नवजात को कैसे नहलायें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 08, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • शिशु को नहलाते समय विशेष सावधानी बरतें।
  • नहलाने से पहले नवजात के शरीर की मालिश करें।
  • बच्चे की गर्दन, हाथ-पैरों को अधिक साफ रखना चाहिए।
  • टब में बच्चे को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए।

नवजात शिशु के शारीरिक अंगों का आकार बहुत छोटा होता है और उनकी त्वचा भी बहुत कोमल होती है, इसलिए उनका विशेष ध्यान रखना पड़ता है, खासकर उनको नहलाते वक्त विशेष रूप से केयर करनी चाहिए, क्योंकि किसी भी प्रकार की लापरवाही आपके नवजात शिशु को नुकसान पहुंचा सकती है। आइए जानें बच्चे को नहलाने से पहले और नहलाने के बाद क्‍या करना चाहिए।  
newborn care in hindi

बच्चे को नहलाने से पहले मालिश करें

नवजात को नहलाने से पहले उनके शरीर की पूरी मालिश करनी चाहिए, ताकि उनका शरीर मजबूत हो और नहलाते समय उनको ठण्डे कम लगे, मालिश की इस विधि में तेल ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल होता हैा

बच्चे को नहलाना

जब तक नाभि का गर्भ नाल पूरी तरह से सूखा ना हो, तब तक बच्चे को केवल गुनगुने पानी से ही साफ करना ठीक रहता है। यह जरूरी नहीं है कि प्रतिदिन गुनगुने पानी का प्रयोग करें। बच्चे के चेहरे को तथा पेशाब व मलद्वार को साफ करके सूखा रखना आवश्यक होता है। बच्चे को टब में स्नान कराते समय इतना पानी लें जिससे बच्चे की कमर तक पानी रहे। स्नान कराते समय बच्चे को टब में उल्टा नहीं करना चाहिए, टब में बच्चे को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। बच्चे को कम समय तक स्नान करायें तथा बच्चे के शरीर पर साबुन का उपयोग न करें। बच्चे के गर्दन, हाथ-पैरों को अधिक साफ रखना चाहिए। नहलाने के बाद बच्चे के शरीर पर इत्र (परफ्यूम) का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

बच्चे के आंख और कान की साफ-सफाई करें

नहलाते समय बच्चे के कान में पानी को नहीं जाने देना चाहिए। इसलिए स्नान कराते समय दोनों कानों में रूई लगा देनी चाहिए। स्नान के बाद कानों की रूई बाहर निकालकर कान को सुखाना चाहिए। कानों में किसी भी प्रकार के तेल का उपयोग नहीं करना चाहिए। गुनगुने पानी में रूई को गीला करके आंखों को साफ करना चाहिए।

बच्चे के मलद्वार की सफाई

नहलाते समय बच्चे के मलद्वार को गुनगुने पानी या रूई से साफ करना चाहिए तथा किसी सूती कपड़े से उसे पोंछकर सुखा लेना चाहिए। सप्ताह में एक बार वेसलीन या क्रीम आदि का प्रयोग करना चाहिए। अधिक मात्रा में डाइपर का प्रयोग या अधिक समय तक मलद्वार का गीला बना रहना त्वचा के लिए हानिकारक होता है।

बच्चे के मुंह की सफाई

नहलाते समय बच्चे के मुंह की सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि उनकी आंखों या नाक में पानी ना चला जाए, सूती के कपड़े को पानी में अच्छी तरह से भीगों कर चेहरे एवं आंखों के आस-पास के हिस्से को साफ करें, जवान के अंदर गीले कपड़े को डाल कर उसे हल्के हाथों से रगड़ कर साफ करें,  

इन उपायों की मदद से आप नवजात को सही तरीके से नहला सकते हैं।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty
Read More Articles on Newborn Care in Hindi

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES54 Votes 18499 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर