समय से पहले होने वाले बच्चों को होती हैं ये गंभीर समस्याएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 04, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • ऐसे बच्चों को प्रीमैच्योर भी कहते है।
  • रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है।
  • दिमाग के विकास पर असर होता है।

वैसे तो बच्चे के गर्भ में रहने का समय चालीस सप्ताह होता है, लेकिन 13 बच्चों में से हर एक बच्चा 37 सप्ताह से पहले असमय पैदा होता है। ऐसे बच्चों को प्रीमैच्योचर भी कहते है। समय से पहले पैदा होने के कारण उनका मानसिक विकास और सीखने की गति निर्धारित समय पर जन्में बच्चों के मुकाबले काफी धीमा होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों का विशेष ध्यान दिया जाता है। आइए हम आपको बताते है कि समय से पहले जन्में बच्चों को आम बच्चों के मुकाबले किन समस्याओं का सामना करना पडता है-

premature in hindi

इसे भी पढ़ें : समय से पहले जन्मे बच्चों में दमा का खतरा

रोग-प्रतिरोधक क्षमता में कमजोरी

जितनी जल्दी बच्चों का जन्म होता है, उतनी ही अधिक समस्या होती है। समय से पहले पैदा होने और निर्धारित वजन से कम होने कारण ऐसे बच्चों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता दूसरे बच्‍चों की तुलना में कम होती है जिससे उसे स्वास्‍थ्‍य संबंधी मुश्किलें अधिक आती हैं। वे अधिक बीमार पड़ते हैं यहां तक की मौसम में जरा सा भी उतार-चढ़ाव होते ही बीमार पड़ जाते हैं।

मानसिक बीमारी का खतरा

असमय पैदा हुए बच्चों में बाद के दिनों में मानसिक बीमारी भी हो सकती है। अगर बच्चे का जन्म नौ महीने पूरा होने से पहले हुआ है, तो हो सकता है कि बुढ़ापे में उन्हें किसी प्रकार की मानसिक बीमारी का सामना करना पड़े। कई अध्ययनों से यह बात सामने आई है कि समय से पूर्व जन्म लेने वाले बच्चों को द्विध्रुवी विकार, मानसिक अवसाद और मनोविकार की बीमारी हो सकती है और साथ ही सीजोफ्रेनिया, बाईपोलर डिसआर्डर और अवसाद जैसे मानसिक विकार होने का खतरा अधिक रहता है।


दिमागी क्षमता में कमजोरी

समय से पूर्व जन्में बच्चों के दिमाग के विकास पर असर रहता है, ऐसे बच्चों की दिमागी क्षमता अन्य बच्चों के मुकाबले थोड़ी कम हो सकती है। इस कारण ऐसे बच्चों के दिमागी विकास में भविष्य में कुछ समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती है। ऐसे बच्चों की स्मरण शक्ति और दिमागी क्षमता का पता भी बच्चे के करीब आठ वर्ष की आयु का हो जाने के बाद ही चलता है।

निर्धारित समय पर जन्में बच्चों को इन समस्याओं का सामना नही करना पडता, इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखकर समय से पूर्व जन्में बच्चों पर कुछ ज्यादा ही ध्यान दिया जाता है। मां-बाप को इससे चिंतित होने की जरुरत है क्योंकि ऐसे बच्चों में कुछ बीमारी हो जाने की आशंका बनी रहती है, इसलिए समय से पूर्व जन्में बच्चों के मां-बाप को इस बात ख्याल रखना चाहिए कि जैसे ही उनमें इसके कोई लक्षण दिखाई पड़े, तुरंत इसका इलाज करवाएं ताकि आगे चलकर यह कोई बड़ा रूप न ले ले।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Shutterstock.com

Read More Articles on Parenting in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1481 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर