गर्मी में 20 से 25 नहीं बल्कि इतना होना चाहिए आपके AC का टेम्परेचर, जानें अच्छी नींद के लिए सही रूम टेम्परेचर

गर्मी में हम अक्सर एसी का टेम्परेचर गलत सेट कर लेते हैं, जिस कारण हमारी नींद खराब हो जाती है, इसलिए सही तापमान जानना बहुत जरूरी है।    

 

सम्‍पादकीय विभाग
तन मनWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: May 29, 2020
गर्मी में 20 से 25 नहीं बल्कि इतना होना चाहिए आपके AC का टेम्परेचर, जानें अच्छी नींद के लिए सही रूम टेम्परेचर

थोड़ा देर से ही सही लेकिन गर्मी ने अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है। एक तरफ जहां कोरोनावायरस के डर से लोग घरों में रहने के लिए मजबूर हैं तो वहीं लगातार बढ़ रही गर्मी से राहत पाने के लिए एसी और कूलर का सहारा ले रहे हैं। कूलर में बार-बार पानी डालने की समस्या लोगों को एसी लगाने और चंद मिनटों में कमरे को ठंडा करने में मदद करती है। लेकिन बहुत से लोग गर्मी के कारण एसी का टेम्पेरेचर काफी कम कर देते हैं, जिसके कारण कभी-कभार वे ठंडा-गर्म जैसी समस्या का शिकार हो जाते हैं। मौसम में बदलाव के दौरान अगर आप बहुत जल्दी-जल्दी ज्यादा या कम तापमान में जाते हैं, तो आपको कई तरह की शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं।

 room

दरअसल गर्मियों में लंबे-लंबे और थका देने वाले दिनों में अपनी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ के बीच सही संतुलन बिठाने के लिए हम सभी रात में अच्छी नींद या बेहतर तरीके से सोने का प्रयास करते हैं। रोजाना रात  को 6 से 7 घंटों की अच्छी नींद न केवल हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है बल्कि ये हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी  बहुत ज्यादा जरूरी होती है। अब जरा कल्पना कीजिए आप बहुत ज्यादा थके हुए हैं और किसी तरह अपने सभी काम को पूरा कर चैन की नींद सोना चाहते हैं। लेकिन जैसे ही आप सोने के लिए बिस्तर पर जाते हैं आप एक पल भी पलक नहीं झपका पाते। 

अगर आपने अपने कमरे में एसी लगाया हुआ है और अगली दवा जब भी ऐसी किसी स्थिति में फंस जाते हैं, जिसमें आपकी थकी हुई है लेकिन बंद होने का नाम नहीं ले रही तो अपने कमरे का तापमान एडजस्ट करिए और देखिए कमाल। ऐसा करने से आपको जल्द ही नींद आ जाएगी और आप पहले से बेहतर तरीके से सो पाएंगे।      

इसे भी पढ़ेंः मानसिक शांति के लिए जरूरी है पर्सनल स्पेस, जानें लॉकडाउन में सबके बीच अपने लिए पर्सनल स्पेस बनाने का तरीका

क्या होना चाहिए का आइडियल टेम्परेचर   

साइंस के मुताबिक, रात के वक्त हमारे बेडरूम में लगे एसी का तापमान करीब 67 डिग्री फेहरेनाइट यानी की 19 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए। ये तापमान न तो ज्यादा ठंडा होता है और न ही ज्यादा गर्म इसलिए इस तापमान पर सोना आपके लिए ज्यादा आसान होता है और आपको नींद भी अच्छी आती है। 

हमारी नींद को कैसे प्रभावित करता है रूम का टेम्परेचर 

हममें से ज्यादातर लोग इस बात को बिल्कुल भी नहीं जानते होंगे लेकिन हमारे कमरे का तापमान यानी की रूम टेम्परेचर रात में हमारी मीठी सी नींद को खराब कर सकता है और हमें बार-बार करवट तक बदलने पड़ सकती है। हालांकि कुछ लोगों के लिए अच्छी नींद पाने का तरीका सोने से पहले अपने रूम टेम्परेचर को सेट करना होना चाहिए। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारा शरीर रात को सोने से पहले ठंडा होना शुरू कर देता है। शरीर के ठंडा होने की प्रक्रिया तब तक जारी रहती है जब तक ये सुबह 5 बजे तक अपने निम्न बिंदु पर नहीं पहुंच जाता।           

roomac      

दरअसल हमारी त्वचा के नीचे मौजूद रक्त वाहिकाओं का विस्तार कर हमारा शरीर ठंडा हो जाता है। अगर सोते समय कमरे का तापमान बहुत अधिक गर्म या बहुत ठंडा होता है, तो यह हमारी नींद को बाधित करते हुए शरीर के आंतरिक तापमान को प्रभावित करता है। इसलिए ठंडा कमरा हमारे शरीर को आसानी से सेटल होने और रात भर शांति से सोने में मदद करता है। वहीं बात करें शिशुओं की तो उन्हें वयस्कों की तुलना में थोड़ा अधिक कमरे के तापमान की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन वे फिर भी इसे मैनेज कर सकते हैं कि क्या उन्होंने पूरे कपड़े पहने होते हैं।  

इसे भी पढ़ेंः    कहीं आपके फर्निचर पर न रह जाए कोरोनावायरस, जानें घर के फर्निचर को साफ करने के सही तरीके

अच्छी नींद के लिए आप और क्या कर सकते हैं

अपने कमरे के तापमान को एडजस्ट करने के अलावा आप ये सुनिश्चित करें कि आपके बेडरूम में अंधेरा और शांति हो। इसके अलावा आपका गद्दा आरामदायक होना चाहिए और विशेषकर गर्मी के मौसम में कॉटन बेडशीट का उपयोग करने का प्रयास करना चाहिए।

इन सभी कामों को करने के बाद भी, अगर आपको सोने में मुश्किल हो रही है तो मोजे पहनें और अपने पैरों के पास पानी की एक गर्म बोतल रखें। अगर आपको अक्सर सोने में दिक्कत हो रही है या फिर अक्सर आप दो-तीन घंटों के बाद जाग जाते हैं तो कुछ घरेलू उपचार आज़माएं या अपने चिकित्सक से परामर्श लें।    

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer