गर्मी के मौसम में आप भी होते हैं झुंझलाहट और तनाव का शिकार? जानें इसका कारण और समस्या दूर करने के उपाय

मौसम में तापमान बढ़ने के साथ कई लोगों में स्‍ट्रेस बढ़ जाता है, इसे समय पर ठीक करना जरूरी है वरना ये आपकी द‍िनचर्या को इफेक्‍ट कर सकता है

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Apr 02, 2021
गर्मी के मौसम में आप भी होते हैं झुंझलाहट और तनाव का शिकार? जानें इसका कारण और समस्या दूर करने के उपाय

क्‍या आप भी गर्मी के द‍िनों में तनाव और स्‍ट्रेस का श‍िकार हो जाते हैं? दरअसल हम से बहुत से लोगों पर गर्मी का असर बॉडी के साथ-साथ द‍िमाग पर भी होता है। तापमान बढ़ने के साथ वो च‍िड़च‍िड़े हो जाते हैं, स्‍ट्रेस में रहते हैं। मूड हर समय खराब रहता है। अगर आपके साथ या आपके आसपास क‍िसी के साथ ऐसे लक्षण नजर आते हैं तो आपको इसके कारण और उपाय जान लेने चाह‍िए। मौसम में गर्मी और ह्यूम‍िड‍िटी बढ़ने का असर मस्‍तिष्‍क पर पड़ता है। द‍िमाग को जब पर्याप्‍त ऑक्‍सीजन और हाइड्रेशन नहीं म‍िलता तो वो र‍िएक्‍ट करता है और नतीजन हमें ड‍िप्रेस, तनाव, गुस्‍से का अहसास होता है। ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के बोधिट्री इंडिया सेंटर की काउन्‍सलिंग साइकोलॉज‍िस्‍ट डॉ नेहा आनंद से बात की। डॉ नेहा ने बताया क‍ि समर स्‍ट्रेस एक आम श‍िकायत है ज‍िसमें मरीज तापमान बढ़ने के कारण ड‍िप्रेस फील करता है इसके कुछ कॉमन कारण है ज‍िन्‍हें आप ठीक करके स्‍ट्रेस से बच सकते हैं। 

stress in summers due to dehydration

1. गर्मि‍यों में स्‍ट्रेस का कारण पानी की कमी तो नहीं (Dyhydration in summers may cause stress)

गर्मी के द‍िनों में बॉडी में पानी की कमी से ऑक्‍सीजन का स्‍तर कम हो जाता है ज‍िस कारण स्‍ट्रेस हो सकता है। आपको खुद को हाइड्रेट रखना है। अगर बाहर हैं तो थोड़ी-थोड़ी देर में पानी पीते रहें। वहीं अगर घर से काम कर रहे हैं तो हर घंटे पानी पीना न भूलें। आपकी बॉडी हाइड्रेट रहेगी तो स्‍ट्रेस कम होगा। 

2. गर्मि‍यों में द‍िमाग तक ऑक्‍सीजन न पहुंचने से भी हो सकता है स्‍ट्रेस (Loss of Appetite can cause stress)

गर्मी के द‍िनों में तापमान बढ़ने से खाने की इच्‍छा नहीं होती और आप खाना कम कर देते हैं पर आपको हर थोड़ी देर में कुछ हेल्‍दी फूड खाना चाह‍िए, क्‍योंक‍ि गर्म‍ियों में बॉडी एनर्जी ज्‍यादा कंज्‍यूम करती है अगर आप खाना नहीं खाएंगे तो द‍िमाग तक ऑक्‍सीजन नहीं पहुंचेगा और आपको च‍िड़च‍िड़ाहट और स्‍ट्रेस होगा। इससे बचने के ल‍िए हेल्‍दी फूड और फाइबेर इंटेक यानी ताजे फल और सब्‍ज‍ियां लेते रहें। 

इसे भी पढ़ें- अगर आपको भी आता है बहुत ज्यादा गुस्सा तो दिमाग को तुरंत रिलैक्स करेंगी ये 5 टिप्स, आजमाएं और खुद देखें

3. गर्मि‍यों में सोएंगे नहीं तो द‍िनभर स्‍वभाव रहेगा च‍िड़च‍िड़ा (Trouble in sleeping during summers)

sleep during summers

गर्मियों में स्‍ट्रेस का कारण अन‍िंद्रा भी हो सकती है। तापमान बढ़ने से नींद न आने की समस्‍या आम है पर इससे आपको स्‍ट्रेस हो सकता है क्‍योंक‍ि न सोने से अगले द‍िन आपके पास एनर्जी नहीं होगी और काम पूरा न होने की सूरत में आपको च‍िंता हो सकती है इसल‍िए गर्मी के द‍िनों में जरूरी है क‍ि आप 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लें। 

4. द‍िन की शुरूआत जल्‍दी करने का स्‍ट्रेस (Early schedule in summers)

गर्मी के द‍िन आते ही द‍िनचर्या बदल जाती है, ऑफ‍िस और स्‍कूल टाइम‍िंग बदल जाते हैं, सुबह का रूटीन जल्‍दी स्‍टॉर्ट होता है। कुछ लोगों को अर्ली रूटीन से भी स्‍ट्रेस होता है क्योंक‍ि लंबे वक्‍त से वो अलग रूटीन में थे। इस समस्‍या से बचने के ल‍िए आपको समय पर सोने की आदत डालनी चाह‍िए। समय पर सोने से आपकी नींद जल्‍दी खुलेगी और आप फ्रेश द‍िन की शुरूआत कर सकते हैं। 

5. स्‍क‍िन प्रॉब्‍लम को लेकर स्‍ट्रेस (Skin problems can be a cause of stress)

स्‍क‍िन एलर्जी, एक्‍ने आद‍ि की समस्‍या गर्मी में ज्‍यादा होती है क्‍योंक‍ि आपकी बॉडी का तापमान हीट के अगेंस्‍ट काम करता है। इस कारण भी लोगों में और खासकर लड़क‍ियों या औरतों में स्‍ट्रेस हो सकता है। इससे बचने के ल‍िए आपको स्‍क‍िन को साफ रखना है, द‍िन में कई बार बॉडी की या चेहरे की सफाई करनी है। मुंह धोने से आपको ताजगी का अहसास होगा। 

इसे भी पढ़ें- क्या दुखी होने पर आप भी खुद को नुकसान पहुंचाते हैं? एक्सपर्ट से जानें ऐसे दुख की स्थिति से निपटने का तरीका

गर्मियों में इन तरीकों से दूर भागेगा स्‍ट्रेस (Tips to get rid of stress in summers)

drink water daily

  • पर्याप्‍त मात्रा में पानी प‍िएं। 
  • रोजाना कसरत करें। 
  • समय पर सोने की आदत डालें।
  • सुबह ही ताजी हवा में कुछ देर वॉक करें। 
  • फाइबर युक्‍त भोजन खाएं। 
  • बॉडी को साफ रखें। 

अगर आपको भी तापमान बढ़ने से स्‍ट्रेस की समस्‍या है तो डॉक्‍टर से संपर्क करना न भूलें। कई बार कंसल्‍ट करने से बड़ी परेशानी का हल आसानी से न‍िकल आता है इसल‍िए डॉक्‍टर से बात करें। 

Read more on Mind & Body in Hindi 

Disclaimer