम्मच, भुना जीरा 1 छोटा चम्मच और काला नमक 1 छोटा चम्मच ले लीजिए। इसके बाद सबसे पहले बेल को धो कर काट लें और एक बाउल में उसका गूदा निकाल लें। इसके बाद गूदे से लगभग 2 गुना पानी डालें और अच्छी तरह मसलें, जिससे पूरा गूदा पानी में घुल जाए। इसके बाद बेल के घोल को एक मोटे छेद वाली चलनी से छान कर फल के रेशे वगैरह निकाल दें। अब छने हुए रस में चीनी डालें और उसे घोल लें। उसके बाद काला नमक और भुना जीरा मिलाएं और अच्छी तरह से चला दें। लीजिए आपकी बेल का शरबत बनाने की विधि कम्‍प्‍लीट हुई।

खसखस का शरबत 

खसखस को आम बोल चाल में पोस्‍त का दाना भी कहते हैं। इसका शरबत गर्मियों के दिनों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। 100 ग्राम खसखस के दाने (Poppy Seeds), एक से डेढ़ गिलास शक्कर, कुछेक बूंदे हरा रंग और खस का एसेंस, 1 छोटा चम्मच साइट्रिक एसिड, पानी, आइस क्यूब लेकर रख लें। इसके बाद खसखस के दानों को करीब पांच-छह घंटे तक पानी में भिगो कर रख दें। अब पानी निथार कर इन्हें मिक्सी में बारीक पीस कर एक महिन कपड़े में रखकर पोटली बांध दें। शक्कर में 1 गिलास के करीब पानी डालकर उबालें व खसखस दाने की पोटली इसमें डाल दें व अच्छे से उबलने दें। इसके बाद शक्कर की दो तार की चाशनी बन जाने पर पोटली को निचोड़ कर बाहर निकाल लें। अब साइट्रिक एसिड, हरा रंग और खस का एसेंस डालकर अच्छे से मिश्रण मिला लें। ठंडा होने पर एयरटाइट बोतल में भर कर रख दें। लीजिए तैयार है मस्तिष्क को तरावट देने वाला खसखस का शर्बत। अब इसे घर आए मेहमानों को पेश करें।

इसे भी पढ़ें : भुने चने में होते हैं प्रोटीन और फाइबर, इस तरह खाने से घटता है मोटापा

फालसे शरबत 

फालसा जिसका वैज्ञानिक नाम grewia asiatica है। यह गाढ़े जामुनी रंग का फल लगभग काला और खट्टा-मीठा, बेर जैसा होता है और इससे गर्मियों में बढ़िया तरावटदार पेय तैयार किया जा सकता है। इसे बनाने के लिए सबसे पहले आप 500 ग्राम फालसे को 3 घंटे के लिए भिगोकर रख दें। इतना समय हो जाने के पश्चात अपने हाथ अच्छी तरह धोकर बेरियों को उसी पानी में मैश कर लें। भीगने के बाद बेरियाँ और भी नरम हो जाएँगी और उन्हें मैश करके उनका गूदा निकालना बहुत आसान होगा। जब मैश करने का यह काम अच्छी तरह हो जाए, उसमें शक्कर मिलाकर अच्छी तरह फिर से मैश करें। अब एक मोटी चलनी लें, जिसके छेद बहुत बारीक न हों, और इस मिश्रण को उसमें रखकर दबाएँ, जिससे उसका सारा रस निकाल आए। इस बात की चिंता न करें कि कुछ गूदा भी छलनी में से निकल गया है। दरअसल यह गूदा ही स्वास्थ्यकर होता है! बाकी के छूंछ को फेंक दें और फिर फालसे के इस तरह तैयार रस में दोनों प्रकार के नमक मिला दें। ऊपर से भुना जीरा पीसा हुआ शरबत में मिला दें। अब आप उसे फ्रिज में रखकर ठंडा कर सकते हैं या बर्फ के टुकड़े डालकर सर्व कर सकते हैं। 

छाछ है खास 

छाछ के बारे में कौन नहीं जानता है। यह किसी औषधि से कम नहीं है। गर्मियों के दिनों में छाछ सेहत के लिए बेहद ही फायदेमंद होती है। यह शरीर को ठंडक और स्फूर्ति देती है। गर्मी के दिनों में शरीर के तापमान को सही रखने के लिए दूध से बने पदार्थो का सेवन किया जाता है। इसलिए गर्मियों में लस्सी, श्रीखंड और छाछ का बहुत ज्यादा प्रयोग होता है, वैसे तो दही, पनीर दूध से बनी सारी चीज़े ही शरीर के लिए फायदेमंद हैं लेकिन छाछ सबसे अधिक लाभदायक है। छाछ को कुछ लोग मट्ठा भी बोलते हैं। यह एक बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक पेय है। छाछ में विटामिन ए, ब, सी, इ और के पाया जाता है। छाछ स्वास्थ्य पोषक तत्व जैसे लोहा, जस्ता, पोटेशियम आदि से भरा होता है। यह सभी मिनरल्स शरीर के लिए बेहद ही महत्वपूर्ण है। यदि आप खाना खाने के बाद एक गिलास छाछ में काला नमक मिलाकर पियें तो पाचन संबंधी सारी समस्याएं दूर हो जाती हैं। छाछ के उपयोग के अनेकों फायदे हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Healthy eating in Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES1132 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर